News Nation Logo
3 लोकसभा और 7 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे आज PM मोदी आज 'मन की बात' कार्यक्रम को करेंगे संबोधित भारतीय टीम के कप्तान रोहित शर्मा कोरोना संक्रमित दिल्ली: बादली इलाके के प्लास्टिक गोदाम में लगी आग, मौके पर फायर ब्रिगेड फायर उत्तर प्रदेश: आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव के लिए मतगणना जारी पाकिस्तान के जेल में मारे गए सरबजीत सिंह की बहन का हार्ट अटैक से निधन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जर्मन प्रेसीडेंसी के तहत G7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए जर्मनी पहुंचे एकनाथ शिंदे ने 12 बजे गुवाहाटी के होटल में विधायकों की बैठक बुलाई है भारत में आज 11,739 नए Covid19 मामले सामने आए, सक्रिय मामले 92,576 हैं विपक्षी पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा कल दाखिल करेंगे अपना नामांकन केंद्र सरकार ने शिवसेना के 15 बागी विधायकों को 'Y+' श्रेणी के सशस्त्र केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF दिल्ली: राजेंद्र नगर विधानसभा सीट पर जीते AAP के दुर्गेश पाठक रामपुर में बीजेपी ने लहराया विजय पताका, 42 हजार से ज्यादा वोटों से जीत दर्ज की

दुनिया के पास महज 10 हफ्ते का गेहूं, भारत भरेगा सभी का पेट

रूस से युद्ध के चलते यूरोप समेत दुनिया के तमाम देशों को गेहूं की आपूर्ति नहीं हो पा रही है. गौरतलब है कि रूस और यूक्रेन दुनिया को एक-चौथाई गेहूं का निर्यात करते हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 23 May 2022, 01:39:31 PM
Wheat

रूस-यूक्रेन युद्ध से दुनिया पर छाया गेहूं का अभूतपूर्व संकट. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • रूस-यूक्रेन युद्ध से दुनिया को गेहूं की सप्लाई प्रभावित
  • भारत ने भी हाल में लगाया गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध
  • जापान में बाइडन मोदी से इसको लेकर कर सकते आग्रह

नई दिल्ली:  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) जापान में क्वाड के सदस्य देशों की बैठक से इतर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) से द्विपक्षीय बातचीत भी करेंगे. इस बातचीत में रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia Ukraine War) समेत भारत की ओर से गेंहू के निर्यात पर लगाए गए प्रतिबंध जैसे मुद्दों पर चर्चा होगी. गेहूं के निर्यात पर रोक लगाने से दुनिया के समक्ष गेहूं का गंभीर संकट खड़ा हो गया है. इसकी एक बड़ी वजह तो रूस-यूक्रेन युद्ध है, जिस कारण यूक्रेन दुनिया के तमाम देशों को गेहूं का निर्यात नहीं कर पा रहा है. उस पर भारत ने भी गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है. गेहूं के संकट का आलम यह है कि संयुक्त राष्ट्र (United Nations) तक को चेतावनी देनी पड़ी है कि यदि इसका समाधान नहीं निकला तो बेहद गंभीर हालात हो जाएंगे. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक दुनिया के पास महज 10 सप्ताह का ही गेहूं बचा है. यही वजह है कि अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन भारतीय पीएम मोदी के साथ इस पर खासतौर पर चर्चा करेंगे. 

रूस-यूक्रेन युद्ध से गेहूं की सप्लाई प्रभावित
गौरतलब है कि यूक्रेन को गेहूं के निर्यात के कारण 'रोटी की टोकरी' कहा जाता है. रूस से युद्ध के चलते यूरोप समेत दुनिया के तमाम देशों को गेहूं की आपूर्ति नहीं हो पा रही है. गौरतलब है कि रूस और यूक्रेन दुनिया को एक-चौथाई गेहूं का निर्यात करते हैं. रूस तो गेहूं के निर्यात को बतौर हथियार इस्तेमाल कर रहा है. यूक्रेन सप्लाई नहीं भेज पा रहा है. ऐसे में भारत के गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने से स्थिति और बद्तर हो रही है. यूरोप और अमेरिका में इस साल खराब मौसम से गेहूं की फसल प्रभावित हुई है. गो इंटेलिजेंस की रिपोर्ट बताती है कि गेहूं की सप्लाई प्रभावित होने से दुनिया के सामने महज 70 दिन का गेहूं ही बचा है.

यह भी पढ़ेंः शशि थरूर ने रेलवे को Quomodocunquize कह कसा तंज, इसका मतलब जानें

बाइडन पीएम मोदी से करेंगे गेंहू आपूर्ति पर बात
गो इंटेलिजेंस की मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी सारा मेनकर ने गेहूं की सप्लाई बाधित देख दो-टूक चेतावनी दी कि खाद्यान की सप्‍लाइ कई 'असाधारण' चुनौतियों से जूझ रही है. इसमें उर्वरकों की कमी, जलवायु परिवर्तन और खाद्यान तेल तथा अनाज का रेकॉर्ड कम भंडार इसकी वजह है. उन्‍होंने संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद से कहा कि बिना तत्‍काल और आक्रामक वैश्विक प्रयास के हम इंसानों के लिए असाधारण मानवीय त्रासदी और आर्थिक नुकसान की ओर बढ़ रहे हैं. उन्‍होंने बताया कि ऐसा संकट एक पीढ़ी में केवल एक ही बार आता है और यह भूराजनीतिक दौर को नाटकीय तरीके से बदल रहा है. पश्चिमी विशेषज्ञ मान रहे हैं कि रूस गेहूं की सप्लाई चेन खासकर यूक्रेन के स्टॉक को नष्ट कर रहा है. यही वजह है कि जापान में क्वाड बैठक के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति पीएम मोदी से गेहूं के निर्यात पर लगी रोक को लेकर खासतौर पर चर्चा करेंगे. 

First Published : 23 May 2022, 01:37:21 PM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.