News Nation Logo

जानें लॉकडाउन में कैसे समय काट रहे हैं पृथ्वी शॉ, बोले- क्रिकेट से दूर रहना प्रताड़ना की तरह

Bhasha | Edited By : Sunil Chaurasia | Updated on: 22 Apr 2020, 02:48:45 PM
prithvi shaw

पृथ्वी शॉ (Photo Credit: getty images)

नई दिल्ली:  

भारत के युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ का कहना है कि डोपिंग प्रतिबंध के कारण क्रिकेट से दूर रहने का समय उनके लिये प्रताड़ना की तरह था लेकिन इससे उनकी रनों की भूख बढ गई है. बीसीसीआई ने पिछले साल 20 वर्ष के इस बल्लेबाज पर 15 नवंबर तक प्रतिबंध लगा दिया था. उन्होंने अनजाने में प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन कर लिया था जो आम तौर पर खांसी की दवा में पाया जाता है. शॉ ने आईपीएल टीम दिल्ली कैपिटल्स के इंस्टाग्राम लाइव सत्र में कहा, ‘‘वह गलती थी. क्रिकेट से दूर रहने का समय प्रताड़ना की तरह था.’’

ये भी पढ़ें- लिवर कैंसर से जूझ रहे डिंको सिंह के लिए धन जुटा रहे हैं मुक्केबाज विजेंदर सिंह और मनोज कुमार

उन्होंने कहा, ‘‘शक और सवाल पैदा होते हैं लेकिन मैने विश्वास बनाये रखा. मैने कुछ समय लंदन में बिताया जहां अपनी फिटनेस पर काम किया. प्रतिबंध पूरा होने पर मैने घरेलू क्रिकेट में वापसी की और मेरी रनों की भूख बढ गईथी. मैने बल्ला उठाया तो अहसास हुआ कि मेरी लय खोई नहीं है. इससे मेरी दृढता बढ गई.’’ कोरोना वायरस महामारी के बीच मानसिक स्वास्थ्य के महत्व पर उन्होंने कहा कि संयम बनाये रखना जरूरी है.

ये भी पढ़ें- कोरोना की वजह से कंगाल हुआ क्रिकेट, बेरोजगारी में अब ऐसा काम करने के लिए मजबूर हुए अधिकारी

उन्होंने कहा, ‘‘हममें से अधिकांश के पास संयम नहीं है. इस पर काम करना होगा. हर किसी को तलाशना होगा कि उसे क्या पसंद है और उसमें परिपक्वता लानी होगी. इससे अधिक संयमित होने में मदद मिलेगी.’’ लॉकडाउन के दौरान इंडोर अभ्यास के अलावा वह अपने पिता की किचन में भी मदद कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मैं अंडे बना लेता हूं और कुछ नयी चीजें सीख रहा हूं. पबजी भी खेलता हूं.’’

First Published : 22 Apr 2020, 02:48:45 PM

For all the Latest Sports News, Cricket News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.