News Nation Logo
Banner

बिहार में नाबालिग लड़की का अपहरण, राजस्थान में ढाई साल बाद बनी दो बच्चों की बिन ब्याही मां

नाबालिग लड़की का जून 2018 में अपहरण हुआ था लेकिन इस मामले में बिहार पुलिस ने परिजनों की कोई मदद नहीं की.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Chaurasia | Updated on: 19 Feb 2021, 07:44:24 AM
अपहरण के ढाई साल बाद दो बच्चों की बिन ब्याही मां बनी नाबालिग

अपहरण के ढाई साल बाद दो बच्चों की बिन ब्याही मां बनी नाबालिग (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • जून 2018 में बिहार के जहानाबाद से हुआ था अपहरण
  • राजस्थान के दौसा में 2 बच्चों के साथ दिखी लड़की

जहानाबाद:

बिहार के जहानाबाद से जून 2018 में एक नाबालिग का अपहरण हुआ. जिसके बाद नाबालिग के परिजनों ने थाने में अपहरण का केस दर्ज कराया और आरोपियों को नामजद भी किया. इन आरोपियों में एक हिमाचल प्रदेश का था बाकी सभी बिहार के रहने वाले थे. आरोपियों की गैंग महिलाओं का अपहरण कर उन्हें बेचने का काम करती थी और इस गैंग में एक महिला भी शामिल थी. इसी महिला ने नाबालिग को फंसाया और उसका अपहरण कर उत्तर प्रदेश के नोएडा और राजस्थान के दौसा तक भिजवा दिया. इधर, नाबालिग के परिजनों का बुरा हाल होता रहा और स्थानीय एसएसपी से लेकर बिहार के डीजीपी तक शिकायत लेकर चक्कर काटते रहे.

पुलिस प्रशासन से परिजनों की सिर्फ एक ही मांग थी कि उन्हें उनकी बेटी चाहिए. लेकिन बिहार पुलिस पीड़िता के परिजनों का बिल्कुल भी सहयोग नहीं किया और उसके चरित्र पर सवाल उठाकर उन्हें ही फटकार लगा दी जाती थी. पुलिस का कहना था कि उनकी बेटी प्रेम प्रसंग के चलते भागी है. नाबालिग का भाई दिन-रात पुलिस और प्रशासन के चक्कर काटता रहा और अपने स्तर पर ही कॉल डिटेल और मोबाइल की लोकेशन ट्रेस करता रहा.

जब नाबालिग के भाई को पता चला कि उसकी बहन राजस्थान के दौसा में है तो वह फिर थाने गया और पुलिस को साथ लेकर दौसा आया. इसके बाद बिहार पुलिस दौसा की सदर थाना पुलिस के सहयोग से सदर थाना क्षेत्र के गांगल्यावास गांव में पहुंची और लड़की को ढूंढ लिया. बहन की हालत देखकर उसके भाई के होश उड़ गए और रो-रो कर उसका बुरा हाल हो गया. लड़की ने मीडिया के सामने तो कुछ नहीं कहा लेकिन अपने भाई को पूरी आपबीती सुनाई.

लड़की के साथ खरीददारों ने शादी नहीं की और उसके दो बच्चे भी हो गए. उस महिला को कई जगह बेचा गया. दौसा में भी उसे 5 लाख रुपए में खरीदकर लाया गया था. महिला के भाई ने मीडिया के सामने पूरा मामला बताया. महिला के भाई का स्पष्ट कहना था कि बिहार पुलिस ने कोई सहयोग नहीं किया और जिन आरोपियों ने अपहरण कर उसे भेजा था, उन पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई. इन आरोपियों में कई बिहार के जहानाबाद के डॉन हैं.

पीड़िता के भाई का कहना है कि दौसा पुलिस ने उनका बहुत सहयोग किया. किरकिरी कराने के बाद बिहार पुलिस अब लड़की को लेकर बिहार के लिए रवाना हो गई. फिलहाल, बिहार पुलिस ने आरोपियों की तलाश में जांच शुरू कर दी है. पुलिस ये मालूम कर रही है कि लड़की को अगवा करने में कौन-कौन लोग शामिल थे और इसे कहां और किन्हें बेचा गया था.

First Published : 19 Feb 2021, 07:44:24 AM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.