News Nation Logo

'लव गुरु' प्रोफेसर मटुकनाथ को अपनी पत्नी को देना होगा गुजरा भत्ता, SC ने दिया आदेश

अपनी 30 साल छोटी स्टूडेंट के साथ रिलेशन को लेकर चर्चित बिहार के लव गुरु मटुकनाथ चौधरी को अपनी पत्नी को गुजरा भत्ता देना होगा।

News Nation Bureau | Edited By : Ruchika Sharma | Updated on: 18 Apr 2018, 01:11:26 PM
प्रोफेसर मटुकनाथ और जूली

नई दिल्ली:  

अपनी 30 साल छोटी स्टूडेंट के साथ रिलेशन को लेकर चर्चित बिहार के लव गुरु मटुकनाथ चौधरी को अपनी पत्नी को गुजरा भत्ता देना होगा। 

प्रोफेसर मटुकनाथ ने अपनी पत्नी आभा के साथ मामले को सुलझा लिया है। प्रोफेसर ने सुप्रीम कोर्ट में आश्वासन दिया कि वह वेतन और पेंशन का एक-तिहाई हिस्सा पूरी जिंदगी अपनी पत्नी को देंगे।

मटुकनाथ को अपनी पत्नी को वेतन का एक तिहाई हिस्सा देना होगा। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर यह आदेश दिया।

कोर्ट ने कहा कि विभाग सीधे ही इस रकम को काटकर पत्नी के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर सकता है। मटुकनाथ निचली अदालत के आदेश का पालन करते हुए दिसंबर 2018 तक बकाया राशि 8.5 लाख रुपये जमा कराएंगे।

पटना यूनिवर्सिटी में हिंदी प्रोफेसर मटुकनाथ 30 साल छोटी स्टूडेंट जूली के साथ प्रेम-प्रसंग को लेकर सुर्ख़ियों में आये थे।

और पढ़ें: स्वीडन के बाद पीएम मोदी पहुंचे UK, कॉमनवेल्थ समिट में लेंगे हिस्सा

मटुकनाथ की पत्नी आभा ने उस घर में छपा मारा था जहां प्रोफेसर जूली के साथ लिव इन में रह रहे थे। उनकी पत्नी ने जोड़े को रंगे हाथ पकड़ा था।

दोनों का प्रेम-प्रसंग सबके सामने आने के बाद मटुकनाथ के सम्बन्धियों ने उनके मुंह पर कालिख पोती थी और उनकी पत्नी आभा ने उन्हें घर से बाहर निकाल दिया था।

मटुकनाथ की पत्नी ने गुजरे भत्ते की सिफारिश की थी। 2014 में निचली अदालत ने प्रफेसर मटुकनाथ चौधरी को अपनी पत्नी को 25 हजार रुपये का गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया था।

मटुकनाथ को जब एरियर भुगतान किया गया था तो उन्होंने 2013 में वैलेंटाइन्स डे को जूली को कार गिफ्ट की थी। प्रोफेसर की पत्नी को जब उनके रिलेशन के बारे में पता चला तो उन्होंने मटुकनाथ को जेल भिजवा दिया था।

और पढ़ें: मेक इन इंडिया के मुरीद हुए स्वीडिश पीएम लवेन, भारत के साथ बढ़ाएंगे रक्षा साझेदारी

 

 

First Published : 18 Apr 2018, 01:10:07 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.