News Nation Logo

वरुण धवन : मैं अपने करियर से संतुष्ट नहीं हूं, साउथ की फिल्मों से भी परहेज नहीं 

दक्षिण भारतीय फिल्मों को उत्तर भारत में भी मिल रही सफलता के बाद वरुण धवन दक्षिण की फिल्मों में भी काम करना चाहते हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 18 Jun 2022, 05:16:00 PM
varun dhawan

वरुण धवन (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:  

बद्रीनाथ की दुल्हनिया से लेकर मैं तेरा हीरो और जुड़वा 2 में अपनी कॉमिक टाइमिंग और बदलापुर और अक्टूबर में  अपने अभिनय का लोहा मनवाने वाले वरुण धवन ने विभिन्न भूमिकाओं में अपनी अलग छाप छोड़ी  है. बॉलीवुड में एक दशक पूरा करने वाले अभिनेता का कहना है कि वह वास्तव में अपने करियर से संतुष्ट नहीं हैं. वरुण धवन ने भले ही अलग-अलग तरह की भमिका निभा चुके हैं. लेकिन वह अपने काम से संतुष्ट नहीं हैं.

उन्होंने कहा, "मैं खुश हूं कि मुझे इस तरह की विभिन्न भूमिकाएं निभाने का मौका मिला लेकिन मैं संतुष्ट नहीं हूं. मेरा मानना ​​है कि महामारी के बाद यह मेरे लिए फिर से शुरू होने जैसा है. मैं फिल्म इंडस्ट्री में नवागंतुक की तरह महसूस करता हूं और मानता हूं कि मुझे चीजों को फिर से करने की जरूरत है. लेकिन मैं चीजों को उसी तरह से नहीं करना चाहूंगा. महामारी होने तक पहले आठ वर्षों तक मुझे काम करते समय तनाव नहीं होता था. मेरी उम्र होने के कारण मुझे बहुत मज़ा आ रहा था लेकिन साथ ही मैं अब बहुत तनाव महसूस कर रहा हूं. अब मैं अच्छी फिल्मों का आनंद लेना और करना चाहता हूं."  

यह भी पढ़ें: इस Viral Video के चलते FATF की ग्रे लिस्ट में बना हुआ है पाकिस्तान

कई हिट फिल्में दे चुके धवन का कहना है कि वह सफलता हासिल करने को लेकर तनाव में रहेंगे. "बड़े पैमाने पर समाज आपको यह सोचने के लिए मजबूर करता है कि यदि आप सफल नहीं हैं, तो आप असफल हैं. इन चीजों ने मेरे काम को प्रभावित किया और महामारी के दौरान मैंने यह आत्मनिरीक्षण किया. मैं खुश रहना चाहता हूं और अच्छा काम करना चाहता हूं. मैं किसी तरह का बोझ नहीं उठाना चाहता. एक अभिनेता के रूप में मैं नई चीजों को एक्सप्लोर करना चाहता हूं क्योंकि मेरा मानना ​​है कि अगर आप अलग-अलग चीजों को नहीं आजमाएंगे तो कोई ग्रोथ नहीं होगी. आपको लगातार विकसित होने की जरूरत है."

पिछले कुछ महीनों में पुष्पा: द राइज, आरआरआर, केजीएफ 2 जैसी कई बड़े बजट की दक्षिण फिल्मों ने न केवल दक्षिणी बाजार में, बल्कि उत्तर भारतीय बॉक्स ऑफिस पर और काफी हद तक तूफान ला दिया है. हालांकि, हाल के दिनों में कई हिंदी फिल्में बॉक्स ऑफिस पर उस जादू को फिर से बनाने में नाकाम रही हैं. इसने मंदी के बारे में एक बहस को जन्म दिया है कि बॉलीवुड को बैक-टू-बैक रिलीज का सामना करना पड़ा है और दक्षिण की फिल्मों ने हिंदी फिल्मों को कैसे पछाड़ दिया है.

दक्षिण भारतीय फिल्मों को उत्तर भारत में भी मिल रही सफलता के बाद वरुण धवन दक्षिण की फिल्मों में भी काम करना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि भाषा की परवाह किए बिना कोई भी अच्छी फिल्म काम करेगी. उन्होंने कहा,  “दर्शक खराब फिल्म नहीं देखेंगे, चाहे वह अंग्रेजी हो, हिंदी हो या दक्षिण की फिल्म हो. मुझे लगता है कि अच्छी फिल्में काम करती हैं. हां, हमारी रिलीज को लेकर तनाव है लेकिन अगर लोग साउथ और हॉलीवुड सहित किसी भी फिल्म के लिए नहीं जाते तो हम अधिक तनावपूर्ण स्थिति में होते. मुझे लगता है कि कुल मिलाकर भारतीय बॉक्स ऑफिस स्वस्थ स्थिति में है."

धवन इन दिनों अपनी अपकमिंग फिल्म 'जुगजुग जीयो' की रिलीज के लिए तैयार हैं. वह इस बात से सहमत हैं कि हिंदी फिल्म निर्माताओं को पुनर्विचार करने और कुछ ऐसा लाने की जरूरत है जिसे दर्शक देखना चाहते हैं. “क्या हमारे बॉलीवुड को पुनर्विचार की ज़रूरत है? हां, हमें निश्चित रूप से ऐसा करने की जरूरत है. सामान्य तौर पर फिल्म व्यवसाय को भी अपनी कमर कसने की जरूरत है. हॉलीवुड ने जितनी फ्लॉप फिल्में दी हैं, उसकी संख्या गिनें तो वह बहुत बड़ी है. साउथ में खराब प्रदर्शन करने वाली फिल्मों की संख्या भी बहुत ज्यादा है. हिंदी फिल्म उद्योग में, हमारे पास बहुत सारी अच्छी फिल्में आ रही हैं, इसलिए हम सभी आशान्वित हैं."

First Published : 18 Jun 2022, 05:16:00 PM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.