News Nation Logo
Banner

लेजेंड पीवी सिंधु का कद बढ़ता ही जा रहा है (प्रोफाइल)

लेजेंड पीवी सिंधु का कद बढ़ता ही जा रहा है (प्रोफाइल)

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 01 Aug 2021, 10:20:01 PM
PV Sindhu

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

टोक्यो: ओलंपिक फाइनल में जगह बनाने में नाकाम रहने की पीवी सिंधु की पीड़ा रविवार को कांस्य जीतने के बाद कुछ हद तक शांत हो गई होगी। पहलवान सुशील कुमार के बाद अब वह दो ओलंपिक पदक अर्जित करने वाली केवल दूसरी भारतीय - और पहली महिला एथलीट बन गई हैं।

सिंधु ने वह प्रतिष्ठित गौरव सुशील की तरह लगातार ओलंपिक खेलों में उस समय हासिल किया जब उन्होंने कांस्य पदक के मैच में अपनी चीनी प्रतिद्वंद्वी हे बिंगजियाओ को 21-13, 21-15 से हराया।

सिंधु को अक्सर अंतिम बाधा को पार करने की हिम्मत न होने के कारण खारिज कर दिया जाता रहा है लेकिन इस बाधा को पार कर 26 वर्षीय सिंधु देश को गौरवान्वित किया है।

2016 के रियो ओलंपिक खेलों में वह ओलंपिक खेलों में रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं, एक ऐसा कारनामा जो पिछले महीने टोक्यो खेलों के पहले दिन मीराबाई चानू ने किया था।

सिंधु बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय और बैडमिंटन वल्र्ड टूर फाइनल जीतने वाली पहली भारतीय भी हैं। और तो और वह मौजूदा विश्व चैंपियन भी हैं।

उनकी उपलब्धियों ने 2016 रियो खेलों के फाइनल में और इस साल की शुरूआत में स्विस ओपन फाइनल में उन्हें हराने वाली घायल कैरोलिना मारिन की अनुपस्थिति ने स्वर्ण या कम से कम एक और रजत पदक की उम्मीदें जगाई थीं।

लेकिन सेमीफाइनल में दुनिया की नंबर-1 ताई त्जु-यिंग स वह सीधे गेम में मैच हार गई और कांस्य के लिए लड़ने के लिए मजबूर हो गई।

पूर्व वॉलीबॉल खिलाड़ियों, पीवी रमना और विजया की बेटी, सिंधु को अपने माता-पिता से प्रतिस्पर्धात्मक विरासत मिली है। कोच पुलेला गोपीचंद और अब पार्क ताए संग के नेतृत्व में सिंधु अपने खेल में मजबूती से आगे बढ़ी है।

अपने पावर गेम के साथ-साथ स्मैश के लिए जानी जाने वाली लंबी खिलाड़ी इस साल गोपीचंद अकादमी से बाहर चली गई और ओलंपिक की तैयारी के लिए हैदराबाद के गाचीबोवली स्टेडियम में प्रशिक्षण लिया।

वह पहली बार कोपेनहेगन में 2013 विश्व चैंपियनशिप में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में आई थीं, जहां उन्होंने कांस्य पदक जीता था। इसके बाद उन्होंने 2014 में ग्वांगझू विश्व चैंपियनशिप में एक और कांस्य और इंचियोन में 2014 एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता।

हालांकि वह 2015 विश्व चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में हार गई थी। एक साल बाद बड़ा क्षण आया जब उन्होंने नौवीं वरीयता प्राप्त के रूप में राउंड-16 में ताई-त्जु को, दूसरी वरीयता प्राप्त वांग यिहान को क्वार्टर फाइनल में और सेमीफाइनल में नोजोमी ओकुहारा को हराया। लेकिन वह 83 मिनट के फाइनल में कैरोलिना से हार गईं।

इसके बाद उन्होंने बासेल में 2019 विश्व चैंपियनशिप में महिला एकल का खिताब जीता। एक ऐसी उपलब्धि जिसने भारतीय खेल दिग्गजों के क्लब में अपनी जगह पक्की कर ली। हालांकि ओलंपिक रजत जीतने के बाद ही उन्होंने पहले ही इसकी पुष्टि कर दी थी।

साल 2021 खिताबों से विहीन रहा है। वह स्विस ओपन के फाइनल में कैरोलिना से 12-21, 5-21 से हार गईं और फिर ऑल इंग्लैंड ओपन के सेमीफाइनल में थाईलैंड की पोर्नपावी चोचुवोंग से सीधे गेमों में 17-21, 9-21 से हार गईं।

और भले ही वह स्वर्ण जीतने या ओलंपिक खेलों के फाइनल में जगह बनाने में विफल रही हो, इस तथ्य से कि उन्होंने ओलंपिक कांस्य जीता है, केवल उसकी महानता को बढ़ावा देगा ।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 01 Aug 2021, 10:20:01 PM

For all the Latest Sports News, Cricket News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.