News Nation Logo
Banner

किसानों के मंच से हुआ ऐलान, अब आंदोलन राजनीतिक हो चला है

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन का 69वां दिन भी ढल चुका है. सरकार से कुछ लेकर लौटने की आस के साथ आए किसान अब भी खाली हाथ हैं और आगे का किसान आंदोलन राजनीति के दलदल में आकर फंस गया है.

By : Dalchand Kumar | Updated on: 02 Feb 2021, 05:20:54 PM
Rakesh Tikait

किसानों के मंच से हुआ ऐलान, अब आंदोलन राजनीतिक हो चला है (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन का 69वां दिन भी ढल चुका है. सरकार से कुछ लेकर लौटने की आस के साथ आए किसान अब भी खाली हाथ हैं और आगे का किसान आंदोलन राजनीति के दलदल में आकर फंस गया है. किसानों के मंच पर अब सियासत का रंग चढ़ चुका है. सरकार के खिलाफ नारों में 'जय किसान' के साथ राजनीतिक धुरंधरों की जय जयकार हो चली है. क्योंकि सभी की निगाह उत्तर प्रदेश में 2022 के चुनावों पर लगी है. विपक्षी दल समर्थन देकर किसान मंच पर कब्जा कर चुके हैं.

यह भी पढ़ें : किसान आंदोलन: सियासी जमीन बनाने में जुटा रालोद

पिछले 2 महीने के आंदोलन में नाम मात्र ही सिमटा गाजीपुर बॉर्डर 26 जनवरी के बाद से सियासत का अखाड़ा बन चुका है. जहां किसान भले ही न पहुंच रहे हों, मगर वोट के तराजू में किसानों को तौलकर राजनीतिक रोटियां सेकने वालों की लंबी लाइन लगी है. किसानों के मंच पर अन्नदाता की जगह अब सियासत का बोलबाला है. दिल्ली से महाराष्ट्र तक सभी किसान मंच आ चढ़े हैं. जिसकी तस्वीर हर दिन दिखाई पड़ रही है. गाहे बगाहे नेताओं के मुख से इसका जिक्र भी अब होने लगा है. मंगलवार को किसानों के समर्थन देने पहुंचे राष्ट्रीय लोकदल के नेता कुंवर नरेंद्र सिंह ने भी इस पर बात रख दी है.

देखें : न्यूज नेशन LIVE TV

मथुरा संसदीय क्षेत्र से बीजेपी की हेमा मालिनी के सामने चुनाव लड़ चुके राष्ट्रीय लोकदल के नेता कुंवर नरेंद्र सिंह गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंचे, लेकिन जो बयान उन्होंने दिया उसने इस मंच का खुलासा करके रख दिया है. कुंवर नरेंद्र सिंह ने कहा है कि मंच पूरी तरह से राजनीतिक हो गया है. सभी पार्टियों के लोग यहां पहुंच रहे हैं. उसकी वजह भाजपा है, लेकिन कम से कम नरेंद्र सिंह ने इस बात को माना कि अब किसान आंदोलन का यह मंच सिर्फ किसानों का ही नहीं रहा, बल्कि राजनीतिक पार्टियां भी इस पर कब्जा कर चुकी हैं.

यह भी पढ़ें : किसान आंदोलन हिंसा के बाद गिरफ्तार लोगों की रिहाई पर सुनवाई से दिल्ली हाईकोर्ट का इनकार 

यहां राजनीतिक दलों को अन्नदाता की बेबसी से कहीं अधिक उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के लिए अपनी वोट दिख रही है. और इससे भी ज्यादा लोकदल जैसे दलों को अपनी खोई जमीन नजर आने लगी है. ऐसे में किसान आंदोलन किसानों का न रहकर राजनीतिक हो चला है.. हालांकि समझने वाली बात यह भी है कि इसी को तो भारतीय जनता पार्टी बीते हफ्तों से चिल्लाती आ रही है, मगर अब तक देश का नागरिक बीजेपी की बचकानी बातें ही समझता रहा. बहरहाल, अब किसान मंच से भी ऐलान हो चुका है. अब यह आंदोलन राजनीतिक हो चला है. 

First Published : 02 Feb 2021, 05:15:53 PM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.