News Nation Logo

सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार शिक्षा में उल्लेखनीय योगदान के लिए मास्को में हुए सम्मानित

बिहार की चर्चित कोचिंग संस्था सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार को शिक्षा के क्षेत्र में अहम योगदान के लिए सोमवार को मास्को में सम्मानित किया गया। आनंद कुमार आईआईटी प्रवेश परीक्षा की तैयारी कराने के लिए पटना में आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों के लिए कोचिंग चलाते हैं।

IANS | Edited By : Saketanand Gyan | Updated on: 31 Jul 2017, 08:33:35 PM
सुपर-30 के संस्थापक आनंद कुमार (फाइल फोटो)

highlights

  • मास्को स्थित 'ओवरसीज बिहार एसोसिएशन' ने आनंद कुमार को किया सम्मानित
  • आनंद कुमार बिहार में सुपर 30 के जरिए शिक्षा के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव ला रहे

नई दिल्ली:

बिहार की चर्चित कोचिंग संस्था सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार को शिक्षा के क्षेत्र में अहम योगदान के लिए सोमवार को मास्को में सम्मानित किया गया। आनंद कुमार आईआईटी प्रवेश परीक्षा की तैयारी कराने के लिए पटना में आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों के लिए कोचिंग चलाते हैं।

सोवियत रूस में सांस्कृतिक और सामाजिक क्षेत्र में काम करने वाली 'ओवरसीज बिहार एसोसिएशन' ने आनंद के शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान को देखते हुए उन्हें मास्को में आयोजित एक समारोह में संगठन की 70वीं सालगिरह के मौके पर सम्मानित किया।

आनंद ने समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा, 'बिहार के लोग विलक्षण प्रतिभा के धनी होते हैं। किसी भी बिहारी में कर्म और संकल्पशक्ति दोनों होता है। अगर मजबूत इरादा कर ले तो बिहारी हर कार्य को सफलतापूर्वक कर सकता है।'

मास्को के वेगास हॉल में आनंद ने प्रवासी बिहारियों से अपील करते हुए कहा, 'प्रवासी बिहारियों की यह जिम्मेदारी है कि वे बिहारी प्रतिभा को निखारने के लिए जमीन तैयार करें। बिहारी छात्रों को अगर मौका मिले तो वे नई ऊंचाइयों को छूएंगे।'

और पढ़ें: नीतीश ने कहा-2019 में मोदी ही होंगे PM, जानिए 10 बड़ी खबरें

बिहार की राजधानी पटना में सुपर 30 के माध्यम से शिक्षा के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव लाने के लिए सतत प्रयत्नशील गणितज्ञ आनंद कुमार की इस संस्थान की लोगों ने काफी तारीफ की।

इस मौके पर एसोसिएशन के वक्ताओं ने कहा, 'आनंद कुमार बिहार में सुपर 30 के माध्यम से एक क्रांतिकारी बदलाव ला रहे हैं। प्रत्येक साल 30 गरीब समाज के बच्चों को मुफ्त में पढ़ाना, उनके खाने व रहने की व्यवस्था करना और उन्हें इस घनघोर बाजारवाद के दौर में बिना शुल्क लिए आईआईटी में प्रवेश दिलाना कोई साधारण कार्य नहीं है।'

एसोसिएशन के लोगों ने आनंद की तारीफ में कहा कि आनंद न केवल बच्चों का भविष्य गढ़ रहे हैं, बल्कि देश और दुनिया में एक नायाब और बेमिसाल उदाहरण भी पेश कर रहे हैं।

और पढ़ें: खराब हुए हालात, एक साल में 7% से घटकर 0.4% हुई कोर सेक्टर ग्रोथ रेट

First Published : 31 Jul 2017, 07:43:35 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.