News Nation Logo
ओमिक्रॉन पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी 66 और 46 साल के दो मरीज आइसोलेशन में रखे गए भारत में ओमीक्रॉन वायरस की पुष्टि कर्नाटक में मिले ओमीक्रॉन के 2 मरीज सीएम योगी आदित्यनाथ ने प. यूपी को गुंडे-माफियाओं से मुक्त कराकर उसका सम्मान लौटाया है: अमित शाह जहां जातिवाद, वंशवाद और परिवारवाद हावी होगा, वहां विकास के लिए जगह नहीं होगी: योगी आदित्यनाथ पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में देश में चक्रवात से संबंधित स्थिति पर हुई समीक्षा बैठक प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों का एयरपोर्ट पर RT-PCR टेस्ट किया जा रहा है: सत्येंद्र जैन दिल्ली में पिछले कुछ महीनों से कोविड मामले और पॉजिटिविटी रेट काफी कम है: सत्येंद्र जैन आंदोलनकारी किसानों की मौत और बढ़ती महंगाई के मुद्दे पर विपक्षी सांसदों ने राज्यसभा में नारेबाजी की दिल्ली में आज भी प्रदूषण का स्तर काफी खराब, AQI 342 पर पहुंचा बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बैठकर गाया राष्ट्रगान, मुंबई BJP के एक नेता ने दर्ज कराई FIR यूपी सरकार ने भी ओमीक्रॉन को लेकर कसी कमर, बस स्टेशन- रेलवे स्टेशन पर होगी RT-PCR जांच

Delhi Air pollution : एंटी स्मॉग टावर से सुधर सकती है दिल्ली की आबोहवा, लेकिन...   

देश की राजधानी दिल्ली में कनॉट प्लेस के नजदीक और आनंद विहार बस अड्डे के करीब 2 एंटी स्मॉग टावर बनाए गए हैं. इसका असर तकरीबन एक किलोमीटर की परिधि पर नजर आता है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 17 Nov 2021, 06:58:07 PM
antismog

एंटी स्मॉग टावर से सुधर सकती है दिल्ली की आबोहवा (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

Delhi Air pollution : देश की राजधानी दिल्ली में कनॉट प्लेस के नजदीक और आनंद विहार बस अड्डे के करीब 2 एंटी स्मॉग टावर (anti smog tower) बनाए गए हैं. इसका असर तकरीबन एक किलोमीटर की परिधि पर नजर आता है. सीपी के करीब एयर क्वालिटी इंडेक्स पीएम 2.5 में 100 के करीब है, जबकि पूरी दिल्ली का 360 से भी ज्यादा है. इससे यह साफ हो जाता है कि ऐसे टावर से प्रदूषण को कम करने में तो मदद मिलती है, लेकिन इसमें बिजली की खपत भी अच्छी खासी होती है.

गौरतलब है कि भारत में 60 प्रतिशत से अधिक बिजली का उत्पादन कोयले से होता है, जो अपने आप में प्रदूषण फैलने की बड़ी वजह है. दिल्ली के आसपास की 11 थर्मल पावर प्लांट में भी कोयले का ही इस्तेमाल होता है. एंटी स्मॉग टावर एक वैकल्पिक हल हो सकता है, लेकिन पराली और पटाखों के साथ दिल्ली के वाहनों की वजह से फोड़े प्रदूषण पर कठोर कार्रवाई करनी होगी. बयो फ्यूल, हाईड्रोजन, इलेक्ट्रिक व्हीकल तकनीक के जरिए ही प्रदूषण पर नियंत्रण संभव है.

आपको बता दें कि वहीं, सुप्रीम कोर्ट में प्रदूषण को लेकर सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने एनसीआर में केंद्र सरकार के वाहनों की संख्या बहुत अधिक नहीं है. जब भी वर्क फ्रॉम होम की बात आती है तो अधिक नुकसान होते है. वर्क फ्रॉम होम का सीमित प्रभाव होगा, इसलिए हमने कार पूलिंग की सलाह दी है. इस पर सीजेआई ने कहा कि प्रदूषण कम करने पर हमारा ध्यान है. आप सभी एक ऐसे मुद्दे को बार-बार उठा रहे हैं जो प्रासंगिक नहीं है. SC ने केंद्र से पूछा कि आखिर पटाखों पर बैन के बावजूद दीपावली पर पटाखे क्यों जलाएं गए. अब इस मामले की अगली सुनवाई 24 नवंबर को होगी.

First Published : 17 Nov 2021, 06:58:07 PM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो