News Nation Logo

भारतीय टीम ने इस देश के खिलाफ लिया बड़ा फैसला, जानें कारण

भारत ने सोमवार को हॉकी प्रतियोगिता से अपना नाम वापस ले लिया. आपको बता दें कि भारतीय हॉकी के अध्यक्ष ज्ञानेंद्रो निंगोबम ने महासंघ के फैसले के बारे में भरतीय ओलंपिक संघ (IOA) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा को बता दिया है.

Sports Desk | Edited By : Satyam Dubey | Updated on: 06 Oct 2021, 11:01:45 AM
indian hockey team

indian hockey team (Photo Credit: NewsNation)

नई दिल्ली:

भारतीय हॉकी टीम ने आधिकारिक तौर पर 2022 राष्ट्रमंडल खेलों से कोविड-19 का हवाला देते हुए अपना नाम वापस लेने का फैसला किया है। हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ज्ञानंद्रो निंगोमबम ने सोमवार को भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) को अपने फैसले की जानकारी दी। आईओए अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने 28 जुलाई से 8 अगस्त, 2022 तक बर्मिघम में राष्ट्रमंडल खेलों और 10-25 सितंबर, 2022 तक चीन के हांग्जो में होने वाले एशियाई खेलों के बीच पर्याप्त समय नहीं होने के बारे में मुद्दा उठाया है। हॉकी इंडिया ने अपनी टीमों को इंग्लैंड नहीं भेजने का फैसला किया है, क्योंकि एशियाई खेल भी 2024 में पेरिस में अगले ओलंपिक के लिए एक क्वालीफाइंग इवेंट है।

उन्होंने कहा, "पिछले 18 महीनों में देखा गया है कि इंग्लैंड यूरोप में सबसे बुरी तरह प्रभावित देश रहा है, कोविड-19 महामारी और भारतीय यात्रियों के खिलाफ यूके सरकार द्वारा लगाए गए यात्रा प्रतिबंधों से, हॉकी इंडिया ने कहा कि वह नहीं चाहते हैं कि कोई भी खिलाड़ी वायरस से संक्रमित हो जाए, क्योंकि किसी के ठीक होने के लिए घटनाओं के बीच केवल थोड़ी सी अवधि होती है।

हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ने भारतीय यात्रियों के लिए क्वारंटीन अवधि का मुद्दा भी उठाया, क्योंकि भारतीय टीकों को यूके सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है और इसे भेदभावपूर्ण करार दिया। आपको बता दें कि ब्रिटेन भी भारत में अपने खिलाड़ियों को भेजने से इनकार कर दिया है. ऐसे में भारत का यह फैसला ब्रिटेन को करारा जवाब के तौर पर भी देखा जा रहा है. भारतीय खिलाड़ियों पर ब्रिटेन भेदभावपूर्ण  नियम लगा रहा था. 

First Published : 06 Oct 2021, 12:12:25 AM

For all the Latest Sports News, More Sports News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो