News Nation Logo

बिहार के 28 मंत्रियों की औसत संपत्ति 4.46 करोड़ रुपये, 18 पर मुकदमे

जल संसाधन विकास मंत्री संजय कुमार झा 22.37 करोड़ रुपये की चल और अचल संपत्ति के साथ सबसे अमीर मंत्री हैं, तो सबसे कम पैसे वाले मंत्री जमा खान हैं. इनकी कुल संपत्ति 30 लाख 4 हजार रुपए है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 12 Feb 2021, 08:47:02 AM
Nitish Kumar

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की जानकारी. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • मंत्रिमंडल विस्तार बाद 31 मंत्रियों में 28 की औसत संपत्ति 4.46 करोड़
  • संजय कुमार झा 22.37 करोड़ की संपत्ति के साथ सबसे अमीर
  • 18 मंत्रियों में से 14 मंत्री झेल रहे गंभीर आपराधिक आरोप

पटना:

बिहार में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के दूसरे मंत्रिमंडल विस्तार के बाद 31 मंत्रियों में से 28 के पास औसतन संपत्ति 4.46 करोड़ रुपये है. इनमें से 18 ने घोषित किया है कि इनके खिलाफ आपराधिक मामले चल रहे हैं. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने यह जानकारी दी. एडीआर ने नीतीश कुमार सरकार में शामिल 28 मंत्रियों की संपत्ति का विश्लेषण किया. विश्लेषण चुनाव आयोग को दिए गए हलफनामों के आधार पर किया गया. अब 31 मंत्रियों में से अशोक चौधरी और जनक राम की संपत्ति का विश्लेषण नहीं किया जा सकता, क्योंकि वे विधानसभा या विधान परिषद के सदस्य नहीं हैं. राम सूरत राय का हलफनामा स्पष्ट नहीं है और इसलिए इसका विश्लेषण भी नहीं किया गया.

संजय कुमार झा सबसे अमीर
जल संसाधन विकास मंत्री संजय कुमार झा 22.37 करोड़ रुपये की चल और अचल संपत्ति के साथ सबसे अमीर मंत्री हैं. बसपा के पूर्व विधायक और अब अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री जमां खान, जो जनता दल-युनाइटेड में शामिल हो गए थे, वह 30.04 लाख रुपये की संपत्ति के साथ सबसे निचले पायदान पर हैं. कुल 20 मंत्रियों ने देनदारियों की घोषणा की है, जिसमें विकासशील इंसान पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी भी शामिल हैं, जिन्होंने घोषणा की है कि वह 1.54 करोड़ रुपये के कर्ज में हैं. एडीआर की इस रिपोर्ट के अनुसार, सबसे कम पैसे वाले मंत्री जमा खान हैं, इनकी कुल संपत्ति 30 लाख 4 हजार रुपए है.

यह भी पढ़ेंः पीएम मोदी से मिलने के बाद CM नीतीश कुमार ने कही ये बड़ी बात

14 पर गंभीर आपराधिक आरोप
एडीआर ने दावा किया कि 18 मंत्रियों ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं, जिनमें 14 गंभीर आपराधिक आरोपों के साथ शामिल हैं - भाजपा के 57 प्रतिशत मंत्री, जेडी-यू के 27 प्रतिशत मंत्री और वीआईपी, हिंदुस्तान आवाम मोर्चा और निर्दलीय मंत्री भी इसमें शामिल हैं. बिहार मंत्रिपरिषद में अब मुख्यमंत्री सहित 31 सदस्य हैं. एडीआर और इलेक्शन वॉच के इस विश्लेषण के मुताबिक, नीतीश सरकार में 57 फीसदी मंत्रियों ने ग्रैजुएशन की है जबकि 39 फीसदी मंत्री ने 8वीं से दसवीं तक की शिक्षा प्राप्त की है. मंत्री शाहनवाज हुसैन ने अपनी शिक्षा इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया है. इनमें जनता दल-युनाइटेड के मुख्यमंत्री सहित 12 सदस्य हैं. भाजपा के 16, और विकासशील इंसान पार्टी, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा और निर्दलीय से एक-एक. 

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 12 Feb 2021, 08:38:33 AM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो