logo-image
लोकसभा चुनाव

लालू यादव को बड़ा झटका, ग्वालियर में RJD सुप्रीमो के खिलाफ वारंट जारी, जानें पूरा मामला

बिहार में बढ़ते सियासी घमासान के बीच बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को बड़ा झटका लगा है. लोकसभा चुनाव 2024 की तैयारियों के बीच मध्य प्रदेश के ग्वालियर MP/MLA कोर्ट ने लालू प्रसाद यादव के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है.

Updated on: 06 Apr 2024, 06:33 AM

highlights

  • ग्वालियर में बिहार के पूर्व सीएम लालू यादव के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी
  • बिहार के पूर्व सीएम लालू यादव की मुश्किलें बढ़ीं
  • MP-MLA कोर्ट ने जारी किया गिरफ्तारी वारंट

Patna:

Arrest Warrant Against Lalu Prasad Yadav: बिहार में बढ़ते सियासी घमासान के बीच बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को बड़ा झटका लगा है. लोकसभा चुनाव 2024 की तैयारियों के बीच मध्य प्रदेश के ग्वालियर MP/MLA कोर्ट ने लालू प्रसाद यादव के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है. वहीं ग्वालियर कोर्ट ने यह वांरट 'आर्म्स एक्ट' के मामले में जारी किया है. बता दें कि इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव को फरार घोषित कर दिया गया था. उस वक्त पुलिस की जांच में सामने आया था कि फर्जी दस्तावेजों के जरिए एक हथियार डीलर से हथियार खरीदे थे.

इसके साथ ही आपको बता दें कि, पुलिस को यह भी पता चला कि खरीदे गए हथियारों की सप्लाई कई जगहों पर की जा रही थी. बता दें कि उनके खिलाफ यह मामला एमपी-एमएलए कोर्ट में तब ट्रांसफर किया गया जब कोर्ट को यकीन हो गया कि दस्तावेज में जिस लालू यादव का जिक्र है वह बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री हैं. अब इस खबर ने बिहार के सियासी गलियारों में और हलचल मचा दी है.

यह भी पढ़ें: लालू यादव ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा- झूठ का अंबार मोदी सरकार  

लालू यादव के खिलाफ इस मामले में हुआ एक्शन

आपको बता दें कि मिली जानकारी के मुताबिक, ''साल 1995 और 1997 में फर्जी फॉर्म नंबर 16 (जो आर्म्स डीलर के लिए जारी होते हैं) को तैयार कर हथियारों की सप्लाई के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की गिरफ्तारी का वारंट जारी किया गया है. यहां फर्जीवाड़ा 23 अगस्त 1995 से लेकर 15 मई 1997 के बीच किया गया था.''

इसके साथ ही आपको बता दें कि कुल तीन फर्मों से हथियार और कारतूस खरीदे गए थे. इस मामले में लालू प्रसाद यादव सहित 23 आरोपियों के नाम शामिल हैं इसमें से 6 के खिलाफ ट्रायल चल रहा है, दो की मौत हो चुकी है, जबकि 14 फरार हैं. वहीं पुलिस ने इस मामले में जुलाई 1998 में चार्जशीट दाखिल की थी. अप्रैल 1998 में पुलिस ने लालू प्रसाद यादव के बेटे कुंद्रिका सिंह की फरारी का पंचनामा तैयार किया था, जबकि बिहार के पूर्व सीएम लालू प्रसाद यादव के पिता का नाम कुंदन राय है. ऐसे में यह मामला ग्वालियर एमपी-एमएलए कोर्ट में आ गया है, क्योंकि इसमें लालू प्रसाद यादव का नाम शामिल है. कुल मिलाकर ग्वालियर की एमपी-एमएलए कोर्ट से लालू यादव को बड़ा झटका लगा है.