News Nation Logo

कांग्रेस अध्यक्ष न होकर भी फैसलों पर राहुल का एकाधिकार, जी-23 फिर नाराज

विभिन्न चुनावों में हार के बाद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के इस्तीफे के बाद से सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष हैं, लेकिन सभी फैसले और बैठकें राहुल गांधी के आवास पर हो रही हैं.

Written By : मनोज शर्मा | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 06 Sep 2021, 01:31:28 PM
Rahul Gandhi

पंजाब से लेकर छत्तीसगढ़ के विवाद को राहुल ने कथित तौर पर दूर किया. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • सभी फैसले और बैठकें राहुल गांधी के निवास पर
  • असंतुष्ट धड़ा जी-23 एक बार फिर हुआ मुखर
  • अगला साल कांग्रेस के लिए खासा चुनौतीपूर्ण

नई दिल्ली:

विभिन्न चुनावों में हार के बाद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के इस्तीफे के बाद से सोनिया गांधी  कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष हैं, लेकिन सभी फैसले और बैठकें राहुल गांधी के आवास पर हो रही हैं, जो उन्हें पार्टी का सर्वोच्च नेता बनाती हैं. कांग्रेस (Congress) के 23 असंतुष्ट सदस्य जिसे जी-23 (G-23) भी कहा जाता है, उसने प्रभावी नेतृत्व के लिए एक पत्र लिखा था. कई पत्र लेखकों को पार्टी की विभिन्न समितियों में समायोजित किया गया था, लेकिन वे परामर्श प्रक्रियाओं में शामिल नहीं हुए हैं. इसने समूह को और नाराज कर दिया है और समूह के सूत्रों का कहना है कि मुद्दा वही बना हुआ है. 

सारे बड़े फैसले राहुल गांधी के आवास पर
छत्तीसगढ़ हो या पंजाब, सभाओं का केंद्र 12 तुगलक गली राहुल गांधी का आवास था. वहां दो महत्वपूर्ण बैठकें हुईं जिनमें टी.एस. सिंहदेव और भूपेश बघेल उपस्थित थे और बाद में बघेल के साथ भी बैठकें राहुल के स्थान पर ही हुई थीं. इन घटनाओं ने यह स्पष्ट कर दिया है कि कांग्रेस में निर्णय अब राहुल गांधी तक ही सीमित है. पंजाब के मुद्दे को राहुल गांधी के आवास पर सुलझाया गया और नवजोत सिंह सिद्धू को राज्य में पार्टी अध्यक्ष नियुक्त किया गया. बाद में सोनिया गांधी के साथ एक बैठक हुई, लेकिन निर्णय राहुल गांधी के आवास पर लिया गया, जिसे प्रियंका गांधी वाड्रा का समर्थन प्राप्त था.

यह भी पढ़ेंः सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की सिंघु बॉर्डर खोलने की याचिका, कहा-HC के सामने रखें बात

जी-23 असंतुष्ट नेताओं में भी कुलबुला रहे प्रश्न
सिद्धू द्वारा कांग्रेस नेतृत्व पर हमला करने के बाद, पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी की प्रतिक्रिया आई, जिन्होंने कहा कि यदि वे एक शब्द भी बोलते हैं तो उनका नाम लिया जा रहा है. उन्होंने स्थिति का वर्णन करने के लिए एक उर्दू दोहे का इस्तेमाल किया, 'हम आह भी भरते हैं तो, हो जाते हैं बदनाम, वो कत्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होते.' पिछले साल 23 अगस्त को तिवारी समेत नेताओं ने सोनिया गांधी को प्रभावी नेतृत्व और ब्लॉक से सीडब्ल्यूसी स्तर तक के लंबित चुनाव के लिए एक पत्र लिखा था. लेकिन कुछ भी नहीं हुआ और कांग्रेस तंत्र राहुल गांधी के अधीन काम कर रहा है. जी-23 नेताओं की नाराजगी यह है कि या तो उन्हें पूरी जिम्मेदारी लेनी चाहिए या किसी और के लिए रास्ता बनाना चाहिए. उनमें से ज्यादातर चाहते हैं कि सोनिया गांधी पूर्णकालिक अध्यक्ष के रूप में काम करें, लेकिन सूत्रों का कहना है कि स्वास्थ्य कारणों से वह अनिच्छुक हैं.

यह भी पढ़ेंः हिमाचल में 100% लोगों को लगी वैक्सीन की पहली डोज, पीएम मोदी ने दी बधाई

अगला साल कांग्रेस के लिए होगा बेहद चुनौतीपूर्ण
के.सी. वेणुगोपाल के बढ़ते दबदबे से भी कांग्रेस नेता खफा हैं. राजस्थान का मसला पिछले एक साल से लटका हुआ है और अब कहा जा रहा है कि राज्य में बहुप्रतीक्षित कैबिनेट विस्तार जल्द होगा. छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ताकत के प्रदर्शन में 50 से अधिक विधायकों को दिल्ली लाने के बाद अपनी ताकत दिखाई. कांग्रेस कठिन समय का सामना कर रही है और छह राज्यों - उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब, मणिपुर और बाद में गुजरात में चुनाव का सामना करने जा रही है. दिल्ली और मुंबई में नगर निकाय चुनाव होने हैं जिन्हें प्रतिष्ठित चुनाव भी माना जाता है. गोवा के लिए कांग्रेस ने पी चिदंबरम को वरिष्ठ पर्यवेक्षक और मणिपुर के लिए जयराम रमेश को नियुक्त किया है, लेकिन अन्य राज्यों के लिए कोई स्पष्टता नहीं है. अगले साल की शुरूआत में चुनाव परिणाम कांग्रेस के भाग्य का फैसला करेंगे. हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में, पार्टी असम, केरल, पुडुचेरी में हार गई और एकमात्र सांत्वना तमिलनाडु थी जहां वह द्रमुक का एक जूनियर पार्टनर है.

First Published : 06 Sep 2021, 01:29:20 PM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.