News Nation Logo
Banner

दिल्ली को प्रदूषण से बचाने के लिए 106 करोड़ नहीं खर्च कर पाए अरविंद केजरीवाल? बीजेपी ने लगाए गंभीर आरोप

बीजेपी का कहना है कि यदि मुख्यमंत्री केजरीवाल दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में एयरप्योरिफायर टावर लगवाए होते तो आज हालात इतने बुरे नहीं होते.

By : Sunil Chaurasia | Updated on: 15 Nov 2019, 04:55:17 PM
दिल्ली की प्रदूषित हवा

दिल्ली की प्रदूषित हवा (Photo Credit: न्यूज स्टेट ब्यूरो)

New Delhi:

दिल्ली सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद शहर की हवा में कोई सुधार देखने को नहीं मिला. 2 करोड़ की जनसंख्या वाले देश की राजधानी दिल्ली की हवा लगातार जहर उगल रही हैं, जिससे दिल्ली की जनता को कई तरह की बीमारियों का खतरा सता रहा है. दिल्ली की जहरीली हवा कि वजह से राजधानी की जनता को सांस लेने में दिक्कतें हो रही हैं. इतना ही नहीं आंखों में जलन के अलावा फेफड़ों की बीमारियों का भी खतरा बढ़ रहा है. दिल्ली की जहरीली हवा को लेकर सरकार की इस नाकामी पर बीजेपी (विपक्ष) को एक अच्छा-खासा मुद्दा भी मिल गया है. बीजेपी ने दिल्ली की जहरीली हवा को लेकर केजरीवाल सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं.

ये भी पढ़ें- इन ट्रेनों में चाय पीने के लिए खर्च करने होंगे 35 रुपये, खाने की कीमत में भी होगी भारी बढ़ोतरी

53 टावर पर खर्च होंगे कुल 106 करोड़ रुपये
बीजेपी का कहना है कि यदि मुख्यमंत्री केजरीवाल दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में एयरप्योरिफायर टावर लगवाए होते तो आज हालात इतने बुरे नहीं होते. बीजेपी ने अपने आरोपों में कहा कि पूरे दिल्ली शहर में अधिकतम 53 एयरप्योरिफायर टावर की जरूरत है. बीजेपी ने अपने आरोपों में कहा कि 53 एयरप्योरिफायर टावर की कुल कीमत करीब 106 करोड़ रुपये होती है, लेकिन केजरीवाल सरकार ने दिल्ली की जनता को साफ हवा देने के लिए 106 करोड़ रुपये भी खर्च नहीं किए.

दिल्ली सरकार ने सब्सिडी का प्रचार करने पर बहा दिए 80 करोड़ रुपये
दिल्ली बीजेपी ने अपने आरोपों में कहा है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शहर में मास्क बांटने के लिए 10 करोड़ रुपये खर्च कर दिए और इन मास्क को बांटने के लिए किए गए प्रचार के लिए अरविंद केजरीवाल ने 80 करोड़ रुपये खर्च कर दिए. हालांकि प्रचार के लिए खर्च किए गए 80 करोड़ रुपये में दिल्ली सरकार ने शहरवासियों को मुफ्त बिजली, पानी, डीटीसी में महिलाओं के फ्री सफर का भी विज्ञापन दिया है.

ये भी पढ़ें- नॉन स्टॉप क्रिकेट खेलने से बिगड़ रहा है खिलाड़ियों का मानसिक स्वास्थ्य, समाधान निकालना हुआ बेहद जरूरी

जानें क्या है एयरप्योरिफायर टावर
बता दें कि अभी हाल ही में चीन ने शांग्सी प्रांत में दुनिया का सबसे ऊंचा एयरप्योरिफायर टावर इंस्टॉल किया है. इसकी ऊंचाई करीब 100 मीटर है, जिससे हवा को साफ करने में काफी मदद मिलेगी. चीन में लगाया गया ये टावर प्रतिदिन दस मिलियन क्यूबिक मीटर हवा को साफ करेगा. ये टावर 10 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में प्रदूषण के स्तर को भी कम करने में काफी मदद करेगा. बता दें कि एयरप्योरिफायर टावर एक तरह की विशाल मशीन होती है जो बड़े स्तर पर हवा को साफ करता है. ये टावर अपने आस-पास के क्षेत्र की दूषित हवा को अपने अंदर खींचता है. ये टावर जहरीली हवा की गंदगी को अपने अंदर ही इकट्ठा कर लेता है और साफ हवा बाहर छोड़ता है.

First Published : 15 Nov 2019, 04:55:17 PM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.