News Nation Logo
उत्तर प्रदेश : आज तीन बड़े मामले ज्ञानवापी, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मथुरा और ताजमहल पर सुनवाई प्रधानमंत्री आवास पर कैबिनेट और CCEA की बैठक, कुछ MoU समेत अहम मुद्दों पर हो सकता है फैसला कपिल सिब्बल सपा कार्यालय में अखिलेश यादव के साथ मौजूद, बनेंगे राज्यसभा उम्मीदवार राज्यसभा के लिए कपिल सिब्बल, डिंपल यादव और जावेद अली होंगे समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार- सूत्र पंजाब : ग्रुप सी और डी के पदों के लिए पंजाबी योग्यता टेस्ट कंपलसरी, भगवंत मान सरकार का फैसला मथुरा : जिला अदालत में श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में 31 मई को होगी अगली सुनवाई मुंबई : मोटरसाइकिल पर दोनों सवारों को हेलमेट पहनना अनिवार्य होगा, 15 दिनों में नियम पर अमल यासीन मलिक की सजा पर बहस पूरी- ऑर्डर रिजर्व, दोपहर बाद विशेष NIA कोर्ट सुनाएगी सजा ज्ञानवापी हिंदुओं को सौंपने-पूजा की मांग वाला नया मामला सिविल जज फास्ट ट्रैक कोर्ट में स्थानांतरित अयोध्या : 1 जून को श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह का शिला पूजन होगा, सीएम योगी होंगे शामिल उत्तराखंड : मौसम सामान्य होने के बाद आज दोबारा सुचारू रूप से शुरू हुई चारधाम यात्रा औरंगजेब की कब्र के बाद अब सतारा में मौजूद अफजल खान के कब्र पर बढ़ाई गई सुरक्षा
Banner

सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोरने वालों को ट्रायल के लिए दबाव में बुलाया गया, खेल मंत्री ने माना

खेल मंत्री किरन रीजीजू ने रविवार को स्वीकार किया कि भैंसों के साथ दौड़कर सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोरने धावकों को तुरंत ट्रायल के लिए बुलाने का फैसला दबाव में किया गया, जिससे लगे कि वह अपने काम को लेकर तत्पर हैं.

Bhasha | Edited By : Pankaj Mishra | Updated on: 04 May 2020, 01:55:52 PM
KIRANRIJJIJU PTI

किरन रीजीजू (Photo Credit: पीटीआई)

New Delhi:  

खेल मंत्री किरन रीजीजू ने रविवार को स्वीकार किया कि भैंसों के साथ दौड़कर सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोरने धावकों को तुरंत ट्रायल के लिए बुलाने का फैसला दबाव में किया गया, जिससे लगे कि वह अपने काम को लेकर तत्पर हैं. कर्नाटक के कम्बाला धावक श्रीनिवास गौड़ा और मध्य प्रदेश के रामेश्वर गुर्जर ने पिछले साल प्रतिकूल हालात में दौड़ लगातार सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोरी थी. माना जा रहा था कि इन्होंने 11 सेकेंड में 100 मीटर दौड़ पूरी की थी जिससे ये दोनों सोशल मीडिया पर छा गए और लोग उन्हें अगला उसेन बोल्ट कहने लगे.

यह भी पढ़ें ः पाकिस्‍तान के पूर्व कप्‍तान वसीम अकरम और बाबर आजम अब करेंगे ये नया काम

