News Nation Logo
Banner

यशपाल के निधन से सदमे में टीम के साथी, कहा- हमारी कमर टूट गई

यशपाल के निधन से सदमे में टीम के साथी, कहा- हमारी कमर टूट गई

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 13 Jul 2021, 01:05:01 PM
Teammate hocked

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: 1983 विश्व कप विजेता टीम के सदस्य रहे भारत के पूर्व बल्लेबाज यशपाल शर्मा का मंगलवार को 66 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उनके पूर्व साथियों को इस खबर पर यकीन नहीं हो रहा है।

पूर्व भारतीय ऑलराउंडर कीर्ति आजाद जो 1983 विश्व कप में उनकी टीम के साथी थे, ने आईएएनएस को बताया, हमारी टीम टूट गई है। हमने अपनी टीम की रीढ़ खो दी है। वह मध्य-क्रम की रीढ़ थे। वह एक साधारण व्यक्ति थे। वह बहुत अनुशासित थे। उनके पास न तो कोई बड़ा वाइस था और न ही एक छोटा वाइस। वह हम सभी में सबसे फिट थे। फिटनेस को लेकर वह सचेत थे। नियमित रूप से व्यायाम करते थे। विश्वास करना मुश्किल है कि वह अब नहीं है।

उनके एक और 1983 विश्व कप टीम के साथी, ऑलराउंडर मदन लाल सदमे की स्थिति में हैं।

शर्मा के घर जाने से पहले लाल ने आईएएनएस से कहा, मैंने अभी-अभी खबर सुनी है। मैं सदमे की स्थिति में हूं। मुझे अब भी विश्वास नहीं हो रहा है। मैं फिलहाल कुछ नहीं कह सकता।

टूर्नामेंट में कप्तान कपिल देव के साथ गेंदबाजी की शुरूआत करने वाले तेज गेंदबाज बलविंदर संधू को भी इस खबर पर यकीन नहीं हो रहा है।

संधू ने आईएएनएस से कहा, बिल्कुल चौंकाने वाली खबर। कभी नहीं सोचा था कि इतनी कम उम्र में उनका निधन हो जाएगा। हम 25 जून को (एक किताब के विमोचन के समय) मिले थे। वह बिल्कुल ठीक और फिट लग रहे थे और अपनी दो बेटियों की उपलब्धियों को साझा करने में खुश थे। वह अधिक चिंतित थे मेरे स्वास्थ्य के बारे में, मुझे वजन कम करने के लिए कहा था।

उस टीम के कप्तान कपिल न्यूज चैनल एबीपी पर एक टीवी शो के दौरान टूटे हुए दिखे। आंसू से भरे कपिल ने कहा, मैं इसे स्वीकार नहीं कर सकता। आई लव यू यश।

कपिल मुंबई में थे और यशपाल के अंतिम दर्शन के लिए दिल्ली पहुंच गए हैं।

शर्मा सहित पूरी टीम पिछले महीने 25 जून को गुरुग्राम में एक लक्जरी सीमित-संस्करण पुस्तक ओपस के विमोचन के लिए एकत्र हुई थी, जो भारत की 1983 विश्व कप जीत पर आधारित है।

शर्मा को मॉनिर्ंग वॉक से लौटने के बाद दिल का दौरा पड़ा और सुबह करीब साढ़े सात बजे वह गिर पड़े। इसी समय उन्होंने अंतिम सांस ली।

दाएं हाथ के बल्लेबाज, जो 1983 विश्व कप में भारत के मध्य क्रम की रीढ़ थे, ने 37 टेस्ट मैच खेले, जिसमें 1606 रन बनाए और 42 एकदिवसीय मैचों में 883 रन बनाए। उन्होंने पंजाब, हरियाणा और रेलवे का प्रतिनिधित्व करते हुए 160 प्रथम श्रेणी मैच भी खेले और 8933 रन बनाए।

लेकिन 1983 में भारत की पहली विश्व कप जीत में उनके प्रदर्शन के लिए उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सबसे ज्यादा याद किया गया। वह टूर्नामेंट में कप्तान कपिल देव के बाद भारत के लिए दूसरे सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे। यशपाल ने विश्व कप में 34.28 की औसत से 240 रन बनाए।

शर्मा ने 1983 विश्व कप के अपने पहले मैच में वेस्टइंडीज पर 34 रन की जीत में भारत को 262/8 बनाने में मदद करने के लिए 89 (120 गेंदों पर) स्कोर किया था। मैनचेस्टर में उस जीत ने भारत को आगे बढ़ने और टूर्नामेंट जीतने का आत्मविश्वास दिया।

यशपाल ने 1978 और 1985 के बीच भारत के लिए 37 टेस्ट और 42 वनडे मैच खेले। एक ²ढ़ मध्य क्रम के बल्लेबाज, यशपाल ने 1978 में सियालकोट में पाकिस्तान के खिलाफ वनडे मैच में भारत के लिए डेब्यू किया। अगले वर्ष उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्डस में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और सीरीज में चार में से तीन टेस्ट खेले।

इसके बाद यशपाल ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उस वर्ष के अंत में दिल्ली में एक पहला टेस्ट शतकलगाया। जिसके बाद उन्होंने कोलकाता में अगले टेस्ट में दूसरी पारी में नाबाद 85 रन बनाए।

यशपाल का अगला टेस्ट शतक दो साल से अधिक समय बाद आया, लेकिन चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ उनका 140 रन हमेशा याद किया जाएगा। यश्पाल ने जीआर विश्वनाथ के साथ 316 रन के रिकॉर्ड साझेदारी को अंजाम दिया था। दोनों ने पूरे दिन बल्लेबाजी की थी।

विकेटों के बीच एक उत्कृष्ट धावक, यशपाल ने सेवानिवृत्ति के बाद राष्ट्रीय चयनकर्ता के रूप में कार्य किया। उनके परिवार में पत्नी रेणु शर्मा, दो बेटियां पूजा तथा प्रीति और बेटा चिराग शर्मा हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 13 Jul 2021, 01:05:01 PM

For all the Latest Sports News, Cricket News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.