News Nation Logo

BREAKING

Banner

पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के प्रति बदल गया अरविंद केजरीवाल ( Arvind Kejariwal) का नजरिया, जानें कैसे

केजरीवाल (Arvind Kejariwal) मोदी (PM Narendra Modi) सरकार और उसकी नीतियों के खिलाफ काफी मुखर रहे थे. पर..

By : Drigraj Madheshia | Updated on: 06 Oct 2019, 04:04:59 PM
पीएम नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल

पीएम नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल (Photo Credit: न्‍यूज स्‍टेट)

नई दिल्‍ली:

लोकसभा चुनाव के दौरान अप्रैल और मई में अपने ट्वीटर में कम से कम 20 बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का नाम ले चुके दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejariwal) ने चुनाव के बाद मोदी (PM Narendra Modi) -विरोधी ट्वीट (Tweet) करना बंद कर दिया है. केजरीवाल (Arvind Kejariwal) ने 15 अप्रैल से 15 मई तक जहां अपने ट्वीट (Tweet) में 21 बार (ज्यादातर ट्वीट (Tweet) हिंदी में) मोदी (PM Narendra Modi) का नाम लिया, वहीं उन्होंने मोदी (PM Narendra Modi) और मोदी (PM Narendra Modi) सरकार के खिलाफ भी कई ट्वीट (Tweet) किए.

आम आदमी पार्टी (आप) ने यहां तक कि मोदी (PM Narendra Modi) और पाकिस्तान के बीच रिश्ते पर प्रश्न पूछ लिया. केजरीवाल (Arvind Kejariwal) ने न सिर्फ मोदी (PM Narendra Modi) , बल्कि कई बार बीेजेपी (BJP) और नई दिल्ली में उसके लोकसभा प्रत्याशियों पर हमले किए.

यह भी पढ़ेंः महिला हेड कांस्टेबल का रेप करता रहा मौलाना, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप

केजरीवाल (Arvind Kejariwal) के ट्विटर पर 1.56 करोड़ फॉलोवर हैं. उन्होंने यह भी कहा था कि मोदी (PM Narendra Modi) दिल्ली में आप सरकार को कमजोर करने के लिए उनके विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रहे हैं. एक ट्वीट (Tweet) में उन्होंने अमित शाह पर हमला करते हुए कहा था कि 'चुनाव के बाद शाह गृहमंत्री बन जाएंगे.'

यह भी पढ़ेंः Alert: मेट्रों में करना चाहते हैं सफर तो इन चीजों को लेकर न जाएं

लोकसभा चुनाव के बाद केजरीवाल (Arvind Kejariwal) में बदलाव देखा जा सकता है. मुख्य बात यह थी कि केजरीवाल (Arvind Kejariwal) के मोदी (PM Narendra Modi) -विरोधी ज्यादातर ट्वीट (Tweet) हिंदी में थे और मोदी (PM Narendra Modi) पर हमला करते हुए उन्होंने उन्हें कभी टैग नहीं किया.

यह भी पढ़ेंः कैसे करें कन्‍या पूजन (Kanya Pujan), कितनी उम्र की कन्‍या का करें पूजन, विधि से लेकर शुभ मुहूर्त तक जानें सबकुछ यहां

हालांकि चुनाव के बाद उन्होंने मोदी (PM Narendra Modi) के संबंध में चार ट्वीट (Tweet) किए और सभी ट्वीट (Tweet) अंग्रेजी में किए, जिनमें दो बार उन्होंने मोदी (PM Narendra Modi) को ट्वीट (Tweet) भी किया.

यह भी पढ़ेंः इस 'रणचंडी' की दहाड़ सुनकर कांप जाएंगे आतंकियों और टुकड़े-टुकड़े गैंग के दिल, देखें CRPF की कांस्‍टेबल का Viral Video

लोकसभा चुनाव के बाद चार ट्वीट (Tweet) में पहला ट्वीट (Tweet) मोदी (PM Narendra Modi) के चुनाव जीतने पर उन्हें बधाई देने वाला था. केजरीवाल (Arvind Kejariwal) ने 23 मई को ट्वीट (Tweet) किया, "मैं नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को ऐतिहासिक जीत के लिए बधाई देता हूं और दिल्ली की जनता की भलाई के लिए उनसे सहयोग की उम्मीद करता हूं."

