News Nation Logo

दुश्मन को पलभर में ढेर कर देगी इजरायल की 'रोबोट सेना', इंसानों की ले सकती है जगह

Israel Elbit Systems Roboteam: इजरायल ने इस ऐसी रोबोट सेना तैयार की है तो सीमा पर इंसानों की जगह ले सकती है. यह सेना 30 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से दौड़ने में सक्षम है. इतना ही नहीं ये रोबोट 1200 किलो तक पेलोड ले जाने में भी सक्षम हैं.  

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 20 Nov 2021, 09:06:03 AM
Rook

दुश्मन को पलभर में ढेर कर देगी इजरायल की 'रोबोट सेना' (Photo Credit: Roboteam)

highlights

  • दुश्मन का खुद पता लगाकर ढेर करने में माहिर
  • 1200 किलो तक ले जा सकते हैं पेलोड
  • 30 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से कर सकते हैं दुश्मन का पीछा 

नई दिल्ली:

हमास और ईरान जैसे दुश्मनों से घिरे इजरायल ने एक ऐसी रोबोट सेना तैयार की है जो अपने दुश्मन को पल भर में ढेर कर सकती है. ये रोबोट सेना ना सिर्फ युद्ध लड़ने में माहिर है बल्कि अपने साथ अन्य हथियार और सैनिकों को भी ले जा सकती है. इजरायल में कई ऐसे इलाके हैं जहां इसानों को भेजना जोखिम भरा साबित हो सकता है, ऐसी जगहों पर इन रोबोट सेना को भेजा जा सकता है. इन रोबोट को दूर बैठकर कंट्रोल किया जा सकता है वहीं ये खुद भी दुश्मन को ढेर करने में सक्षम हैं. इन रोबोट को इल्बिट और रोबोटीम ने तैयार किया है. इजरायल की यह कंपनी रक्षा से जुड़े उपकरण और हथियार बनाती है.  

दुश्मनों का खुद पता लगाकर कर सकता है ढेर
इस रोक रोबोट की सबसे बड़ी खासियत यह है कि रोबोट दुश्मन को खुद पता लगा सकता है. इसमें लगे सेंसर खतरे को भांप लेते हैं. आर्टिफिशल इंटेलिजेंस से लैस यह रोबोट मैदानी और पहाड़ी सभी जगहों पर दुश्मन को ढेर करने की क्षमता रखता है. इस रोबोट को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि अगर रोबोट का कोई पार्ट खराब होता है तो सैनिक उसे फील्ड में भी बदल सकते हैं. यह रोबोट अपने साथ 1200 किलो तक पेलोड ले जाने की क्षमता रखता है. 30 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने के कारण यह फील्ड में काफी उपयोगी माना जा रहा है. एक बार इसकी बैट्री को फुल चार्ज करने पर यह 8 घंटे तक आसानी से काम कर सकता है. इतना ही नहीं बड़े मिशन के लिए इसमें एक अतिरिक्त बैट्री लगाने की भी जगह है. कंपनी का दावा है कि एक व्यक्ति ही कई रासे रोक रोबोट को एक साथ नियंत्रित कर सकता है.   

ऐसे बन सकता है गेम चेंजर 
सैनिकों को सबसे अधिक परेशानी रेगिस्तान और पहाड़ी इलाकों में आती है. ऐसी जगहों पर ये रोबोट बड़ी आसानी से मिशन को अंजाम दे सकते हैं. रोबोट ना सिर्फ घास, पत्थर और अन्य रास्तों को पहचानने में माहिर हैं बल्कि यह दुश्मन का पीछा भी कर सकते हैं. मिशन के दौरान अगर सैनिकों को किसी भी तरह की मदद की जरूरत पड़ती है तो यह रोबोट उसे भी पूरा करने की क्षमता रखते हैं. इस कंपनी ने अब तक 20 देशों को अपने खतरनाक रोबोट बेचे हैं.

First Published : 20 Nov 2021, 09:06:03 AM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

ROOK UGV