News Nation Logo

गुजरात का मोढेरा बनेगा देश का पहला सौर ऊर्जा संचालित गांव, जानें खूबियां

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 09 Oct 2022, 12:11:34 PM
Modhera

मोढेरा के हर घर को मिलेगी 24 घंटे सौर ऊर्जा. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • गांव भर में लगाए गए 1300 से अधिक सोलर पैनल
  • प्रोजेक्ट पर आया है 80 करोड़ रुपये से अधिक खर्च
  • वैश्विक पर्यटन मानचित्र पर लाने की महत्वाकांक्षी योजना

मेहसाणा:  

चालुक्य राजवंश द्वारा सदियों पहले बनवाए गए सूर्य मंदिर के लिए प्रसिद्ध गुजरात (Gujarat) के मेहसाणा के मोढेरा गांव के नाम रविवार शाम एक बड़ी उपलब्धि जुड़ जाएगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) रविवार शाम को मोढेरा को देश का पहला सौर ऊर्चा संचालित गांव घोषित करेंगे. मोढेरा (Modhera) में हरेक घर को 24 घंटे सौर पैनल से ऊर्जा (Solar Energy) मिलेगी. गांव भर के घरों में 1300 के लगभग सौर पैनल लगाए गए हैं. इसके साथ ही पीएम मोदी मोढेरा को वैश्विक पर्यटन मानचित्र पर मजबूती के साथ पेश करने के लिए 3,900 करोड़ रुपये की योजनाओं की आधारशिला भी रखेंगे. 

सदियों पुराना है सूर्य मंदिर
मोढेरा एक संरक्षित पुरातात्विक स्थल है, जिसके ऐतिहासिक सूर्य मंदिर को रविवार से 3-डी प्रोजेक्शन की सुविधा भी मिल जाएगी. सौर ऊर्जा संचालित 3-डी प्रोजेक्शन को पीएम मोदी समर्पित करेंगे और यह प्रत्येक दिन शाम को पर्यटकों और श्रद्धालुओं को मोढेरा के गरिमामयी इतिहास से परिचित कराएगा. गुजरात सरकार के मुताबिक इस प्रोजेक्ट के तहत मंदिर परिसर में हैरिटेज लाइटिंग की व्यवस्था की गई है. इसे देखने के लिए आमजन शाम 6 से रात 10 बजे तक मंदिर में जा सकते हैं.  पुष्पवती नदी के किनारे मेहसाणा जिले के मोढेरा में सूर्य मंदिर स्थित है. इन मंदिरों का चालुक्य वंश के महाराज भीम-प्रथम ने 1026-27 के बीच बनवाया था. 

यह भी पढ़ेंः  Nobel Peace Prize आखिर गांधी जी कभी क्यों नहीं मिला... बड़ा सवाल

मोढेरा और उसका सोलर प्रोजेक्ट

  • गुजरात के मेहसाणा जिले से 25 किलोमीटर दूर स्थित है मोढेरा गांव. सूबे की राजधानी गांधीनगर से यह 100 किमी दूर पड़ता है. पुष्पवती नदी के किनारे स्थिति मोढेरा गांव 2,436 हेक्टेयर क्षेत्रफल में फैला है. यह देश का पहला सौर ऊर्जा संचालित गांव होगा. 
  • मोढेरा गांव में ग्राउंड माउंटेड सोलर पावर प्लांट लगाया गया है. बिजली उत्पन्न करने के लिए गांव के प्रत्येक घर की छत पर एक किलोवॉट क्षमता वाले सोलर पैनल और सोलर सिस्टम लगाए गए हैं. सभी सोलर सिस्टम बैटरी एनर्जी स्टोरेज सिस्टम (बीईएसएस) से जुड़े हुए हैं. 
  • दिन के दौरान गांव और वहां स्थित घरों को सोलर पैनल से बिजली मिलेगी, जबकि शाम को भारत का पहला ग्रिड से जुड़ा मेगावॉट ऑर स्केल बैटरी एनर्जी स्टोरेज सिस्टम घरों को बिजली की आपूर्ति करेगा. 
  • केंद्र और गुजरात सरकार ने सोलर डेवलपमेंट प्रोजेक्ट में दो चरणों में 80 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया है. राज्य सरकार ने इस प्रोजेक्ट के लिए 12 हेक्टेयर जमीन उपलब्ध कराई है. 
  • गुजरात सरकार के मुताबिक यह परियोजना मोढेरा को शुद्ध अक्षय ऊर्जा उत्पन्न करने वाला भारत का पहला गांव बना देगी. इससे यह भी समझ आएगा कि अक्षय ऊर्जा जमीनी स्तर पर लोगों को किस तरह से सशक्त बना सकती है. इस प्रोजेक्ट से गांव के लोग अपने बिजली बिलों में 60 से 100 फीसदी तक की बचत कर सकेंगे.

First Published : 09 Oct 2022, 11:52:14 AM

For all the Latest Specials News, Explainer News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.