News Nation Logo

निकहत जरीन बर्मिघम में राष्ट्रमंडल खेलों में बड़ी उम्मीदों के साथ पदार्पण करने को तैयार

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 30 Jul 2022, 10:30:01 AM
With high

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बर्मिघम:   हाल ही में विश्व चैंपियन बनीं निकहत जरीन राष्ट्रमंडल खेलों की मुक्केबाजी स्पर्धा में अपने पहले अभियान की शुरुआत रविवार को यहां महिलाओं के 48-50 किग्रा लाइट फ्लाईवेट वर्ग में मोजाम्बिक की हेलेना इस्माइल बगाओ के साथ करेंगी।

26 वर्षीय निकहत को क्वार्टर फाइनल में आसानी से ड्रॉ मिल गया है, क्योंकि अगर वह मोजाम्बिक मुक्केबाज से आगे निकल जाती हैं तो उनका सामना एक और निचली रैंकिंग की मुक्केबाज वेल्स की हेलेन जोन्स से होगा।

निकहत शानदार फॉर्म में हैं, क्योंकि उन्होंने इस साल मई में विश्व चैंपियनशिप के खिताब के लिए अपना रास्ता बनाया था। इस्तांबुल में 52 किग्रा वर्ग में थाईलैंड के जितपोंग जुतामास को फ्लाई-वेट फाइनल में हराकर स्वर्ण पदक जीता था।

इस जीत के साथ, वह विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली केवल पांचवीं भारतीय महिला मुक्केबाज बन गईं, एमसी मैरी कॉम, लैशराम सरिता देवी, जेनी आर. मैरी कॉम के बाद भारत के बाहर स्वर्ण पदक, जिन्होंने अपने छह स्वर्ण पदकों में से चार बार ऐसा किया।

निकहत ने इस साल सोफिया, बुल्गारिया में प्रतिष्ठित स्ट्रैंड्जा मेमोरियल बॉक्सिंग टूर्नामेंट में फाइनल में यूक्रेन की तीन बार की यूरोपीय चैम्पियनशिप पदक विजेता तेलियाना रोब को हराकर स्वर्ण पदक जीता। इस जीत और विश्व चैंपियनशिप में उसकी जीत ने निकहत को अपने भार वर्ग में सर्वश्रेष्ठ पाउंड-फॉर-पाउंड मुक्केबाज के रूप में स्थापित किया। राष्ट्रमंडल खेलों का स्वर्ण जीतने से निकहत की प्रतिष्ठा और बढ़ेगी, जिन्होंने वर्षो तक महान मैरी कॉम के प्रभुत्व वाले भार वर्गो में अपनी छाप छोड़ने के लिए संघर्ष किया था।

इस्तांबुल में स्वर्ण पदक जीतकर मैरी कॉम की छाया से बाहर आने के बाद निकहत के पास अब अपना वर्चस्व स्थापित करने का एक और मौका है, क्योंकि मैरी कॉम को चोट के कारण ट्रायल से बाहर होना पड़ा था।

उम्र के साथ मैरी कॉम के खिलाफ काम करते हुए निकहत के पास अब बर्मिघम 2022 में स्वर्ण पदक जीतने और 50-52 किग्रा भार वर्ग में खुद को भारत के सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाज के रूप में स्थापित करने का मौका है। उन्हें राष्ट्रमंडल खेलों के लिए कुछ किलोग्राम वजन कम करना पड़ा और 2023 में एशियाई खेलों और 2024 में पेरिस ओलंपिक के लिए फिर से कुछ वजन बढ़ाना होगा।

बर्मिघम 2022 में स्वर्ण पदक जीतने से निश्चित रूप से अगले साल होने वाले एशियाई खेलों और उसके बाद फ्रांस की राजधानी में होने वाले ओलंपिक में कठिन चुनौतियों से पहले उनका मनोबल बढ़ेगा।

निकहत जरीन की आगे की राह रविवार को राष्ट्रमंडल खेलों में महिलाओं के 50 किग्रा वर्ग से शुरू होती है। तेलंगाना के उस्मानाबाद की मुक्केबाज को अपने अवसरों को दोनों हाथों से हथियाने और मैरी कॉम का अनुकरण करने के लिए मैदान पर अपना अधिकार स्थापित करने की जरूरत है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 30 Jul 2022, 10:30:01 AM

For all the Latest Sports News, Cricket News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.