News Nation Logo
Banner

तो क्या IPL में नहीं खेलेंगे Team India के खिलाड़ी, जानें क्या है पूरा मामला

कपिल देव ने कहा कि आईपीएल में खिलाड़ी अपने देश का प्रतिनिधित्व नहीं कर रहे हैं. इसलिए अगर उन्हें लगता है कि वे थक गए हैं तो वे आईपीएल के दौरान हमेशा ब्रेक ले सकते हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Chaurasia | Updated on: 28 Feb 2020, 10:11:25 AM
IPL, Kapil Dev

आईपीएल ट्रॉफी (Photo Credit: https://twitter.com)

नई दिल्ली:

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान कपिल देव ने मौजूदा खिलाड़ियों के बिजी शेड्यूल को देखते हुए एक बड़ी सलाह दी है. कपिल ने गुरूवार को कहा कि लगातार टीम इंडिया के लिए खेल रहे खिलाड़ियों को थकान से बचने के लिए आईपीएल छोड़ सकते हैं. आईपीएल का 13वें सीजन 29 मार्च से शुरू हो रहा है. सीजन का पहला मैच मौजूदा चैंपियन मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच खेला जाएगा.

ये भी पढ़ें- Women T20 World Cup: ऑस्ट्रेलिया ने बांग्लादेश को 86 रनों से रौंदा, एलिसा हीली ने खेली तूफानी पारी

कपिल देव ने कहा देश से कोई समझौता नहीं होना चाहिए
साल 1983 में भारत को पहला विश्व कप जिताने वाले कप्तान कपिल देव ने गुरूवार को एक सम्मान समारोह में कहा कि यदि टीम इंडिया के खिलाड़ियों को थकान महसूस करते हैं तो वे आईपीएल में न खेलें. कपिल देव ने कहा कि आईपीएल में खिलाड़ी अपने देश का प्रतिनिधित्व नहीं कर रहे हैं. इसलिए अगर उन्हें लगता है कि वे थक गए हैं तो वे आईपीएल के दौरान हमेशा ब्रेक ले सकते हैं. पूर्व कप्तान ने कहा कि जब खिलाड़ी अपने देश का प्रतिनिधित्व कर रहे होते हैं तो फिर अलग भावना होनी चाहिए. कपिल देव ने कहा कि जब खिलाड़ी अपने देश के लिए खेल रहे होते हैं तो उन्हें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की जरूरत होती है और किसी भी कीमत पर इससे समझौता नहीं करना चाहिए क्योंकि वे फ्रेंचाइजी क्रिकेट खेलने में बहुत अधिक ऊर्जा लगाते हैं. हालांकि कपिल देव ने वेलिंग्टन टेस्ट में मिली करारी हार पर टीम इंडिया के खिलाड़ियों के मानसिक और शारीरिक थकान को लेकर कुछ भी कहने से इंकार कर दिया. वेलिंग्टन टेस्ट में न्यूजीलैंड ने भारत को 10 विकेट से हराया था.

ये भी पढ़ें- NZ vs IND: न्यूजीलैंड टीम में विराट कोहली का कोई खौफ नहीं, जानें क्या बोले टॉम लाथम

टीम इंडिया के खिलाड़ियों के स्वास्थ्य को लेकर कपिल देव ने कहा कि टीवी देखना और बयान देना मेरे लिए बहुत मुश्किल और अनुचित है. 16 साल के अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर में भारत के लिए 131 टेस्ट और 225 वनडे मैच खेलने वाले पूर्व कप्तान ने कहा कि जब वे खुद क्रिकेट खेलते थे तो कई बार उन्हें भी थकान महसूस होती थी.

खराब फॉर्म की वजह से होती है थकान
कपिल देव की बातों से साफ हो गया है कि वे खिलाड़ियों के स्वास्थ्य को लेकर काफी गंभीर हैं. कपिल का मानना है कि खिलाड़ियों को फ्रेंचाइजी क्रिकेट से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर ध्यान देना चाहिए, क्योंकि यहां आप अपने देश का प्रतिनिधित्व करते हैं. कपिल देव ने यहां अपने करियर के दौरान हुई स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर बातचीत करते हुए कहा कि जब खिलाड़ी लगातार खेलते हुए अच्छा प्रदर्शन नहीं करते हैं तो उन्हें थकान महसूस होती है. कपिल ने कहा कि जब खिलाड़ी रन नहीं बना पाते या विकेट नहीं ले पाते तो उनके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है. अपनी कप्तानी में भारत को पहला विश्व कप जिताने वाले कपिल देव ने कहा कि यह एक बहुत ही भावनात्मक चीज है. आपका मन और आपका दिमाग उसी तरह काम करता है. खिलाड़ी का अच्छा प्रदर्शन उन्हें बहुत हल्का और खुशी देते हैं.

First Published : 28 Feb 2020, 10:11:25 AM

For all the Latest Sports News, Cricket News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×