News Nation Logo

किसान महापंचायत में किसान आंदोलन को गांव-गांव फैला देने का लिया गया संकल्प

बिहटा में आयोजित महापंचायत को संबोधित करते हुए भाकपा-माले के महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा कि आज हम सहजानंद सरस्वती की जयंती पर यहां जमा हुए हैं, उनकी जो जीवन यात्रा थी, उस पर कुछ बात करनी आज बहुत जरूरी है.

IANS | Updated on: 11 Mar 2021, 10:29:44 PM
Kisan Mahapanchayat

किसान आंदोलन को गांव-गांव फैला देने का लिया गया संकल्प (Photo Credit: IANS)

highlights

  • अखिल भारतीय किसान महासभा और भाकपा-माले ने किसान दिवस के रूप में मनाया.
  • सहजानंद सरस्वती के आश्रम स्थल, बिहटा में किसान महापंचायत का आयोजन किया गया.
  • बिहार का यह आंदोलन उनके मुगालते को तोड़ देगा.

पटना:

आजादी की लड़ाई के दौरान जमींदारी प्रथा के खिलाफ किसानों को संगठित करने वाले महान किसान नेता स्वामी सहजानंद सरस्वती की जयंती पर गुरुवार को बिहार में अखिल भारतीय किसान महासभा और भाकपा-माले ने किसान दिवस के रूप में मनाया. सहजानंद सरस्वती के आश्रम स्थल, बिहटा में किसान महापंचायत का आयोजन किया गया, जिसमें किसान आंदोलन को गांव-गांव फैला देने का संकल्प लिया गया. इस किसान पंचायत में पार्टी के महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य, पार्टी के वरिष्ठ नेता स्वदेश भट्टाचार्य सहित कई प्रमुख किसान नेताओं ने भाग लिया.

इस मौके पर राज्य के अन्य जिला मुख्यालयों में भी किसान मार्च निकाला गया. मार्च के दौरान तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने, एमसपी को कानूनी दर्जा देने, एपीएमसी एक्ट पुनर्बहाल करने, छोटे व बटाईदार किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना का लाभ देने की मांग की गई.

यह भी पढ़ें : पंजाब में किसानों ने 169 दिनों के बाद रेल पटरियों पर धरना समाप्त किया

बिहटा में आयोजित महापंचायत को संबोधित करते हुए भाकपा-माले के महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा कि आज हम सहजानंद सरस्वती की जयंती पर यहां जमा हुए हैं, उनकी जो जीवन यात्रा थी, उस पर कुछ बात करनी आज बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा कि स्वामी जी ने किसानों की दुर्दशा देखी. कांग्रेस के लिए जमींदार ही किसान थे. सहजानंद ने असली किसानों की पहचान की और इसी स्थान पर 1929 में बिहार प्रदेश किसान सभा का गठन किया.

यह भी पढ़ें : ईवीएम हैकिंग की फेक न्यूज पर चुनाव आयोग सख्त, दर्ज कराया केस

सहजानंद ने कहा था कि जमींदारी से किसानों और अंग्रेजों से पूरे हिंदुस्तान की मुक्ति की लड़ाई साथ-साथ चलेगी. भट्टाचार्य ने कहा, "दिल्ली में जो किसान बैठे हैं, पूरे सम्मान के साथ उन्हें याद कर रहे हैं. उन्होंने कहा था कि जो अन्नदाता हैं, जो उत्पादन करने वाले हैं, वही इस देश के अंदर कानून बनाए, शासन का सूत्र मेहनतकशों के हाथ में हो, यह बहुत बड़ी लड़ाई है."

उन्होंने आगे कहा, "बिहार का यह आंदोलन उनके मुगालते को तोड़ देगा. आज के किसान महापंचायत से हमें संकल्प लेकर जाना है कि चल रहे देशव्यापी किसान आंदेालन में बिहार के गरीबों को उतना ही भागीदार बनाना है, जितना पंजाब के किसान आंदोलन इस आंदोलन में शामिल हैं." महापंचायत को स्थानीय नेताओं ने भी संबोधित किया. अंत में एक प्रस्ताव पास कर 18 मार्च के विधानसभा मार्च और 26 मार्च को होने वाले भारत बंद को सफल बनाने की अपील भी की गई.

 

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 11 Mar 2021, 09:46:59 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.