News Nation Logo

मजदूरों के पलायन पर केजरीवाल बोले- अगर आप शहर छोड़कर जाएंगे तो Covid-19 के मामले बढ़ेंगे, इसलिए

कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने प्रवासी मजदूरों को दिल्ली न छोड़ने का अनुरोध किया है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 28 Mar 2020, 05:46:49 PM
arvind kejarwial

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली :

कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने प्रवासी मजदूरों को दिल्ली न छोड़ने का अनुरोध किया है. उन्होंने कहा कि अगर लोग पलायन करेंगे तो कोविड-19 (COVID-19) के मामले बढ़ेंगे. आपको बता दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, भारत में अबतक कोरोना वायरस के 873 केस आ चुके हैं. इनमें से 19 लोगों की मौत और 149 नए मामले सामने आए हैं.

यह भी पढ़ेंःकोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- दुनिया में किसी भी वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल नहीं हुआ

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैंने अपने विधायकों से प्रवासी कामगारों को दिल्ली न छोड़ने का अनुरोध करने के लिए कहा है. हमने पलायन कर रहे मजदूरों के लिए खाने-पीने और रहने के इंतजाम किए हैं. मैं अपील करता हूं कि इस महामारी को रोकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा की गई तालाबंदी की पहल जरूरी है. अगर लोग पलायन करेंगे तो कोरोना वायरस के केस बढ़ेंगे.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- दुनिया में किसी भी वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल नहीं हुआ

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि दुनिया में किसी भी वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल नहीं हुआ है. गृह मंत्रालय कोरोना वायरस को मैनेज करने और लॉकडाउन को कामयाब बनाने के लिए प्रवासी मजदूरी की समस्या पर लगातार काम कर रहा है. इस पर राज्य सरकारें भी काम कर रहे हैं. राहत केंद्र बनाने पर भी काम हो रहा है. गृह मंत्रालय ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को आपदा फंड के उपयोग करने के लिए कहा है.

गृह मंत्रालय ने आगे कहा कि कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा रिस्क बुजुर्गों में है. खान-पान की चीजें महंगी हो रही हैं इसकी शिकायत पर गृह मंत्रालय काम कर रहा है. प्राइवेट सेक्टर भी आगे आया है और 44 लैब को परमिसीन दिया गया है. एक लाख से ज्यादा लोगों के टेस्ट की सुविधा उपलब्ध है. पहले दिन से कोरोना वायरस की जांच हो रही है. साथ ही टेस्टिंग गाइड लाइन भी जारी है.

यह भी पढ़ेंःचीन के वुहान से लौटे छात्र ने बताया अनुभव तो पीएम मोदी बोले- जेल नहीं है लॉकडाउन

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर रैंडम सैंपलिंग की अभी जरूरत नहीं है, क्योंकि रैंडम टेस्ट हो रहा है. प्रवासी मजदूरों की समस्या बड़ी है. इस समस्या के निदान करने की कोशिश जारी है. इसे लेकर गृह सचिव ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को चिट्ठी लिखी है, जो जहां है वहीं व्यवस्था की जाए. साथ ही हेल्प लाइन पर लोड ज्यादा होने से शिकायत आ सकती है.

उन्होंने कहा कि ये लड़ाई हम सब की है आप सब सहयोग करें. डॉक्टरों को आनलाइन ट्रेनिंग दी जा रही है. सीजीएचएस के मरीजों को 3 माह की दवाइयां दी जा रही हैं. डॉक्टरों के साथ नर्सिंग स्टाफ की भी ट्रेनिंग होगी. एआईआईएमएल में कोरोना के लिए एक केंद्र बनाया गया है. साथ ही राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भी फंड जारी करने के लिए कहा गया है. केंद्र सरकार ने 40 हजार वेंटिलेटर का आर्डर दिया है.

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 28 Mar 2020, 05:43:11 PM