News Nation Logo

COVID-19: लॉकडाउन के साइड इफेक्ट्स, फुटबॉलरों में बढ़ रहा तनाव और अवसाद

वैश्विक खिलाड़ियों के संघ फीफप्रो ने सोमवार को जारी रिपोर्ट में यह जानकारी दी. इसने इंग्लैंड, फ्रांस, स्कॉटलैंड, आस्ट्रेलिया और अमेरिका जैसे 16 देशों के 1602 फुटबॉलरों का सर्वे किया जिनमें 468 महिला खिलाड़ी शामिल थी.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Chaurasia | Updated on: 21 Apr 2020, 12:57:50 AM
stress depression

सांकेतिक तस्वीर (Photo Credit: https://evidenceinmotion.com/)

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस महामारी के कारण दुनिया भर में जारी लॉकडाउन से पेशेवर फुटबॉलरों में तनाव और अवसाद की घटनायें बढ रही हैं चूंकि लंबे समय से वे मैदान से दूर हैं. वैश्विक खिलाड़ियों के संघ फीफप्रो ने सोमवार को जारी रिपोर्ट में यह जानकारी दी. इसने इंग्लैंड, फ्रांस, स्कॉटलैंड, आस्ट्रेलिया और अमेरिका जैसे 16 देशों के 1602 फुटबॉलरों का सर्वे किया जिनमें 468 महिला खिलाड़ी शामिल थी. इसमें पाया गया कि पुरूषों में 13 प्रतिशत और महिलाओं में 22 प्रतिशत महिला खिलाड़ियों ने अवसाद के लक्षणों का खुलासा किया.

ये भी पढ़ें- भ्रष्टाचार के मामले में 27 अप्रैल को होगी उमर अकमल मामले की सुनवाई, अनुशासन समिति ने तय की तारीख

पांच में से एक महिला और पुरूष खिलाड़ी में चिंता के लक्षण पाये गए. फ्रांस के पूर्व खिलाड़ी और फीफप्रो के मुख्य चिकित्सा अधिकारी विंसेंट जी ने कहा, ‘‘फुटबॉल में काफी युवा महिला और पुरूष खिलाड़ी सामाजिक एकाकीकरण से जूझ रहे हैं चूंकि उनका काम बंद पड़ा है और भविष्य भी अनिश्चित है.’’ कोरोना महामारी के कारण दुनिया भर में खेल बंद हैं. लगभग सभी देशों में फुटबॉलर अपने घरों में बंद है.

ये भी पढ़ें- IPL में बूढ़ा कहकर चिढ़ाते थे धोनी, ड्वेन ब्रावो ने माही को दे डाला रेस लगाने का चैलेंज और फिर...

लॉकडाउन केवल फुटबॉल खिलाड़ियों पर ही नहीं बल्कि क्रिकेट खिलाड़ियों पर भी बुरा असर डाल सकता है. आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स के कोच पैडी अपटन ने कुछ दिनों पहले कहा था कि आईपीएल स्थगित या रद्द होने की वजह से भारत के कई उभरते सितारे डिप्रेशन में जा सकते हैं. अपटन ने कहा था कि दुनियाभर में कोरोना वायरस की वजह से लगे लंबे ब्रेक की वजह से केवल खिलाड़ी ही नहीं बल्कि आम आदमी भी डिप्रेशन और टेंशन में आ सकते हैं. इसके साथ ही लोगों में असुरक्षा की भी भावना बढ़ सकती है.

ये भी पढ़ें- कोरोना वायरस पीड़ितों की मदद के लिए अपना बैट नीलाम करेंगे बांग्लादेश के पूर्व कप्तान मुशफिकुर रहीम

पैडी अपटन ने कहा कि जो खिलाड़ी अपने खेल के अलावा अन्य खेल और गतिविधियों में हिस्सा लेते रहते हैं, उन्हें इन दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा. लेकिन जो खिलाड़ी केवल क्रिकेट पर ही फोकस करते हैं, उन्हें समस्याएं हो सकती हैं.

(भाषा इनपुट्स के साथ)

First Published : 20 Apr 2020, 08:20:26 PM

For all the Latest Sports News, More Sports News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.