News Nation Logo
Banner

अफ़ग़ानिस्तान की अर्थव्यवस्था खस्ताहाल, जानिए अफगान सेंट्रल बैंक का नया आदेश  

अफगानिस्तान के केंद्रीय बैंक ने बैंकों को केवल स्थानीय मुद्रा में प्रेषण का भुगतान करने का आदेश दिया है.

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 12 Sep 2021, 10:47:15 PM
Afghanistan s central bank

केंद्रीय बैंक, अफगानिस्तान (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:

20 सालों बाद एक बार फिर से तालिबान के हाथ में अफ़ग़ानिस्तान का निज़ाम आया है. अब उनके सामने हथियारों से लैस किसी विरोधी धड़े की चुनौती नहीं है बल्कि ढहने की कगार पर पहुंच गई अर्थव्यवस्था से मुकाबला करना है. क्योंकि अफ़ग़ानिस्तान की अर्थव्यवस्था इस बात पर निर्भर करती है कि वहां के हालात कितने नाज़ुक हैं और उसे कितनी आर्थिक सहायता मिल रही है. ताजा घटनाक्रम में अफगानिस्तान के केंद्रीय बैंक ने बैंकों को केवल स्थानीय मुद्रा में प्रेषण का भुगतान करने का आदेश दिया है, मामले से परिचित सूत्रों का कहना है कि यह देश में घटते अमेरिकी डॉलर को संरक्षित करने का नवीनतम कदम है.

पिछले कुछ वर्षों में कठिन मुद्रा प्रेषण ने अफगानिस्तान के लिए बाहरी वित्त का एक महत्वपूर्ण स्रोत बनाया है, लेकिन तालिबान की देश की विजय के बाद डॉलर की उपलब्धता खत्म गई है. मनी एक्सचेंज प्रदाता के एक करीबी सूत्र ने कहा कि अफगानिस्तान में वेस्टर्न यूनियन कंपनी के एजेंट बैंकिंग भागीदारों को पिछले कुछ दिनों में देश के केंद्रीय बैंक से केवल अफगानी मुद्रा में प्रेषण का भुगतान करने का निर्देश मिला है.

सूत्र ने कहा कि निर्देश से पहले भेजे गए प्रेषण और डॉलर के भुगतान के लिए प्रेषक द्वारा चयनित डॉलर में भुगतान जारी रखा जा सकता है. मनीग्राम इंटरनेशनल इंक ने कहा कि वह केवल अफगानी में भुगतान कर रहा था. अगस्त में इस्लामिक मिलिशिया द्वारा काबुल पर कब्जा करने के बाद बैंकिंग सेवाएं निलंबित थीं.  पिछले सप्ताह से अफगानिस्तान में धन-हस्तांतरण सेवाएं फिर से शुरू हो गयी.

इस मुद्दे पर अफगानिस्तान के केंद्रीय बैंक से तुरंत कोई टिप्पणी उपलब्ध नहीं था. दरअसल इस समय अफगानिस्तान के केंद्रीय बैंक के कार्यवाहक गवर्नर हाजी मोहम्मद इदरीस हैं, जिनके पास कोई औपचारिक वित्तीय प्रशिक्षण नहीं है, लेकिन वह  तालिबान के वफादार हैं और उनके नेतृत्व में केंद्रीय बैंक को विदेशी सहायता नहीं मिल पा रहा है. अफगानी अब अपने बचत को निकाल कर विदेश जाना चाहते हैं. लेकिन डॉलर में भुगतान को प्रतिबंधित कर दिया गया है.  

सूत्रों का कहना है कि इस तरह के नियंत्रणों से डॉलर के मुकाबले अफगानी करेंसी के मूल्यह्रास में तेजी आने की उम्मीद है, एक ऐसे देश में मुद्रास्फीति बढ़ रही है जहां एक तिहाई से अधिक आबादी प्रतिदिन 2 डॉलर से कम पर रहती है.

एक अफगानी बैंकर ने कहा, "यह चिंता का विषय है कि अमेरिकी डॉलर की शेष भौतिक नकदी और कम होने जा रही है." "प्रतिबंधों के साथ हम भविष्यवाणी कर रहे हैं कि डॉलर 100 से अधिक अफगानी डॉलर तक पहुंच जाएगा."

15 अगस्त को काबुल पर तालिबान के कब्जे से ठीक पहले अफगानी  मुद्रा डॉलर के मुकाबले करीब 80 पर कारोबार कर रहा था. बैंकर ने कहा कि बैंकों को पिछले हफ्ते केंद्रीय बैंक द्वारा कॉरपोरेट ग्राहकों द्वारा केवल स्थानीय मुद्रा में निकासी को प्रतिबंधित करने के लिए कहा गया था, जो प्रत्येक ग्राहक की साप्ताहिक परिचालन लागत का लगभग 20% था.

डॉलर में लगभग 80% बैंकिंग जमा के साथ, बैंकरों का कहना है कि नियंत्रण से दिवाला के जोखिम को कम करना चाहिए. अगस्त की दूसरी छमाही में फिर से खुलने के बाद से, बैंक सीमित सेवाओं के साथ काम कर रहे हैं, जिसमें निकासी पर $200 साप्ताहिक सीमा और कुछ वायर ट्रांसफर शामिल हैं.

First Published : 12 Sep 2021, 10:45:59 PM

For all the Latest Specials News, Exclusive News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

LiveScore Live IPL 2021 Scores & Results

वीडियो

×