News Nation Logo

दिल्ली में आ सकता है बड़ा भूकंप, हिमालय बनेगा केंद्र

पूर्वी भारत के अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) से लेकर पश्चिम में पाकिस्तान तक फैली हिमालय (Himalayas) पर्वत माला एक बार फिर कई सिलसिलेवार भूकंपों का गढ़ बन सकती है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 23 Oct 2020, 12:51:13 PM
Earthquakes Delhi

सांकेतिक तस्वीर (Photo Credit: दिल्ली में आ सकता है विनाशकारी भूकंप.)

नई दिल्ली:

कोरोना संक्रमण के दौरान लॉकडाउन झेल रहे दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) इलाके में डेढ़ दर्जन से अधिक भूकंप के झटके महसूस किए गए. इस कड़ी में अब वैज्ञानिकों ने एक भारी खतरे के प्रति आगाह किया है. उनका मानना है कि पूर्वी भारत के अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) से लेकर पश्चिम में पाकिस्तान तक फैली हिमालय (Himalayas) पर्वत माला एक बार फिर कई सिलसिलेवार भूकंपों का गढ़ बन सकती है. हिमालय पर्वत शृंखला में कई सिलसिलेवार भूकंपों के साथ बड़ा भूकंप कभी भी आ सकता है. इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर आठ या उससे भी अधिक हो सकती है.

यह भी पढ़ेंः कोर्ट का फैसला- पति को हर महीने 2000 रुपये का गुजारा भत्ता दे पत्नी

हिमालय के पास के देशों में भारी तबाही
वैज्ञानिकों का दावा है कि हिमालय के आसपास घनी आबादी वाले देशों में इससे भारी तबाही मच सकती है राजधानी दिल्ली भी इसकी जद में होगी. हालांकि ये भूकंप कब आएंगे इसका अनुमान फिलहाल नहीं लगाया गया है. वैज्ञानिकों का मानना है कि अगले 100 साल में इनके आने की आशंका है. वैज्ञानिकों के मुताबिक पूर्वी भारत के अरुणाचल प्रदेश से लेकर पश्चिम में पाकिस्तान तक फैली हिमालय पर्वत माला एक बार फिर कई सिलसिलेवार भूकंपों का गढ़ बन सकती है. इसके पहले भी यह क्षेत्र भूकंप का गढ़ रह चुका है.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली की हवा बहुत बिगड़ी, दो दिन में और बढ़ जाएगा 'जहर'

भीषण होंगे भूकंप
शोध के मुताबिक हिमालय में आने वाले भूकंप 20वीं सदी में अलास्का की खाड़ी से लेकर पूर्वी रूस के कमचटका में आए भूकंपों जैसे भीषण होंगे. यूनिवर्सिटी ऑफ नेवादा का शोध सीसमोलॉजिकल रिसर्च लेटर्स जर्नल के अगस्त के अंक में प्रकाशित हुआ था. कोलकाता स्थित भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान में पृथ्वी विज्ञान विभाग की प्रोफेसर सुप्रिया मित्रा भी इस शोध को सही मान रही हैं. उनके मुताबिक पहले हुए कुछ शोध भी इस ओर इशारा कर चुके हैं. उन्होंने कहा पहले हुए अध्ययनों में सेटेलाइट तस्वीरों के आधार पर आकलन किया गया, लेकिन इस शोध में सबसे हाल के प्रागैतिहासिक भूकंपों के समय और आकार को भूविज्ञान के आधार पर परिभाषित किया गया है. 

यह भी पढ़ेंः  रेल कर्मचारियों को दिवाली से पहले मिली बड़ी खुशखबरी, 78 दिन के वेतन के बराबर मिलेगा बोनस

दिल्ली भी महसूस करेगी बड़े झटके
शोध के मुताबिक से भूकंप इतने भीषण होंगे कि हिमालय क्षेत्र के दक्षिण में स्थित राजधानी दिल्ली में भी तगड़े झटके महसूस होंगे. गौरतलब है कि उत्तर भारत में बीते चार महीनों में कई हल्के भूकंप आए हैं जो इस ओर संकेत करते हैं कि बड़े भूकंप को लेकर किया जा रहा दावा झूठ नहीं है. वैज्ञानिकों की मानें तो ऐसे कई छोटे भूकंप बड़ी तबाही का संकेत होते हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 23 Oct 2020, 12:51:13 PM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.