News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

तेजस्वी का दावा, नीतीश ने नहीं मांगा इस्तीफा, RSS-BJP कर रही है साजिश

भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा है कि उनसे कभी इस्तीफा नहीं मांगा गया।

News Nation Bureau | Edited By : Jeevan Prakash | Updated on: 26 Jul 2017, 03:52:35 PM
लालू-राबड़ी के साथ तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

highlights

  • तेजस्वी यादव का दावा, नीतीश कुमार ने उनसे कभी नहीं मांगा इस्तीफा
  • तेजस्वी ने कहा, आरएसएस-बीजेपी महागठबंधन तोड़ना चाहती है
  • उप मुख्यमंत्री ने कहा, सुशील मोदी भी बिहारी नहीं हैं, वह बाहरी हैं, बाहरी लोग विकास नहीं चाहते

नई दिल्ली:

भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा है कि उनसे कभी इस्तीफा नहीं मांगा गया। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)-राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) महागठबंधन तोड़ना चाहती है।

उपमुख्यमंत्री ने कहा, 'अमित शाह ने कहा है कि बीजेपी की हर राज्य में सरकार होगी। ऐसे में उनकी कोशिश है की गठबंधन टूटे।'

तेजस्वी यादव ने कहा, 'मुझसे कभी इस्तीफा नहीं मांगा गया। आरएसएस-बीजेपी महागठबंधन तोड़ना चाहती है। लोग इस साजिश को देख रहे हैं।'

यादव ने कहा, 'बाहरी लोग बिहार का विकास नहीं चाहते हैं। सुशील मोदी (पूर्व बिहार बीजेपी अध्यक्ष) भी बिहारी नहीं हैं। वह बाहरी हैं।'

इससे पहले राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने भी दावा किया था कि तेजस्वी से इस्तीफा नहीं मांगा गया।

आरजेडी विधानमंडल दल की के बाद लालू ने कहा, 'नीतीश कुमार ने तेजस्वी से कोई इस्तीफा नहीं मांगा है और ना ही कोई सफाई मांगी है। नीतीश महागठबंधन के नेता है और गठबंधन पूरी तरह सुरक्षित है।'

आरजेडी की बैठक के बाद शाम पांच बजे महागठबंधन में शामिल जनता दल (युनाइटेड) के विधानमंडल दल की बैठक भी बुलाई गई है।

तेजस्वी के इस्तीफे की क्यों हुई मांग?

सीबीआई ने लालू प्रसाद और बिहार के उपमुख्यमंत्री एवं उनके बेटे तेजस्वी यादव सहित उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है। सीबीआई ने सात जुलाई को पटना सहित देशभर के 12 स्थानों पर छापेमारी की थी।

यह मामला वर्ष 2004 का है, जब लालू प्रसाद देश के रेल मंत्री थे। आरोप है कि उन्होंने रेलवे के दो होटल को एक निजी कंपनी को लीज पर दिलाया और इसके बदले में उन्हें पटना में तीन एकड़ जमीन दी गई।

भ्रष्टाचार के मामले में प्राथमिकी दर्ज होने के बाद जद (यू) ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बेदाग छवि का हवाला देते हुए तेजस्वी से जनता के सामने आरोपों पर तथ्यों के साथ सफाई देने की मांग रखी है।

इसे लेकर दोनों दलों के नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। इधर, आरजेडी स्पष्ट कर चुका है कि सभी आरोपों का जवाब सही समय पर और सही जगह पर दिया जाएगा।

और पढ़ें: इराक से लापता 39 भारतीयों पर बोली सुषमा स्वराज, बिना सबूत नहीं मानेंगे मृत

First Published : 26 Jul 2017, 03:46:56 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.