News Nation Logo
Banner

IPL 12: मैदान में घुसकर अंपायरों से भिड़ने की वजह से धोनी की हो रही है जबरदस्त आलोचना, इन खिलाड़ियों ने लिया आड़े हाथ

152 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई को आखिरी ओवर में 18 रन बनाने थे. आखिरी ओवर में महेंद्र सिंह धोनी के अलावा रविंद्र जडेजा बल्लेबाजी कर रहे थे, लेकिन उन्हें बेन स्टोक्स ने क्लीन बोल्ड कर वापस पवेलियन भेज दिया था.

By : Sunil Chaurasia | Updated on: 12 Apr 2019, 04:40:55 PM
image courtesy: IPL

image courtesy: IPL

जयपुर:

गुरुवार को चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच खेले गए IPL 2019 के 25वें मैच में महेंद्र सिंह धोनी की टीम ने अजिंक्य रहाणे की टीम को 4 विकेट से हराकर अपनी जीत का सिलसिला जारी रखा. तो वहीं दूसरी ओर राजस्थान रॉयल्स की ये लगातार तीसरी हार है. चेन्नई और राजस्थान के बीच खेले गए मैच के आखिरी ओवर में जबरदस्त ड्रामा देखने को मिला. मैच के दौरान अंपायर के फैसले पर महेंद्र सिंह धोनी अपना गुस्सा काबू नहीं कर सके और डग आउट से उठकर बीच मैदान में जा उठे. धोनी की ग्राउंड पर मौजूद दोनों अंपायरों के साथ काफी देर तक बहस चली थी. धोनी के इस रवैये पर पूर्व क्रिकेटरों ने नाराजगी जताई है.

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, "यह क्रिकेट के लिए अच्छा नहीं है. एक कप्तान को डग आउट से बाहर निकलकर पिच पर नहीं आना चाहिए." ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर माइकल स्लेटर ने धोनी के इस व्यवहार पर कहा, "मैं नहीं कह सकता कि मैंने ऐसा होते हुए पहले कभी देखा है. आप कभी भी कप्तान को पिच पर आकर अम्पायर से चर्चा करते हुए नहीं देखेंगे, अविश्वसनीय." इस मामले में भारत के पूर्व विकेटकीपर दीप दासगुप्ता ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी. दासगुप्ता ने कहा, "उनके पास चौथे अंपायर और मैच रेफरी से बात करने का पूरा अधिकार है, लेकिन मैच के बीच में इस तरह से मैदान पर आना सही नहीं है। आपके साथ गलत हुआ है, यह सोचकर आप वो चीजें नहीं कर सकते जिसकी अनुमति आपके पास नहीं है."

ये भी पढ़ें- IPL 12: दिनेश कार्तिक के बिना WORLD CUP नहीं जीत पाएगी टीम इंडिया, जानिए क्या है पूरा मामला

बता दें कि 152 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई को आखिरी ओवर में 18 रन बनाने थे. आखिरी ओवर में महेंद्र सिंह धोनी के अलावा रविंद्र जडेजा बल्लेबाजी कर रहे थे, लेकिन उन्हें बेन स्टोक्स ने क्लीन बोल्ड कर वापस पवेलियन भेज दिया था. धोनी का विकेट गिरने के बाद मिचेल सैंटनर बल्लेबाजी करने के लिए क्रीज पर आए थे. स्टोक्स ने सैंटनर का स्वागत एक बीमर गेंद के साथ किया. अंपायर उल्हास गांधे ने स्टोक्स की बीमर को बिना सोचे-समझे 'नो बॉल' करार दे दिया. लेकिन कुछ ही देर बाद अंपायर ने अपने इस फैसले को वापस ले लिया था. जिसके बाद नॉन स्ट्राइकिंग एंड पर खड़े रविंद्र जडेजा अंपायर के इस फैसले के खिलाफ नाराजगी जाहिर करने लगे.

ये भी पढ़ें- IPL 12: आखिरी ओवर में 18 रन खाने वाले बेन स्टोक्स से खुश हैं अजिंक्य रहाणे! इनके प्रदर्शन पर जताई चिंता

उधर देखते ही देखते चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी डग-आउट से उठकर मैदान में आ गए. लोग धोनी के इस कदम पर कुछ समझ पाते, उससे पहले ही ग्राउंड पर मौजूद दोनों अंपायरों को धोनी के भयानक गुस्से से सामना करना पड़ गया. अंपायरों के साथ धोनी के इस बर्ताव की वजह से उन्हें आईपीएल की आचार संहिता के स्तर 2 के अपराध 2.20 का दोषी पाया गया, जिसके बाद मैच रेफरी ने धोनी पर मैच फीस का 50 फीसदी हिस्से का जुर्माना लगा दिया गया. हालांकि धोनी ने अपनी गलती स्वीकार कर ली और सीधे तरीके से जुर्माने को भी कबूल कर लिया.

First Published : 12 Apr 2019, 04:39:58 PM

For all the Latest Sports News, Indian Premier League News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो