News Nation Logo
कोविड के खिलाफ लड़ाई में भी भारत और रूस के बीच सहयोग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में 85 फीसदी पात्र आबादी को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगा दी गई है: मनसुख मंडाविया दिल्ली में इस साल डेंगू से अब तक 15 मरीजों की मौत बीते 6 साल में डेंगू से मौत का सबसे बड़ा आंकड़ा शाही ईदगाह मस्जिद की जगह पर भव्य श्रीकृष्ण मंदिर के निर्माण के लिए संकल्प यज्ञ किया गया ओमिक्रोन के अलर्ट के बीच पटना में 100 विदेशियों की तलाश भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की

Bomb blast:मौत का मंजर याद कर 16 साल बाद भी कांप जाती रूह, इन घरों में नहीं मनाई जाती आज भी दीवाली

दिल्ली की सरोजनी नगर मार्केट में हुए खौफनाक बम ब्लास्ट को याद कर आज भी आंखें नम हो जाती है. 16 साल बीत जाने के बाद भी जिन लोगों ने ये हादसा देखा है उनकी आंखों में डर देखा जा सकता है.

News Nation Bureau | Edited By : Sunder Singh | Updated on: 29 Oct 2021, 05:23:24 PM
bomb56

file photo (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • दिल्ली की सरोजनी नगर मार्केट में आज ही के दिन हुआ था बम ब्लास्ट 
  • 50 लोगों गवां दी थी जान, 127 लोग हो गए थे घायल
  •  16 साल बाद नम आंखों से दी मृतकों को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि

नई दिल्ली :

दिल्ली की सरोजनी नगर मार्केट में हुए खौफनाक बम ब्लास्ट को याद कर आज भी आंखें नम हो जाती है. 16 साल बीत जाने के बाद भी जिन लोगों ने ये हादसा देखा है उनकी आंखों में डर देखा जा सकता है. बता दें कि य खौफनाक बम ब्लास्ट की चपेट में आकर 50 लोगों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था. जबकि 127 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे. आपको बता दें जिन लोगों ने हादसे में अपने परिजनों को खोया है, उनके घरों में आज भी दीवाली नहीं मनाई जाती. शुक्रवार को बम धमाके में मारे गए लोगों को नम आखों से श्रद्धांजलि अर्पित की गई.

यह भी पढें :अब महंगे पेट्रोल-डीजल से मिलेगी मुक्ति, सिर्फ 60 रुपए प्रति लीटर में दौड़ेगी गाड़ी

 आज से 16 साल पहले 29 अक्टूबर 2005 को सरोजिनी नगर मार्केट में बम ब्लास्ट हुआ था, जिसमें लगभग 50 लोगों की मौत हुई थी और 127 लोग घायल हुए थे. 16 साल बीतने के बाद भी बम धमाके में मारे गए लोगों के परिजन आज भी सरकार से मदद की गुहार लगा रहे हैं. घटना को हुए भले ही 16 साल बीत गए हैं लेकिन आज भी धमाके की वह गूंज पीड़ित लोगों के कानों में गूंजती रहती है. श्रद्धांजलि के इस कार्यक्रम में मृतक लोगों के परिजनों ने नम आंखों के साथ फूल चढ़ाया और मोमबत्ती जलाकर उन्हें याद किया. साथ ही बम धमाके के बारे में लोगों को बताया तो वे भी सिहर उठे.

मृतक लोगों के बच्चे आज 16 साल बीतने के बालिग हो चुके हैं. उनके ऊपर अपने बचे हुए परिवार के रोजी रोटी की जिम्मेदारी है. लेकिन इनका कहना है लगातार इतने सालों से सरकार से रोजगार की मांग करते करते थक गए हैं, लेकिन केंद्र या राज्य सरकार उन्हें नौकरी नहीं दे रही  है. वही धमाके को लेकर कई ऐसे पीड़ित है जिनको अभी भी मेडिकल उपचार की जरूरत है. साउथ एशियन फोरम फॉर पीपल अगेंस्ट टेरर के अध्यक्ष अशोक रंधावा लगातार बीते सालों से कोशिश करने के बाद कई बार कोर्ट के चक्कर लगाने के बाद पीड़ितों के मुआवजे का इंतजाम तो करवा दिए, लेकिन पीड़ितों का परिवार आज भी मेडिकल समस्या से जूझ रहा है. वहीं जिन्होंने अपने पूरे खानदान को खोया है वह अपनी रोजी रोटी के लिए सरकार से रोजगार की गुहार कर रहे हैं.

First Published : 29 Oct 2021, 05:21:52 PM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.