News Nation Logo
Banner

टेस्ट की जगह IPL को तरजीह मंजूर नहीं, सामने आया एंड्रयू स्ट्रॉस केविन पीटरसन विवाद

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस ने स्वीकार किया कि उन्होंने केविन पीटरसन के मुद्दों को ठीक तरह से नहीं सुलझाया था. इस आक्रामक बल्लेबाज को अनुशासन का पूरी तरह से पालन नहीं करने के बाद भी मौका मिलना चाहिए था.

Bhasha | Edited By : Pankaj Mishra | Updated on: 05 Apr 2020, 01:22:35 PM
Andrew Strauss Kevin Pietersen

एंड्रयू स्ट्रॉस बनाम केविन पीटरसन (Photo Credit: gettyimages)

London:

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस ने स्वीकार किया कि उन्होंने केविन पीटरसन के मुद्दों को ठीक तरह से नहीं सुलझाया था. इस आक्रामक बल्लेबाज को अनुशासन का पूरी तरह से पालन नहीं करने के बाद भी मौका मिलना चाहिए था. एंड्रयू स्ट्रास ने हालांकि कहा कि वह इस बात को अच्छी तरह समझते है कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) खिलाड़ियों के लिए क्यों जरूरी है लेकिन अगर वे टेस्ट क्रिकेट की जगह आईपीएल को प्राथमिकता देंगे तो इससे गलत उदाहरण पेश होगा. इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड की आईपीएल नीति को लेकर स्ट्रॉस और पीटरसन में काफी विवाद हुआ था. 

यह भी पढ़ें : सचिन तेंदुलकर की तरह अनुशासन में रहकर कोरोनावायरस से लड़ें, ब्रायन लारा ने पोस्ट किया वीडियो

एंड्रयू स्ट्रास ने स्काई स्पोट्र्स से कहा, आईपीएल को लेकर केपी (पीटरसन) के साथ मेरी हमेशा सहानुभूति रही है. उन्होंने कहा, मुझे समझ में आ गया था कि आईपीएल में दुनिया भर के बड़े खिलाड़ी एक साथ खेलते है और वहां खिलाड़ियों को बड़ी रकम दी जाती है. खास बात यह है कि जब स्ट्रॉस ईसीबी के क्रिकेट निदेश बने थे तो उन्होंने इंग्लैंड के खिलाड़ियों के लिए आईपीएल में भाग लेने के लिए एक खास कार्यक्रम तैयार किया था, जिसकी पीटरसन ने सबसे लंबे समय तक वकालत की थी.

यह भी पढ़ें : भारत के खिलाफ पुणे में 12 विकेट लेने वाले गेंदबाज ने लिया संन्यास

एंड्रयू स्ट्रास ने कहा, मुझे काफी लंबे समय तक लगता था कि आईपीएल के लिए विंडो की जरूरत है. मैंने ईसीबी से कहा था कि हम एक दूसरे से प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकते क्योंकि यह टीम के लिए बड़ी समस्या बन जाता. पूर्व कप्तान ने कहा, इसके साथ ही मुझे यह भी लगा कि टेस्ट क्रिकेट को छोड़ कर खिलाड़ी को आईपीएल में खेलने की छूट देने काफी खतरनाक है. इससे आप युवा खिलाड़ियों को यह सीख दे रहे कि आईपीएल टेस्ट क्रिकेट से ज्यादा जरूरी है.

यह भी पढ़ें : कोरोना खत्म होने के बाद भी बंद दरवाजों के बीच होगा क्रिकेट, इस खिलाड़ी ने की जोरदार वकालत

स्टॉस ने कहा कि उन्होंने पीटरसन को कई बार समझाया था कि टेस्ट क्रिकेट ज्यादा जरूरी है. उन्होंने कहा, मैं उस समय केपी से कह रहा था, सुनो, दोस्तो, यह स्थिति है. आप अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से बार बार टीम में आने और जाने का विकल्प नहीं चुन सकते. आपको इंग्लैंड के लिए मिले दायित्व को निभाना होगा और मैं उम्मीद करूंगा कि आपको ऐसे अंतराल मिले, जहां आईपीएल भी खेल सकते है.

यह भी पढ़ें : एमएस धोनी के लिए आज दिन है खास, 5 अप्रैल को लिखी गई थी धोनी के धोनी होने की कहानी

पीटरसन ने अपनी आत्मकथा में 2014-15 में टीम से बाहर किए जाने का जिक्र करते हुए इसके लिए मैट प्रायर और स्टुअर्ट ब्राड पर निशाना साधते हुए स्टॉस की भी आलोचना की थी. उन्होंने लिखा था कि स्ट्रॉस ने उनका समर्थन नहीं किया था.

First Published : 05 Apr 2020, 01:22:35 PM

For all the Latest Sports News, Cricket News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.