किरन रीजीजू ने कहा, मध्य प्रदेश में किसी ने गांव के एक लड़के का दौड़ते हुए वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर डाल दिया, साथ में टिप्पणी की कि वह उसने बोल्ट से तेज दौड़ रहा है. जब यह वायरल हो गया तो मैं इसकी अनदेखी कर सकता था, लेकिन मान लीजिए कि मैं समय पर प्रतिक्रिया नहीं देता तो लोग कहते कि खेल मंत्री चुप बैठा है, वह इसका संज्ञान नहीं ले रहा. रामेश्वर हालांकि ट्रायल में उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे और 100 मीटर की दूरी उन्होंने बामुश्किल 12.9 सेकेंड में पूरी की. रीजीजू ने कहा, शिवराज सिंह चौहान ने भी मुझे इस मामले को देखने को कहा इसलिए मैंने भारतीय खेल प्राधिकरण की टीम को उसे परखने के लिए भोपाल भेजा. मुझे उसकी क्षमता पता थी लेकिन देश को नहीं पता कि खेल की प्रकृति क्या है. लोगों ने बस यह कहना शुरू कर दिया कि वह बोल्ट से तेज दौड़ा और ऐसा जागरूकता की कमी के कारण हुआ.

यह भी पढ़ें ः VIDEO : मोहम्‍मद शमी की पत्‍नी हसीन जहां ने कांटा लगा पर किया जोरदार डांस तो क्‍या आए कमेंट

उन्होंने कहा, परीक्षण के दौरान वह जूनियर खिलाड़ियों के साथ भी प्रतिस्पर्धा नहीं कर पाया, सीनियर खिलाड़ियों को तो छोड़ ही दीजिए. वह 100 मीटर की दूरी 13 सेकेंड में भी पूरी नहीं कर पाया. उसने कभी ट्रेनिंग नहीं ली, वह 25-26 साल का था तो आयु भी उसके पक्ष में नहीं थी, उसे यह भी नहीं पता था कि दौड़ने वाले जूते कैसे पहने जाते हैं. रीजीजू ने कम्बाला धावक गौड़ा की कहानी भी जताई जिनका कर्नाटक में पारंपरिक भैंसा दौड़ के दौरान प्रदर्शन सोशल मीडिया पर वायरल हुआ. इसके बाद मंत्री को 28 साल के इस धावक को बेंगलुरू के साइ केंद्र में बुलाने को बाध्य होना पड़ा. इस धावक की 100 मीटर दौड़ सिर्फ 9.55 सेकेंड में पूरी करने की वीडियो सामने आई थी. खेल मंत्री ने कहा, इसके चार-पांच महीने के बाद खबर आई कि किसी ने कर्नाटक में भैंसा दौड़ में उसेन बोल्ट का रिकार्ड तोड़ दिया. यहां तक कि पेशेवर लोगों, कुछ व्यवसायियों, भारत के कुछ जाने माने लोगों ने भी कहा कि यह व्यक्ति 100 मीटर में ओलंपिक स्वर्ण पदक लाएगा.

यह भी पढ़ें ः एमएस धोनी, विराट कोहली और रोहित शर्मा की कप्तानी के रिकार्ड जानिए, एमएसके प्रसाद ने कही बड़ी बात

उन्होंने कहा, समस्या यह है कि लोगों को जानकारी और समझ नहीं है. अगर मैं जवाब नहीं दूंगा तो वे कहेंगे कि खेल मंत्री चुपचाप बैठा है. रीजीजू ने कहा, लोग सोच रहे होंगे कि खेल मंत्री क्या कर रहा है, वह इस तरह की अपरिपक्व बातों पर प्रतिक्रिया दे रहा है लेकिन खेल की जानकारी नहीं रखने वाले वर्गों को मुझे दिखाना होगा कि मैं भारतीय खेलों को लेकर तत्पर हूं और मैं खिलाड़ियों के लिए मौजूद हूं. क्षमतावान खिलाड़ियों को मैं सभी तरह के मौके दूंगा इसलिए मुझे यह दिखाना था. खेल मंत्री ने कहा कि समय आ गया है कि लोग क्रिकेट के अलावा अन्य खेलों के बारे में अपनी समझ बढ़ाएं जिससे कि भारत खेल महाशक्ति बन सके.

First Published : 04 May 2020, 01:55:52 PM

For all the Latest Sports News, More Sports News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.