logo-image
लोकसभा चुनाव

संजय जायसवाल ने नीतीश और प्रशांत किशोर की खोल दी पोल, कहा - दोनों मिलकर रच रहें साजिश

संजय जायसवाल ने ये दोनों एक ही है और मिलकर जनता के खिलाफ साजिश रच रहें है. प्रशांत किशोर ने खुद स्वीकार किया है कि उन्होंने जिसे मुख्यमंत्री बनाया है. वे उनके लिए फंडिंग कर रहे हैं. जाहिर सी बात है कि इसमें सीएम नीतीश भी शामिल हैं.

Updated on: 27 Oct 2022, 12:28 PM

Patna:

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर बिहार में पदयात्रा पर निकले हैं. इस दौरन सरकार पर हमला बोलने का एक भी मौका वो नहीं छोड़ते हैं. सीएम नीतीश कुमार की पोल खोलते नजर आतें हैं. लेकिन बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने इस बार प्रशांत किशोर के जरिये सीएम नीतीश पर हमला बोला है. उन्होंने लोगों को ये बताया है कि ये दोनों एक ही है और मिलकर जनता के खिलाफ साजिश रच रहें है. प्रशांत किशोर के दिए गए एक बयान पर उन्होंने जवाब दिया है. उन्होंने कहा है कि प्रशांत किशोर ने खुद स्वीकार किया है कि उन्होंने जिसे मुख्यमंत्री बनाया है. वे उनके लिए फंडिंग कर रहे हैं. जाहिर सी बात है कि इसमें सीएम नीतीश भी शामिल हैं. ये दोनों रोज रात में बात करते हैं. बीजेपी के वोट को कैसे सेंध लगाया जाए इसकी साजिश रच रहे हैं.

संजय जायसवाल ने कहा है कि नीतीश कुमार इस बात से परेशान हैं कि राजद और जदयू के विलय के बाद उनके वोट छिटक गये हैं और वो सारे वोट भाजपा को नहीं जाएं इसीलिए उन्होंने प्रशांत किशोर को लगाया है. रोज रात को यह दोनों एक दूसरे से बात करते हैं और सुबह एक दूसरे के खिलाफ बयानवीर बनते हैं. उन्होंने कहा कि प्रशांत किशोर ने आखिर स्वीकार ही लिया कि महागठबंधन के खिलाफ वोटों के बंटवारे के लिए नीतीश कुमार पैसे दे रहे हैं. उन्होंने खुद ही कहा है कि जिन नेताओं के लिए उन्होंने कभी काम किया था और आज वह मुख्यमंत्री हैं, वह सब इनको पैसे देकर इस कार्यक्रम को आगे बढ़ा रहे हैं. नीतीश और तेजस्वी के गठबंधन के खिलाफ पूरे बिहार की जनता खड़ी है और इसलिए इनसे नफरत करने वाले वोटों के बंटवारे के लिए ही प्रशांत किशोर को लगाया गया है.

आपको बता दें कि, चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने बुधवार को कहा था कि पदयात्रा को सुचारू ढंग से चलाने के लिए जो खर्च हो रहा है. वह उन लोगों के पास से आ रहा है. जिनके लिए पिछले 10 वर्षों में उन्होंने काम किया है. उन्होंने कहा था कि वे ना तो सांसद हैं और ना ही विधायक. बिहार में कोई भी व्यक्ति यह कहने वाला नहीं है कि किसी से एक रुपया भी लिया हूं. पिछले 10 वर्षों में 11 चुनाव कराए हैं जिसमें से 10 में जीत हासिल हुई है. 6 राज्यों में वैसे मुख्यमंत्री हैं जिनको सीएम बनाने में हमने मदद किया है, उनसे कभी किसी से एक पैसा नहीं लिया लेकिन अब जरूरत पड़ी है तो ले रहे हैं. अब उनसे मदद ले रहें हैं और उनसे कह रहे हैं कि बिहार में एक प्रयास कर रहे हैं, उसमें मदद कीजिए.