News Nation Logo

घोटालों का 'मैनुफैक्चरर स्टेट' बन गया है बिहार: तेजस्वी

उन्होंने कहा कि उनपर जबरदस्ती का भ्रष्टाचार का मामला दर्ज करने के आज 150 दिन हो गए हैं, लेकिन आरोप-पत्र अभी तक दर्ज नहीं हो पाया।

IANS | Edited By : Deepak Kumar | Updated on: 02 Dec 2017, 07:27:47 PM
तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

बिहार:  

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने शनिवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि पिछले चार महीनों में बिहार 'घोटालों का मैन्युफैक्चरर स्टेट' बन गया है।

उन्होंने आरोप लगाया कि घोटाले स्थापित होने के बावजूद किसी प्रकार की कोई जाच-पड़ताल नहीं की जा रही है।

तेजस्वी ने खुद पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों पर कहा, 'हम पर कोई स्थापित अपराध नहीं है, फिर भी हम जांच-एजेंसियों को पूरा सहयोग कर रहे हैं। मेरी मां (राबड़ी देवी) की तबीयत ठीक नहीं होने के बावजूद आज प्रवर्तन निदेशालय (आईडी) की जांच में सहयोग कर रही हैं।' 

तेजस्वी ने एक बयान जारी कर कहा, 'कोई अपराध नहीं होने के बावजूद मैं आईटी, सीबीआई और ईडी की जांच में दो बार, उन्होंने जहां बुलाया वहां जाकर उनकी जांच-पड़ताल में सहयोग कर चुका हूं। लेकिन, बिहार और देश में जो स्थापित अपराध कर रहे हैं, उनकी जांच तो दूर कोई जिक्र भी नहीं कर रहा है।' 

यूपी निकाय चुनाव: अखिलेश का सवाल, बीजेपी को ईवीएम से 46% तो बैलेट से 15% वोट क्यों?

उन्होंने कहा कि उनपर जबरदस्ती का भ्रष्टाचार का मामला दर्ज करने के आज 150 दिन हो गए हैं, लेकिन आरोप-पत्र अभी तक दर्ज नहीं हो पाया। 

उन्होंने कहा, 'इन्होंने सबूत ढूंढ़ने के लिए कई जगह छापे मार लिए, अनेकों बार पूछताछ कर ली। सांच को आंच क्या?'

आरजेडी (राष्ट्रीय जनता दल) नेता ने कहा, "कुछ किया ही नहीं तो हमारे खिलाफ सबूत कहां से मिलेगा। अब ये लोग सबूत बनाना चाह रहे हैं। इनका एक बड़ा नेता सदन में मुझे धमकी देता है कि अब आरोप-पत्र भी करवा देंगे। स्पष्ट है अपनी 'जेबी' एजेंसियों' से यह सब मामला दर्ज करवा रहे हैं। जनता सब हिसाब करेगी। जनता से बड़ा कोई मालिक नहीं और भगवान से बड़ा कोई न्यायकर्ता नहीं।"

इंफोसिस के नए CEO और MD बने सलिल एस पारेख, विशाल सिक्का के इस्तीफे के बाद खाली थी पोस्ट

First Published : 02 Dec 2017, 07:24:43 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.