logo-image
लोकसभा चुनाव

दिल्ली सरकार ने हमें ओलंपिक की तैयारी के लिए कभी आर्थिक मदद नहीं दी: एथलीट

दिल्ली सरकार ने हमें ओलंपिक की तैयारी के लिए कभी आर्थिक मदद नहीं दी: एथलीट

Updated on: 10 Aug 2021, 07:15 PM

नई दिल्ली:

दिल्ली सरकार ने 2020 टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने वाले दिल्ली के पांच एथलीटों के बैनर लगाकर अपना काम तो कर दिया है लेकिन एथलीटों का कहना है कि दिल्ली सरकार ने हमें ओलंपिक की तैयारी के लिए कभी आर्थिक मदद नहीं दी।

टेबल टेनिस स्टार मनिका बत्रा, शूटर दीपक कुमार और दो 400 मीटर धावक, अमोज जैकब और सार्थक भांबरी के बड़े-बड़े बैनर पूरे दिल्ली में लगाए गए हैं लेकिन एक एथलीट से बात करने पर ऐसा लगता है कि बैनर सिर्फ एक पेंट जॉब हैं, सरकार की कमियों को छुपाने के लिए।

राजौरी गार्डन में रहने वाले 22 वर्षीय भांबरी ने कहा, मैं आपको बता सकता हूं कि दिल्ली सरकार कभी मेरी मदद के लिए नहीं आई। मुझे कभी कोई आर्थिक मदद नहीं दी गई। पोस्टर लगाए गए हैं, दिल्ली बोले जीत के आना, कैसे जीत के आना? (दिल्ली कहती है ओलंपिक में पदक जीतो। इस तरह कैसे जीतें?)

सार्थक ने आगे कहा, मैंने कहीं देखा है कि ओलंपिक के लिए होडिर्ंग और पोस्टर पर करोड़ों खर्च किए गए हैं। यहां तक कि अगर उन्होंने हमें ओलंपिक में जाने से महीनों पहले हमारी तैयारियों के लिए 10-15 प्रतिशत भी दिया, तो हम इसे अपने प्रदर्शन पर अच्छे इस्तेमाल के लिए इस्तेमाल कर सकते थे।

भांबरी और जैकब 400 मीटर रिले दस्ते के सदस्य थे, जिन्होंने 3:00:25 मिनट के समय के साथ ओलंपिक में एशियाई रिकॉर्ड बनाया, जैकब के साथ, जो मुख्य टीम का हिस्सा थे, दौड़ते समय 44.68 सेकेंड का सर्वश्रेष्ठ भारतीय समय लगाते थे।

दिल्ली सरकार वर्तमान में राष्ट्रीय राजधानी के शीर्ष एथलीटों की वित्तीय सहायता के लिए एक मिशन उत्कृष्टता योजना चला रही है। हालांकि, कई राष्ट्रीय स्पधार्ओं में पदक जीतने वाले प्रदर्शन के बाद भारत की 400 मीटर रिले टीम में जगह बनाने वाले भांबरी ने आरोप लगाया कि उन्हें अभी तक इस योजना का लाभ नहीं मिला है।

भांबरी ने कहा, मिशन एक्सीलेंस उनके पास एक अच्छी योजना है, लेकिन उन्हें वास्तव में इसे संशोधित करने की आवश्यकता है क्योंकि अगर मैं आज ओलंपिक में अच्छा करता हूं और मैं अगले साल एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी करना चाहता हूं, तो मेरे पास 2023 तक कोई फंडिंग नहीं होगी, फिर इसका क्या उपयोग है? मेरे पास राष्ट्रमंडल खेलों के लिए 8-10 महीने बचे हैं लेकिन अगर कोई धन नहीं आने वाला है तो हम कैसे आगे जाएंगे

इससे पहले विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता मुक्केबाज गौरव बिधूड़ी और पहलवान दिव्या काकरान ने भी शहर सरकार को कोई मदद मुहैया कराने के लिए फटकार लगाई थी।

आईएएनएस ने दिल्ली सरकार के खेल विभाग से बात करने की कोशिश की, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। अधिकारी इस मामले पर टिप्पणी करने के लिए उपलब्ध नहीं हो सके।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.