इसके बाद दूसरा ट्वीट (Tweet) उन्होंने 20 जून को किया, जब दोनों नेताओं की मुलाकात हुई. केजरीवाल (Arvind Kejariwal) ने कहा कि दिल्ली और केंद्र सरकार को साथ काम करना होगा, क्योंकि उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी के विकास के लिए दिल्ली सरकार का पूरा सहयोग करने का आश्वासन दिया है.

यह भी पढ़ेंः उप्र उपचुनाव : घोसी में सपा उम्‍मीदवार का पर्चा रद होने के बाद लड़ाई अब इनके बीच

शेष दो ट्वीट (Tweet) में मोदी (PM Narendra Modi) ने केजरीवाल (Arvind Kejariwal) को उनके जन्मदिन पर और केजरीवाल (Arvind Kejariwal) ने मोदी (PM Narendra Modi) को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं.

केजरीवाल (Arvind Kejariwal) में यह बदलाव काफी रोचक है, क्योंकि आप और मोदी (PM Narendra Modi) सरकार के बीच फरवरी 2015 में केजरीवाल (Arvind Kejariwal) के मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही तनाव रहा है.

केजरीवाल (Arvind Kejariwal) मोदी (PM Narendra Modi) सरकार और उसकी नीतियों के खिलाफ काफी मुखर रहे थे. भारतीय जनता पार्टी (BJP ) ने कहा कि आप प्रमुख बदल गए हैं, क्योंकि "केजरीवाल (Arvind Kejariwal) समझ गए हैं कि जनता मोदी (PM Narendra Modi) के साथ है."

यह भी पढ़ेंः महानवमी: 8 सिद्धियों को पाने के लिए करें मां सिद्धिदात्री की इस विधि से पूजा

बीेजेपी (BJP) की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा, "रंग बदलने में माहिर लोग मौसम के अनुसार ही काम करेंगे. उन्हें (केजरीवाल (Arvind Kejariwal) और आप) एहसास हो गया है कि मोदी (PM Narendra Modi) के खिलाफ खड़े होने का समय नहीं है. लेकिन लोग होशियार हैं. वे केजरीवाल (Arvind Kejariwal) की योजना जानते हैं."

उन्होंने कहा कि अब जब बीेजेपी (BJP) ने मोदी (PM Narendra Modi) के नेतृत्व में धमाकेदार जीत दर्ज की है तो "केजरीवाल (Arvind Kejariwal) ने अपने हाथ वापस खींच लिए हैं, क्योंकि उन्हें एहसास हो गया है कि जनता मोदी (PM Narendra Modi) और बीेजेपी (BJP) के साथ है."

यह भी पढ़ेंः मुंबई की आरे कॉलोनी (Aarey Colony) सुर्खियों में क्यों है, जानें मायानगरी के उबलने की पूरी कहानी

आप प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि जब मोदी (PM Narendra Modi) पहली बार प्रधानमंत्री चुने गए थे तो "मुख्यमंत्री (केजरीवाल (Arvind Kejariwal) ) और उप मुख्यमंत्री (मनीष सिसोदिया) उनसे मिलने गए थे. मुख्यमंत्री केंद्रीय मंत्रियों से मिलते रहे हैं, यह नई बात नहीं है कि केजरीवाल (Arvind Kejariwal) केंद्र सरकार के साथ मिलकर काम करने की कोशिश कर रहे हैं."

भारद्वाज ने कहा कि पार्टी और केजरीवाल (Arvind Kejariwal) मोदी (PM Narendra Modi) और केंद्र सरकार के साथ सकारात्मक संवाद करना चाहते हैं. अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejariwal) सरकार का कार्यकाल फरवरी 2020 में समाप्त हो जाएगा और कुछ महीनों में दिल्ली में चुनाव होने वाले हैं.

First Published : 06 Oct 2019, 03:44:18 PM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो