News Nation Logo

बिहार: जीविका दीदियां कोरोना से बचने के लिए बना रही 'मास्क'

जीविका दीदियों के द्वारा कोविड-19 संक्रमण के प्रसार में प्रभावी रोकथाम वाले उच्चस्तरीय मानक वाले डबल लेयर मास्क का निर्माण युद्धस्तर पर जारी है. कई जगहों पर जीविका दीदी द्वारा लगातार मास्क बनाया जा रहा है.

IANS | Updated on: 08 May 2021, 03:14:43 PM
Jeevika is making mask to escape corona

बिहार: जीविका दीदियां कोरोना से बचने के लिए बना रही 'मास्क' (Photo Credit: IANS)

highlights

  • गांवों में रहने वाले लोगों को कोरोना के संक्रमण से बचाने मास्क बांटा जा रहा है
  • सरकार द्वारा सभी घरों में छह-छह मास्क का वितरण किया जा रहा है
  • मास्क के निर्माण की जिम्मेदारी जीविका की महिलाओं को दिया गया है

पटना :

बिहार के गांवों में रहने वाले लोगों को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए सरकार द्वारा सभी घरों में छह-छह मास्क का वितरण किया जा रहा है. ऐसे में इन मास्क के निर्माण की जिम्मेदारी जीविका की महिलाओं को दिया गया है. पूर्णिया जिले में 558 महिलाएं इस काम में जुड़ी हुई हैं. ग्रामीण विकास विभाग की बिहार रूरल लाइवलिहुड प्रोजेक्ट यानी जीविका की दीदियां आपदा को अवसर में तब्दील करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही हैं , जिससे कि आर्थिक स्वावलंबन के साथ कोरोना को मात दिया जा सके.

जीविका दीदियों के द्वारा कोविड-19 संक्रमण के प्रसार में प्रभावी रोकथाम वाले उच्चस्तरीय मानक वाले डबल लेयर मास्क का निर्माण युद्धस्तर पर जारी है. कई जगहों पर जीविका दीदी द्वारा लगातार मास्क बनाया जा रहा है. मास्क के निर्माण के बाद पंचायतों में प्रत्येक परिवार को छह-छह मास्क पहुंचाए जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें : BMC अस्पताल का नया रिकॉर्ड, एक साल में हुआ एक हजार बच्चों का जन्म

पूर्णिया के जिलाधिकारी राहुल कुमार ने बताया कि मास्क निर्माण कार्य में फिलहाल 558 महिलाएं लगी हुई हैं. इसे न केवल उन्हें रोजगार मिल रहा है बल्कि कोरोना से लड़ने के लिए मास्क भी लोगों को उपलब्ध हो पा रहा है. उन्होंने बताया कि लोगों को रोजगार मिले इसके लिए भी लगातार प्रयास किए जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में मास्क निर्माण में 700 महिलाओं को जोड़ने की योजना बनाई गई है. उन्होंने कहा कि जीविका से जुड़ी महिलाओं को चूडी निर्माण, बकरी पालन, मधुमक्खी पालन, दीदी की रसोई सहित कई अन्य योजनाओं से भी जोड़ा जा रहा है.

यह भी पढ़ें : इंदिरा गांधी अस्पताल को बनाया गया कोरोना हॉस्पिटल, जानें कितने बेड होंगे इस्तेमाल

जिलाधिकारी ने बताया कि चूड़ी निर्माण में फिलहाल 42 महिलाएं जुड़ी हुई हैं, लेकिन इसे कुछ दिनों में 300 महिलाओं को जोड़ने की योजना बनाई गई है. उन्होंने बताया कि बकरी पालन से फिलहाल 3,130 महिलाएं जुड़ी हैं, जिससे वे आर्थिक रूप से स्वावलंबी बन रही हैं, लेकिन एक-दो महीने में इस योजना से 2,000 और महिलाओं को जोड़ने की योजना बनाई गई है.

यह भी पढ़ें : राजस्थान में कोविड पीड़िता के शव को दफनाने के बाद 21 लोगों की मौत

पूर्णिया के एक अन्य अधिकारी बताते हैं कि पंचायत के सभी गांवों में प्रत्येक परिवार को छह-छह मास्क दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी काल में भी जीविका दीदी द्वारा विभिन्न स्थानों पर मास्क निर्माण कर उसे निर्धारित दर पर उपलब्ध करवाने का कार्य जारी है. उन्होंने कहा कि जीविका दीदी द्वारा बनाए गए मास्क को मांग के अनुसार विद्यालय, प्रखंड एवं अन्य स्तरों पर उपलब्ध कराया जा रहा है.

उन्होंने बताया कि जीविका दीदी को कपड़ा, धागा और रबर उपलब्ध करा दिया जाता है तथा जीविका दीदी मास्क का निर्माण कर संबंधित केंद्र को दे देती है. इसके बाद ऑर्डर के अनुसार उसे , संबंधित पदाधिकारी को उपलब्ध करा दिया जाता है. उन्होंने बताया कि मास्क के लगातार आर्डर आ रहे हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 08 May 2021, 03:14:43 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.