News Nation Logo

बैंक नोटों पर पहली बार कब लगा महात्मा गांधी का चित्र, जानें भारतीय मुद्रा का संक्षिप्त इतिहास  

Pradeep Singh | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 29 Oct 2022, 04:10:12 PM
indian note

भारतीय मुद्रा (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • भारतीय नोटों पर गांधी पहली बार 1969 में अपनी 100वीं जयंती पर बैंकनोटों पर दिखाई दिए
  • इससे पहले, मंदिर, उपग्रह, बांध और प्रतिष्ठित उद्यान भारतीय कागज के नोटो को सुशोभित करते थे
  • अरविंद केजरीवाल ने इंडोनेशियाई बैंक नोटों पर भी भगवान गणेश का जिक्र किया

नई दिल्ली:  

समय-समय पर भारतीय करेंसी पर लगी गांधी की फोटो को बदलने की बात होती रहती है. इस तरह की बात करने वाले कुछ खास विचारधारा से प्रेरित होते हैं. लेकिन यह सही है कि अभी तक किसी राजनीतिज्ञ ने नोटों से गांधी की फोटो बदलने की मांग नहीं की थी. हाल ही में  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नोटों पर लक्ष्मी और गणेश की फोटो लगाने की मांग कर देश भर में हलचल मचा दी. केजरीवाल ने भी नोटों से गांधीजी की फोटो हटाने की मांग नहीं की है.  

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अधिकारियों को देश के नोटों पर भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की छवियों को छापने का आदेश देना चाहिए-जो भारतीय पौराणिक कथाओं में धन और समृद्धि के प्रतीक हैं. मांग के पीछे आप प्रमुख का तर्क था कि नोटों पर देवता शुभ होंगे और वे देश को आर्थिक संकट से बचाने में मदद करेंगे. इस मांग के साथ, केजरीवाल ने एक तीर से दो निशाना साधा है. उन्होंने मोदी के नेतृत्व में भारत की आर्थिक समस्याओं पर प्रकाश डाला और भाजपा के इस आरोप को बेअसर करने का प्रयास किया कि आप हिंदू विरोधी है. हालांकि, भाजपा और कांग्रेस ने केजरीवाल की आलोचना करते हुए दावा किया कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश में आगामी चुनावों के मद्देनजर यह मांग की गई थी.

इस साल की शुरुआत में पंजाब विधानसभा चुनाव जीतने के बाद, AAP को भाजपा के लिए प्रमुख चुनौती के रूप में देखा जा रहा है, जो कि कांग्रेस की जगह ले रही है. गुजरात में केजरीवाल और उनके भरोसेमंद सहयोगी, मनीष सिसोदिया और भगवंत मानचुनाव प्रचार के दौरान चर्चा पैदा करते दिखाई देते हैं.भाजपा, जिसने पिछले दो दशकों में गुजरात चुनाव नहीं हारा है, ने आप को "हिंदू विरोधी" कहा है. यह आरोप दिल्ली के एक विधायक के कथित वीडियो से उपजा है जिसमें कथित रूप से धर्मांतरित लोगों को हिंदू देवताओं के सामने कभी प्रार्थना नहीं करने की कसम खाते हुए दिखाया गया है.

भारतीय बैंक मुद्रा का इतिहास

वर्तमान पीढ़ी के अधिकांश लोगों ने नोटों पर महात्मा गांधी की छवि देखी है.बहरहाल, ऐसा हमेशा नहीं होता.वास्तव में, गांधी पहली बार 1969 में अपनी 100वीं जयंती पर बैंकनोटों पर दिखाई दिए.इससे पहले, मंदिर, उपग्रह, बांध और प्रतिष्ठित उद्यान भारतीय कागज के नोटो को सुशोभित करते थे.

  • आरबीआई का गठन 1935 में हुआ था.इसने पहली बार 1938 में एक रुपये का नोट छापा था.इस नोट पर किंग जॉर्ज 6 का चित्र था.
  • आजादी के बाद आरबीआई ने स्वतंत्रता दिवस से तीन दिन पहले 1949 में अपना पहला नोट छापा. इस नोट में भारत का राष्ट्रीय चिन्ह अशोक चिन्ह था.
  • भारत के अग्रणी स्वतंत्रता सेनानी महात्मा गांधी 1969 में भारतीय नोटों पर दिखने लगे. उनकी 100 वीं जयंती मनाने के लिए उनकी फोटो बैंक नोटों पर छापा गया.
  • 1950 के दशक में 1,000 रुपये, 5,000 रुपये और 10,000 रुपये के नोटों में क्रमशः तंजौर मंदिर, गेटवे ऑफ इंडिया और लायन कैपिटल, अशोक प्रतीक थे.
  • बैंक नोटों पर संसद और ब्रह्मेश्वर मंदिर की तस्वीरें भी दिखाई दीं. 2 रुपये के नोट पर भारत का पहला उपग्रह आर्यभट्ट , 5 रुपये के नोट पर कृषि उपकरण, 10 रुपये के नोट पर एक मोर और 20 रुपये के नोट पर एक रथ का पहिया बाद में छापा गया.

अरविंद केजरीवाल ने इंडोनेशियाई बैंक नोटों पर भी भगवान गणेश का जिक्र किया. हालांकि इंडोनेशिया एक मुस्लिम देश है, लेकिन इसकी संस्कृति हिंदू धर्म से प्रभावित है.भगवान गणेश को वहां समृद्धि का प्रतीक माना जाता है. उनके 20,000 रुपये के नोटों पर भगवान गणेश की छवि है.

First Published : 29 Oct 2022, 04:10:12 PM

For all the Latest Specials News, Explainer News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.