logo-image
लोकसभा चुनाव

आनंद को नहीं आया BSP में 'आनंद', AAP के पूर्व मंत्री समेत विधायक और कई नेताओं ने थामा BJP का दामन

बता दें कि नई दिल्ली से बीएसपी के टिकट पर चुनाव लड़ने वाले राजकुमार आनंद को मायावती की पार्टी बीएसपी से ऐसा मोह भंग हुआ कि तीन महीने के भीतर ही वो बीजेपी में शामिल हो गए.  

Updated on: 10 Jul 2024, 02:49 PM

नई दिल्ली:

दिल्ली में आम आदमी पार्टी को बड़ा झटका लगा है. छतरपुर से विधायक करतार सिंह तंवर और दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री रहे राज कुमार आनंद ने बीजेपी का दामन थाम लिया है.  कुछ समय पहले ही राज कुमार आनंद आम आदमी पार्टी को छोड़कर बीएसपी में शामिल हुए थे. अब 10 जुलाई को दिल्ली में राजकुमार आनंद ने पत्नी वीणा आनंद के साथ पार्टी में शामिल हो गए. रत्नेश गुप्ता, सचिन राय, पूर्व विधायक वीना आनंद और AAP पार्षद उमेद सिंह फोगाट ने भी बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा और अरुण सिंह की मौजूदगी में इन सभी नेताओं ने बीजेपी ज्वाइन किया. इसके अलावा हिमाचल प्रदेश के आम आदमी पार्टी के कई नेताओं ने भी भगवा पार्टी का दामन थामा. बीजेपी में शामिल होने के बाद राज कुमार आनंद ने कहा कि केजरीवाल दलितों का अपमान करते है,दलितों के भावना का कभी सम्मान नही करते,तीर्थ यात्रा योजना में दलितों को कोई सहभागिता नहीं होती. 

केजरीवाल सरकार में मंत्री थे आनंद
बता दें कि नई दिल्ली से बीएसपी के टिकट पर चुनाव लड़ने वाले राजकुमार आनंद को मायावती की पार्टी बसपा से ऐसा मोह भंग हुआ कि तीन महीने के भीतर ही वो बीजेपी में शामिल हो गए. अप्रैल में राज कुमार आनंद ने पार्टी में भ्रष्टाचार का हवाला देते हुए मंत्रिमंडल पद से इस्तीफा दे दिया था. आनंद ने आम आदमी पार्टी के मुखिया पर भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. उसके बाद वो मायावती की पार्टी को ज्वाइन कर लिया.

हाल में हुए लोकसभा चुनाव में राज कुमार आनंद ने बीएसपी के टिकट से नई दिल्ली लोकसभा सीट से चुनाव भी लड़ा था, लेकिन करारी शिकस्त मिली. इसके बाद उन्होंने  बीएसपी छोड़ने का फैसला कर लिया. बता दें कि  आम आदमी पार्टी में राज कुमार आनंद पटेल नगर से विधायक थे. अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली कैबिनेट में वो समाज कल्याण और एससी/एसटी मंत्री रह चुके हैं, लेकिन शराब नीति घोटाला में मनीष सिसोदिया अरविंद केजरीवाल के नाम आने के बाद वो अलग हो गए.

छतरपुर विधायक ने भी दिया इस्तीफा

छतरपुर से आम आदमी पार्टी के विधायक करतार सिंह तंवर केजरीवाल का साथ छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए. तंवर ने पार्टी में लोकतांत्रिक मूल्यों की कमी और तानाशाही का आरोप लगाते हुए पार्टी से इस्तीफा दे दिया.