News Nation Logo

उपेंद्र कुशवाहा बीजेपी और नीतीश कुमार पर बरसे, बोले- अंत तक फंसाकर रखती है बीजेपी, नीतीश का एरोगेंस खतरनाक

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Mishra | Updated on: 19 Dec 2018, 01:43:06 PM
उपेंद्र कुशवाहा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

लोकसभा चुनाव के लिए सम्‍मानजनक सीट न मिलने के बाद राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA राजग) से किनारा करने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी के नेता उपेंद्र कुशवाहा बुधवार को बीजेपी पर जमकर बरसे. बीजेपी को खरी-खोटी सुनाते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने न्‍यूज नेशन (News Nation) से कहा, एनडीए में छोटी पार्टी और सोशल जस्टिस की बात करने वाले दलों की दुर्गति होती है. कुशवाहा ने कहा, हम तो समय रहते निकल गए. रामविलास पासवान की लोजपा की भी एनडीए में यही दुर्गति होने वाली है. उन्‍होंने कहा, नीतीश कुमार के एरोगेंस के चलते बिहार में एनडीए का बुरा हाल हो रहा है.

यह भी पढ़ें : NDA में फूट! चिराग पासवान ने सीट शेयरिंग को लेकर BJP को दी ‘घुड़की’

कुशवाहा ने कहा, अब सोचना राम विलास पासवान को है, वो बड़े नेता हैं. बीजेपी रणनीति के तहत आखरी वक़्त तक सहयोगियों को फंसाकर रखती है, ताकि उनके पास कोई चारा न बचे. कुशवाहा ने कहा, अब तक महागठबंधन में जाने का नहीं सोचा है. उन्‍होंने कहा, छोटी पार्टियां भी एक हो सकती हैं. यह भी एक विकल्‍प हो सकता है.

इससे पहले 10 दिसंबर को मोदी सरकार से इस्‍तीफा देने के बाद उपेंद्र कुशवाहा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत पूरी सरकार को जमकर कोसा था. उन्‍होंने बिहार की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री और एनडीए सरकार की आलोचना करते हुए कहा, बिहार को विशेष पैकेज की मांग पूरी नहीं हुई. बिहार के लिए मोदी सरकार ने कुछ नहीं किया. यहां तक कि जातीय गणना भी नहीं कराई गई. उपेंद्र कुशवाहा ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सामाजिक न्‍याय की दुहाई दी थी, लेकिन उन्‍होंने एक भी वादा पूरा नहीं किया. उन्‍होंने कहा, नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद बिहार के लोगों को लगा था कि उनके अच्‍छे दिन आ गए, लेकिन यह छलावा साबित हुआ. कुशवाहा ने कहा, लोगों की उम्‍मीद पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार खरी नहीं उतरी.

First Published : 19 Dec 2018, 01:42:57 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.