logo-image
लोकसभा चुनाव

बिहार में लॉकडाउन का अनुपालन कराने गई पुलिस और प्रशासन की टीमों पर हमला, 17 कर्मी घायल

पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम पर किए गए हमले और पथराव में दाउदनगर के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, दो थानाध्यक्ष समेत 11 लोग घायल हो गए.

Updated on: 16 Apr 2020, 10:26 AM

औरंगाबाद:

बिहार (Bihar) के औरंगाबाद और पूर्वी चंपारण जिलों में स्वास्थ्य जांच करने व लॉकडाउन (Lockdown) का अनुपालन कराने गयी स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिस एवं प्रशासन की टीम पर ग्रामीणों ने बुधवार को हमला कर दिया जिसमें 17 सरकारी कर्मी घायल हो गए. औरंगाबाद जिले के गोह थाना अंतर्गत एकौनी गांव में स्क्रीनिंग करने गयी स्वास्थ्य विभाग तथा पुलिस (police) की टीम पर असामाजिक तत्वों द्वारा किये गये हमले और पथराव में दाउदनगर के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, दो थानाध्यक्ष समेत 11 लोग घायल हो गये.

यह भी पढ़ें: बिहार में पैर पसार रहा कोरोना वायरस, संक्रमित मामलों की संख्या बढ़कर हुई 72

औरंगाबाद जिला जनसंपर्क पदाधिकारी धर्मवीर सिंह ने बताया कि इस मामले में अब तक 44 ग्रामीणों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस सूत्रों ने बताया कि इस हमले में आयुष चिकित्सक डॉ अर्जुन कुमार, एएनएम नीलू कुमारी, केयर मैनेजर अनूप कुमार मिश्रा एवं वाहन चालक सूरज कुमार घायल हो गये. घटना की सूचना मिलते ही गोह प्रखंड विकास पदाधिकारी संजय पाठक और गोह थानाध्यक्ष दल-बल के साथ एकौनी गांव पहुंचे और स्वास्थ्य कर्मियों को घायल अवस्था में इलाज के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गोह लाया गया जहां पर चारों घायलों को इलाज के लिए भर्ती कराया गया.

मेडिकल टीम पर हमले की सूचना मिलने पर दाउदनगर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी राजकुमार तिवारी के एकौनी गांव पहुंचने पर ग्रामीणों ने उन पर भी हमला कर दिया जिसमें राजकुमार और उनके अंगरक्षक पिंटू कुमार, अनुमंडल अधिकारी के अंगरक्षक रविरंजन कुमार, राजेश कुमार (सिपाही दाउदनगर), हसपुरा थानाध्यक्ष धनंजय कुमार सिंह, देवकुंड थानाध्यक्ष सुभाष कुमार सिंह और हसपुरा थाना के सिपाही संतोष कुमार घायल हो गये. घायलों को गोह प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया.

यह भी पढ़ें: दिल्ली के बाद बिहार के मरकज ने संकट में डाला, तबलीगी जमात में पहुंचे थे 640 लोग

चिकित्सकों ने राजकुमार तिवारी व उनके अंगरक्षक पिन्टू कुमार को जमुहार रेफर कर दिया है. वहीं अन्य घायलों को सदर अस्पताल औरंगाबाद भेज दिया गया है. घटना के संबंध में प्रखंड विकास पदाधिकारी संजय पाठक ने बताया कि गांव में एक व्यक्ति बाहर से आया हुआ था. सूचना मिलने पर मेडिकल टीम जब कोरोना वायरस से संबंधित स्क्रीनिग के लिए गांव पहुंची, तो ग्रामीणों ने हमला बोल दिया. घटना में मेडिकल टीम का वाहन पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त हो गया है.

वहीं पूर्वी चंपारण जिले के अरेराज अनुमंडल के हरसिद्धि थाना अंतर्गत जागापाकड गांव में लॉकडाउन का अनुपालन कराने गई प्रशासन और स्वास्थ्यकर्मियों की टीम पर ग्रामीणों ने बुधवार को हमला बोल दिया. इस हमले में हरसिद्धि प्रखंड विकास पदाधिकारी सुनील कुमार, अनुमंडल अधिकारी के अंगरक्षक, तीन अन्य पुलिसकर्मी एवं प्रखंड स्वास्थ्य केंद्र के स्वास्थ्य मैनेजर घायल हो गए. जबकि ग्रामीणों द्वारा किए गए पथराव में प्रशासन की तीन गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गईं.

यह भी पढ़ें: Corona Lockdown को लेकर चौपाल लगाने पहुंचे BDO और पुलिस टीम पर हमला, ग्रामीणों ने बरसाए पत्थर

अरेराज अनुमंडल पदाधिकारी धीरेंद्र मिश्र ने बताया कि जागापाकड गांव में लॉकडाउन एवं सामाजिक दूरी बनाकर रखने के नियम का पालन नहीं किए जाने की शिकायत पर ग्रामीणों को जागरुक करने बुधवार को प्रखंड विकास पदाधिकारी स्वास्थ्यकर्मियों की टीम को लेकर उक्त गांव पहुंचे, जहां ग्रामीणों ने हमला बोल दिया. इस हमले की सूचना मिलने पर अरेराज अनुमंडल पदाधिकारी के पुलिस बल के साथ उक्त गांव पहुंचने पर ग्रामीणों ने उन्हें भी निशाना बनाया, जिन्हें बचाने के क्रम में उनके अंगरक्षक घायल हो गए.

अरेराज अनुमंडल पदाधिकारी ने बताया कि हमले में उनके वाहन सहित कुल तीन सरकारी वाहन क्षतिग्रस्त हो गए. उन्होंने बताया कि इस मामले हरसिद्धि प्रखंड विकास पदाधिकारी के बयान पर हमले में शामिल लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा.

यह वीडियो देखें: