News Nation Logo

इतिहास में दर्ज हो गई 135 साल पुरानी वारंगल जेल

तेलंगाना में 135 साल पुरानी निजाम युग की वारंगल सेंट्रल जेल इतिहास बन गई है, जब अधिकारियों ने एक मल्टी सुपर-स्पेशियलिटी अस्पताल बनाने के लिए जेल के ढांचे को ध्वस्त कर दिया.

IANS | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 14 Jun 2021, 03:48:05 PM
Warangal Jail

इतिहास में दर्ज हो गई 135 साल पुरानी वारंगल जेल (Photo Credit: @IANS)

हैदराबाद:

तेलंगाना में 135 साल पुरानी निजाम युग की वारंगल सेंट्रल जेल इतिहास बन गई है, जब अधिकारियों ने एक मल्टी सुपर-स्पेशियलिटी अस्पताल बनाने के लिए जेल के ढांचे को ध्वस्त कर दिया. रविवार को बड़े पैमाने पर की गई तोड़फोड़ का काम लगभग 24 घंटे के भीतर पूरा कर लिया गया. 59.5 एकड़ में फैली इस जेल का निर्माण 1885 में तत्कालीन हैदराबाद राज्य के शासक निजाम मीर महबूब अली खान (छठे) की सरकार द्वारा किया गया था. भारतीय स्वतंत्रता संग्राम, तेलंगाना किसानों के आंदोलन और तेलंगाना राज्य के आंदोलन में भाग लेने वालों सहित कई प्रमुख हस्तियों को वारंगल शहर की इस जेल में कैद किया गया था.

ये खबर मिलने के बाद कि कुछ लोग जेल को गिराने से रोकने के लिए उच्च न्यायालय का रुख करने की योजना बना रहे हैं, अधिकारियों ने काम को तेज गति से पूरा करने के लिए भारी मशीनरी तैनात की है. ऑपरेशन को गोपनीयता के साथ पूरा किया गया क्योंकि सभी संपर्क मार्गों को सील कर दिया गया था और यहां तक कि मीडियाकर्मियों को भी क्षेत्र में प्रवेश नहीं दिया गया था.

यह तेलंगाना की दूसरी सबसे बड़ी जेल थी. इस महीने की शुरूआत में, वहां कैद सभी 957 कैदियों को महबूबाबाद, चंचलगुडा, चेरलापल्ली ओपन-एयर जेल, निजामाबाद, आदिलाबाद और खम्मम की जेलों में स्थानांतरित कर दिया गया था. राज्य सरकार ने वारंगल के लिए नई केंद्रीय जेल के लिए 250 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं. टीएस जेल के महानिदेशक राजीव त्रिवेदी ने कहा कि नई जेल वारंगल के बाहरी इलाके में ममनूर चौथी बटालियन पुलिस कैंप परिसर के पास बनाई जाएगी. अधिकारियों ने नई जेल के निर्माण के लिए 100 एकड़ जमीन का सर्वे किया.

इस बीच राज्य सरकार ने पुरानी जेल की जगह आने वाले सुपर मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल के लिए 24 मंजिला भवन बनाने का फैसला किया है. मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने कहा कि इस अस्पताल में देश के किसी भी अन्य अस्पताल की तुलना में बेहतर चिकित्सा सुविधाएं होंगी. उन्होंने अधिकारियों को आपातकालीन देखभाल के लिए मरीजों को लाने वाले हेलीकॉप्टरों की लैंडिंग के लिए छत पर एक हेलीपैड सुविधा सहित सभी आधुनिक सुविधाएं प्रदान करने का निर्देश दिया.

केसीआर ने अधिकारियों से कहा कि वे कनाडा की शैली के क्रॉस वेंटिलेशन के साथ एक ग्रीन बिल्डिंग के रूप में अस्पताल का निर्माण करें. उन्होंने संबंधित अधिकारियों को प्रत्यक्ष अनुभव प्राप्त करने के लिए कनाडा जाने का निर्देश दिया. मुख्यमंत्री 21 जून को अस्पताल का शिलान्यास करेंगे. यह सुविधा कनाडा में बहुमंजिला मैकेंजी स्वास्थ्य विज्ञान केंद्र की तर्ज पर बनने की संभावना है. केसीआर द्वारा वारंगल जेल का दौरा करने के ठीक एक महीने बाद अस्पताल की आधारशिला रखी जाएगी और इसे नवीनतम तकनीक, उपकरण और चिकित्सा सेवाओं के साथ एक मल्टी सुपर-स्पेशियलिटी अस्पताल बनाने का फैसला किया जाएगा.

उन्होंने घोषणा की कि वारंगल के बाहरी इलाके में एक विशाल परिसर में चेरलापल्ली ओपन एयर जेल की तर्ज पर एक जेल का निर्माण किया जाएगा. नई जेल में एक सुधार केंद्र भी होगा. वारंगल में प्रस्तावित अस्पताल, हैदराबाद के बाद राज्य का दूसरा सबसे बड़ा शहर, राज्य में स्वास्थ्य सेवा के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने की राज्य सरकार की योजना का हिस्सा है. राज्य मंत्रिमंडल ने पिछले सप्ताह निर्णय लिया कि सरकार अगले दो वर्षों में लोगों को विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए 10,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी.

First Published : 14 Jun 2021, 03:48:05 PM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो