logo-image
लोकसभा चुनाव

Gautam Gambhir : गौतम गंभीर को आज भी है इस बात का मलाल, सूर्यकुमार यादव से जुड़ा है मामला

Gautram Gambhir : कोलकाता नाइट राइडर्स के मेंटॉर गौतम गंभीर ने अपनी कप्तानी के दिनों को याद किया. उन्होंने बताया कि उन्हें सूर्यकुमार यादव को लेकर आज भी अफसोस है...

Updated on: 13 May 2024, 01:06 PM

नई दिल्ली:

Gautram Gambhir : कोलकाता नाइट राइडर्स को 2 ट्रॉफी जिताने वाले कप्तान गौतम गंभीर इस सीजन बतौर मेंटॉर टीम का हिस्सा हैं. उनके अंडर टीम ने IPL 2024 में शानदार प्रदर्शन करते हुए सबसे पहले प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई किया है. गंभीर IPL के सफल कप्तानों में शुमार हैं, लेकिन फिर भी उन्हें 7 साल के कप्तानी करियर में एक बात का मलाल है और वो मलाल सूर्यकुमार यादव से जुड़ा है. गंभीर ने खुद बताया है कि उन्हें आज भी अफसोस होता है कि वह सूर्या का इस्तेमाल सही तरह से नहीं कर पाए...

क्या बोले गौतम गंभीर?

गौतम गंभीर ने 7 सालों तक आईपीएल में कप्तानी की. जहां, कोलकाता को 2 बार चैंपियन बनाया. हालांकि, उन्होंने अब खुलासा किया है कि सूर्यकुमार यादव को उनकी क्षमता के हिसाब से इस्तेमाल ना कर पाने का मलाल उन्हें खुद से आज भी है. Gautram Gambhir ने कहा, "एक लीडर की भूमिका खिलाड़ी की सर्वश्रेष्ठ क्षमता की पहचान करना और उसे दुनिया को दिखाना है. अगर मुझे अपनी 7 साल की कप्तानी में कोई अफसोस है, तो वह यह है कि मैं और एक टीम के रूप में सूर्यकुमार यादव का उनकी क्षमता के अनुसार बेस्ट इस्तेमाल नहीं कर पाया. इसका कारण कॉम्बिनेशन था. आप नंबर-3 पर केवल एक खिलाड़ी को खिला सकते हैं. एक लीडर के रूप में, आपको XI में अन्य 10 खिलाड़ियों के बारे में भी सोचना होगा. वह नंबर 3 पर कहीं अधिक प्रभावी होते, लेकिन नंबर 7 पर भी उतने ही अच्छे थे." 

सूर्या एक टीम मैन हैं

पिछले लंबे वक्त से सूर्यकुमार यादव मुंबई इंडियंस का हिस्सा हैं. लेकिन वह 2014-2017 तक कोलकाता नाइट राइडर्स का हिस्सा रहे. जहां, उन्हें काफी नीचे बल्लेबाजी करने का मौका मिलता था. हालांकि, तभी भी उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया, मगर फिर मुंबई ने उन्हें ऊपर भेजना शुरू किया और तब जाकर हमें मिला 360 डिग्री स्काई. सूर्या के बारे में आगे गंभीर ने कहा, "सूर्या एक टीम मैन भी थे. अच्छा खिलाड़ी कोई भी बन सकता है, लेकिन टीम मैन बनना एक मुश्किल काम है. चाहें आप उन्हें नंबर 6 या 7 पर खिलाएं या बेंच पर बिठाएं, वह हमेशा मुस्कुराते रहते थे और टीम के लिए प्रदर्शन करने के लिए हमेशा तैयार रहते थे. इसीलिए हमने उन्हें वाइस कैप्टन बनाया था."