News Nation Logo
Banner

मेवालाल के इस्तीफे पर तेजप्रताप का तंज, बोले- पहली बॉल में मजबूत विकेट Back to pavilion

शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी के इस्तीफे पर बिहार में राजनीति तेज हो गई है. विपक्षी दल नीतीश कुमार पर सवाल उठा रहे हैं. इसी कड़ी में राजद नेता तेजप्रताप ने भी तंज कसा है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 20 Nov 2020, 11:04:15 AM
Tej Pratap Yadav

तेजप्रताप यादव (Photo Credit: फाइल फोटो)

पटना:

बिहार के शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने मंत्रालय का पदभार संभालने के एक घंटे बाद ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया. भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद चौधरी को मंत्री बनाए जाने को लेकर विवाद उत्पन्न हो गया था. राज्य की नीतीश कुमार कैबिनेट में एक मंत्री के तौर पर शपथ लेने के तीन दिन बाद ही चौधरी ने इस्तीफा दे दिया. अब उनके इस्तीफे पर भी बिहार में राजनीति तेज हो गई है. विपक्षी दल नीतीश कुमार पर सवाल उठा रहे हैं. इसी कड़ी में राजद नेता तेजप्रताप यादव ने भी मेवालाल के इस्तीफे पर तंज कसा है.

यह भी पढ़ें: शिक्षा मंत्री के इस्तीफे के बाद चढ़ा सियासी पारा, पक्ष-विपक्ष आमने-सामने

राजद नेता और हसनपुर से विधायक तेजप्रताप यादव ने ट्वीट कर मेवालाल पर अपने ही अंदाज में तंज कसा है. उन्होंने मेवालाल के इस्तीफे के पीछे विपक्ष की ओर बनाए जा रहे दबाव को अहम वजह बताया है. तेजप्रताप यादव ने ट्वीट किया, 'जियो मेरे खिलाड़ी, पहली बॉल में ही मजबूत विकेट को Back to pavilion कर दिया.' हालांकि इस दौरान तेजप्रताप ने मेवालाल के इस्तीफे का जिक्र नहीं किया.

इससे पहले मेवालाल के इस्तीफा पर तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री को कटघरे में खड़ा किया. उन्होंने शिक्षा मंत्री के इस्तीफे को नौटंकी बताते हुए असली गुनहगार मुख्यमंत्री को बताया है. तेजस्वी ने कहा, 'मुख्यमंत्री जी जनादेश के माध्यम से बिहार ने हमें एक आदेश दिया है कि आपकी भ्रष्ट नीति, नीयत और नियम के खिलाफ आपको आगाह करते रहें. महज एक इस्तीफे से बात नहीं बनेगी. अभी तो 19 लाख नौकरी, संविदा और समान काम-समान वेतन जैसे अनेकों जन सरोकार के मुद्दों पर मिलेंगे.'

यह भी पढ़ें: अशोक चौधरी को शिक्षा मंत्री का अतिरिक्त प्रभार मिला, संभालेंगे अब ये 3 विभागों का काम

उन्होंने आगे कहा, 'मैंने कहा था ना आप थक चुके हैं इसलिए आपकी सोचने-समझने की शक्ति क्षीण हो चुकी है. जानबूझकर भ्रष्टाचारी को मंत्री बनाया. थू-थू के बावजूद पदभार ग्रहण कराया. घंटे बाद इस्तीफे का नाटक भी रचाया.' उन्होंने मुख्यमंत्री को असली गुनाहगार बताते हुए आगे कहा, 'असली गुनाहगार आप हैं. आपने मंत्री क्यों बनाया? आपका दोहरापन और नौटंकी अब चलने नहीं दी जाएगी?'

दरअसल, मेवालाल चौधरी पर भ्रष्टाचार का आरोप है. वह बिहार कृषि विश्वविद्यालय, भागलपुर में शिक्षकों और तकनीशियनों की नियुक्ति में कथित अनियमितता के पांच वर्ष पुराने एक मामले में आरोपी हैं. मेवालाल चौधरी का नाम 2017 में भागलपुर जिले के बिहार कृषि विश्वविद्यालय में सहायक शिक्षकों और कनिष्ठ वैज्ञानिकों की नियुक्तियों में अनियमितता से संबंधित दर्ज एक प्राथमिकी में आया था. 2010 में विश्वविद्यालय की स्थापना के बाद उन्हें कुलपति के तौर पर उस समय नियुक्त किया गया था.

यह भी पढ़ें: नीतीश मंत्रिमंडल से शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी का इस्तीफा, जानिए शिक्षक घोटाला का पूरा मामला 

मेवालाल चौधरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का करीबी माना जाता है. वह फिलहाल जदयू के सदस्य हैं. राज्य में हाल में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में तारापुर सीट से निर्वाचित हुए हैं. जिसके बाद उन्हें नीतीश के नेतृत्व वाली सरकार में शिक्षा मंत्री बनाया गया था. तभी से मेवालाल को लेकर राज्य में सियासी बवाल मचा हुआ है. मेवालाल चौधरी ने गुरुवार को ही शिक्षा मंत्री का पदभार ग्रहण किया था और कुछ ही घंटों में उन्होंने मंत्री पद से इस्तीफा भी दे दिया.

First Published : 20 Nov 2020, 11:04:15 AM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.