logo-image

दिल्ली विधानसभा में बोले केजरीवाल, कहा- देश में विपक्ष के लिए सबसे बड़ा चैलेंज है AAP

केजरीवाल सरकार ने शनिवार को ध्वनि मत से दिल्ली विधानसभा में सदन का विश्वास जीत लिया. इस दौरान सीएम ने सभी विधायकों को मजबूती से साथ खड़े रहने के लिए सलाम किया और कहा कि इस देश में विपक्ष का सबसे बड़ा दावेदार आम आदमी पार्टी है.

Updated on: 17 Feb 2024, 11:06 PM

नई दिल्ली :

केजरीवाल सरकार ने शनिवार को ध्वनि मत से दिल्ली विधानसभा में सदन का विश्वास जीत लिया. इस दौरान सीएम ने सभी विधायकों को मजबूती से साथ खड़े रहने के लिए सलाम किया और कहा कि इस देश में विपक्ष का सबसे बड़ा दावेदार आम आदमी पार्टी है. इनको भविष्य का डर और खतरा केवल AAP से है. इसलिए ये लोग किसी भी तरह से हमें कुचलना चाहते हैं. सीएम ने कहा कि अगर 2024 में विपक्ष लोकसभा चुनाव नहीं हारी, तो 2029 के चुनाव में आम आदमी पार्टी इस देश को विपक्ष से मुक्ती दिलाएगी.

विपक्ष वालों का मुझे गिरफ्तार करने का एक सपना है. ये लोग मुझे गिरफ्तार तो कर लेंगे, लेकिन करोड़ों लोगों के आशीर्वाद को कैसे गिरफ्तार करेंगे. उन्होंने कहा कि आज देश में एक पाप की राजनीति चल रही है और एक पुण्य की राजनीति चल रही है. अब इस देश के लोगों को तय करना है कि उनको पाप की राजनीति चाहिए या पुण्य की राजनीति चाहिए.

उन्होंने कहा कि, विपक्ष वाले AAP विघायकों के पास आए उन्होंने कहा कि, केजरीवाल गिरफ्तार होने वाले हैं. आम आदमी पार्टी के 21 विधायक हमारे संपर्क में हैं, औरों से भी बात चल रही है, तुम भी आ जाओ, 25 करोड़ रुपए भी देंगे. इसके अलावा और भी जो मांगोगे, दे देंगे और चुनाव भी लड़ा देंगे. साथ ही सीएम ने कहा कि हर कोई हर वक्त टेप रिकॉर्डर लेकर नहीं घूमता, तो हम कैसे सबूत दें. 

सीएम ने कहा कि, विपक्ष केजरीवाल को तो गिरफ्तार कर लेगा, मगर केजरीवाल की सोच को कैसे गिरफ्तार करेगा? आज इन्होंने आम आदमी पार्टी पर हमला बोला हुआ है. कई नेताओं को गिरफ्तार कर लिया है, काम रोकने की कोशिश हो रही है. इस तरह का आक्रमण पहले कभी नहीं देखा गया. आज पूरे देश के अंदर विपक्ष का सबसे बड़ा दावेदार आम आदमी पार्टी है.

उन्होंने कहा कि, हमारी सरकार जो काम कर रही है वो ये लोग नहीं कर सकते हैं. हमने बिजली फ्री, शिक्षा, बुजुर्गों की तीर्थयात्रा, महिलाओं का बस में सफर फ्री कर दिया, कच्ची कॉलोनियों में सड़कें, सीवर-पानी की लाइनें बिछवाने जैसे कई काम किए, जो ये नहीं कर सके इसलिए इन्होंने हमारे काम रोकने का काम शुरू कर दिया. 

सीएम केजरीवाल ने कहा कि ये लोग खुद को राम भक्त कहते हैं, भगवान राम ने कभी नहीं कहा था कि गरीबों की दवाइयां रोक दो. इन लोगों को गरीबों का पाप लगेगा. इनकी दुश्मनी केजरीवाल से है तो ये दिल्ली के दो करोड़ लोगों से क्यों बदला ले रहे हैं. सत्ता पाने के लिए क्या ये लोग किसी भी हद तक चले जाएंगे, कुछ भी करेंगे. 

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार का सर्विस विभाग इनके पास हैं, यानि अफसरों की ट्रांसफर और पोस्टिंग इनके पास है. सुप्रीम कोर्ट ने आदेश देते हुए बोला था कि ऐसे सरकार नहीं चल सकती, अफसरों पर मुख्यमंत्री का नियंत्रण होगा. इन्होंने कानून लाकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश को पलट दिया कि मुख्यमंत्री का नहीं, एलजी यानि केंद्र सरकार का नियंत्रण होगा.

सीएम ने कहा कि इन लोगों ने पूरी दिल्ली में पानी और सीवर का संकट पैदा कर रखा है. ये लोग दिल्ली को बर्बाद करना चाहते हैं. चारों तरफ सीवर का पानी बहने लग गया, पानी का संकट हो रहा है. ये लोग न सुप्रीम कोर्ट की मानते हैं और न हाईकोर्ट की मानते हैं.

इन्होंने हमें बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी. इतनी रेड के बाद भी इन्हें कुछ नहीं मिला. इन लोगों ने मनीष सिसोदिया, सत्येंद्र जैन और हमारे कई विधायकों के यहां रेड मारी लेकिन कहीं एक चव्वनी नहीं मिली. हमारी संपत्ति लोगों के दिलों ने अंदर है, बैंक अकाउंट में नहीं है. और हमारा बैंक अकाउंट लोगों के आंखों के अंदर है.

सीएम ने कहा कि एक पाप की राजनीति है और एक पुण्य की राजनीति है. इस देश को पाप की राजनीति चाहिए या पुण्य की, यह देश के लोगों को तय करना है. विपक्ष ने अफवाह फैला रखी है कि दिल्ली को केंद्र शासित राज्य बना देंगे और विधानसभा खत्म कर देंगे. हम यहां सत्ता के लिए नहीं आए हैं. हम यहां सेवा के लिए आए हैं. काम करते रहेंगे.

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, विपक्ष को आपके इस बेटे से दिक्कत है. आप लोगों ने मुझे बहुत प्यार दिया है. आप लोगों ने सुंदर नगरी की झुग्गियों से मुझे उठाकर इतने बड़े पद पर पहुंचा दिया. ये आपके बेटे को कुचलना चाहते हैं. लेकिन आप चिंता मत करना, मैं आपके साथ हूं. मैं आपके लिए मरते दम तक लड़ता रहूंगा. ये विधानसभा भंग भी कर दें, जितने षड़यंत्र करें. मैं सत्ता में रहूं या न रहूं, लेकिन मेरा जीवन दिल्लीवालों के लिए समर्पित है.

सीएम ने कहा कि मैं इस विश्वास प्रस्ताव का पूरी तरह से समर्थन करता हूं. हमारा एक भी विधायक नहीं टूटा. हमारे पास कुल 62 विधायक है. आज इस सदन में हमारे 54 विधायक मौजूद है, दो बीमार हैं, तीन शहर से बाहर हैं और दो विधायक मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन जेल में हैं, जबकि एक विधायक के यहां शादी है.