logo-image
लोकसभा चुनाव

तेजस्वी यादव ने चिराग पासवान को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें क्या कहा?

बिहार में बढ़ती सियासी बयानबाजी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को खुले मंच से कहा कि, ''हम जब तक जिंदा रहेंगे, दलितों के आरक्षण को मुसलमान में नहीं जाने देंगे.'' अब इस बयान को लेकर बिहार में भी सियासत गरमा गई है.

Updated on: 01 May 2024, 05:57 PM

highlights

  • चिराग पासवान को लेकर तेजस्वी यादव ने दिए बड़ा बयान
  • 'वह संपन्न दलित हैं, उन्हें आरक्षण छोड़ देना चाहिए'
  • 'एमपी चुनने का अधिकारी भी नहीं दे रहे हैं'

Patna:

Lok Sabha Elections 2024: बिहार में बढ़ती सियासी बयानबाजी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को खुले मंच से कहा कि, ''हम जब तक जिंदा रहेंगे, दलितों के आरक्षण को मुसलमान में नहीं जाने देंगे.'' अब इस बयान को लेकर बिहार में भी सियासत गरमा गई है. बता दें कि पीएम मोदी के बयान को लेकर बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बुधवार (1 मई) को बड़ा बयान दिया है. तेजस्वी यादव ने कहा है कि, ''प्रधानमंत्री को जानकारी का अभाव है.'' वहीं आगे  तेजस्वी यादव ने कहा कि, ''अभी कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिया गया, लेकिन उन्हीं के विचारों का विरोध कर रहे हैं.''

यह भी पढ़ें: अजय निषाद ने किया 'इंडिया गठबंधन' की जीत का दावा, BJP को लेकर दिया बड़ा बयान

'कर्पूरी जी के निर्णय को गलत कहना उचित नहीं' - तेजस्वी यादव

आपको बता दें कि तेजस्वी यादव ने आगे कहा कि, ''जब पहली बार करपूरी ठाकुर जी मुख्यमंत्री बने थे, तो जितने भी सामाजिक और पिछड़ी जाति थे चाहे किसी भी धर्म के हों सबको पहली बार आरक्षण मिला था. जेडीयू के नेताओं से पूछिए वह इस पर क्या कहते हैं कर्पूरी जी के निर्णय को गलत कहना क्या उचित है. पहली बार आरक्षण मिला था चाहे किसी भी धर्म में सामाजिक तौर पर जो पिछड़ी जाति के हैं और मंडल कमीशन में भी 84 से 85 ऐसी पिछड़ी जातियां जो है उनको मिलने की सिफारिश हुई थी.''

तेजस्वी यादव ने चिराग पासवान पर भी साधा निशाना 

वहीं आपको बता दें कि चिराग पासवान के दिए गए बयान कि, ''2020 में अगर एक साथ लड़ते तो तेजस्वी यादव को दहाई आंकड़ा भी नहीं आ पाता.'' इसको लेकर आगे तेजस्वी यादव ने कहा कि, ''उनकी बातों को छोड़िए. चिराग पासवान बोलते हैं जो संपन्न दलित है उन्हें तो आरक्षण छोड़ देना चाहिए. तो फिर वे आरक्षण क्यों नहीं छोड़ते हैं .बेंगलुरु में जो हो रहा है, कर्नाटक में जो हो रहा है, उस पर नहीं बोल रहे है चिराग पासवान. बीजेपी के नेता बाबा साहब अंबेडकर के संविधान को खत्म करने का प्रयास कर रहे हैं तो मुंह नहीं खुल रहा है उनका.'' 

वहीं, आगे विजेंद्र यादव के दिए गए बयान कि, ''जमानत पर आप लोग घूम रहे हैं.'' इसको लेकर तेजस्वी यादव ने कहा कि, ''इसमें दिक्कत क्या है. उन्हीं ने फंसाया है. कोर्ट ने हमको जमानत दिया यही लोग फसाये थे. चार दिन पहले नीतीश जी कह रहे थे जानबूझकर ईडी और सीबीआई वाला उनके पीछे पड़ जाता है. अब फिर उनके पास चले गए हैं तो अलग बोली बोल रहा है.''

'एमपी चुनने का अधिकारी भी नहीं दे रहे हैं' - तेजस्वी यादव 

इसके अलावा आपको बता दें कि तेजस्वी यादव ने आगे कहा कि, ''इतना खतरनाक डिजाइन हो रखा है पूरे देश का .चंडीगढ़ में कितनी बड़ी बेईमानी हुई. बीजेपी को कैसे जिताया गया. सुप्रीम कोर्ट की फटकार को सुन रहे हैं क्या हुआ आखिर रद्द किया गया. इंदौर में जो व्यक्ति प्रत्याशी था उस पर तीन दिन पहले 307 का मुकदमा डाल करके उसको वापस कर लिया. सूरत में खरीद लिया गया. खजुराहो में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी का नामांकन रद्द कर दिया गया. ये लोग जनता को भी अपना एमपी चुनने का अधिकारी नहीं दे रहे हैं.'' बहरहाल, बिहार में लोकसभा चुनाव को लेकर बयानबाजी जारी है, लेकिन इन सबके बीच यह देखना दिलचस्प होगा कि बिहार में किसकी सरकार बनती है.