News Nation Logo

मकर संक्रांति पर 'दही-चूड़ा' भोज में चढ़ा सियासी रंग, जुटा NDA कुनबा

मकर संक्रांति के मौके पर कई राजनीतिक दलों द्वारा यहां बुधवार को 'दही-चूड़ा भोज' का आयोजन किया गया है.

Written By : रजनीश सिन्हा | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 15 Jan 2020, 04:03:34 PM
मकर संक्रांति पर 'दही-चूड़ा' भोज में चढ़ा सियासी रंग, जुटा NDA कुनबा

मकर संक्रांति पर 'दही-चूड़ा' भोज में चढ़ा सियासी रंग, जुटा NDA कुनबा (Photo Credit: Twitter)

पटना:

मकर संक्रांति (Makar Sankranti) के मौके पर कई राजनीतिक दलों द्वारा यहां बुधवार को 'दही-चूड़ा भोज' का आयोजन किया गया है. सत्ताधारी जनता दल (युनाइटेड) के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह की ओर से आयोजित दही-चूड़ा भोज में सियासी रंग भी खूब चढ़ा. इस भोज में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी सहित राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के नेता तो पहुंचे ही राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के विधायक फराज फातमी भी इसमें शामिल हुए. 

यह भी पढ़ेंः गांधी-अंबेडकर राष्ट्रप्रेमी थे, हिटलर और मोदी राष्ट्रवादी- राजद

इस मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार के लोगों को मकर संक्रांति की बधाई देते हुए कहा, 'मकर संक्रांति के मौके पर सभी लोगों को शुभकामना देते हैं. वशिष्ठ भाई को बधाई और धन्यवाद देता हूं, जो वर्षों से मकर संक्रांति के मौके पर सभी को चूड़ा-दही खिलाते हैं.' नीतीश कुमार ने कहा कि हम लोगों को बहुत जमाने से वशिष्ठ बाबू भोज देते रहे हैं. हम सब लोग इनके चूडा दही भोज में शामिल होते रहे हैं. आज का दिन बहुत महत्व रखता है. सूर्य उत्तरायण होता. लोग इसे बहुत ही पवित्र दिन मानते हैं. नीतीश ने कहा कि वशिष्ट बाबू के भोज में सिर्फ राजनीतिक जगत नहीं, बल्कि समाज के हर तबके के लोग भोज में शामिल होते रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः आजादी घटी, तानाशाही बढ़ी, लालू यादव ने बोला बिहार और केंद्र सरकार पर हमला

सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर नीतीश कुमाप ने पत्रकारों से कहा, 'आज का दिन आपस में प्रेम और सद्भावना का भाव होता है. आज उन विषयों पर चर्चा नहीं होनी चहिए, आपको जिस मुद्दे पर बात करनी है, 19 जनवरी के बाद बात कीजिए हम तैयार हैं.' इसके साथ ही सीएम नीतीश ने सभी लोगों से 19 जनवरी को मानव श्रृंखला में शामिल होने की अपील ही. उन्होंने कहा, 'मुझे उम्मीद है कि लोग अच्छी खासी संख्या में जरूर शामिल होंगे. जल जीवन हरियाली नहीं रही तो आने वाली पीढ़ी पर खतरा होगा. जल जीवन हरियाली अभियान के लिए 24 हज़ार 500 करोड़ से अधिक राशि की आवंटित है.'

यह वीडियो देखेंः

First Published : 15 Jan 2020, 03:47:51 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.