News Nation Logo

नया स्मार्टफोन क्लिप-ऑन जीका वायरस का पता लगाने में हो सकता है मददगार

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 31 Jul 2022, 01:00:02 AM
ZikaViruphotoIANS Twitter

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

न्यूयॉर्क:   शोधकर्ताओं की एक टीम एक ऐसे उपकरण को विकसित करने के लिए काम कर रही है, जिसे स्मार्टफोन पर क्लिप किया जा सकता है ताकि रक्त की एक बूंद के साथ जीका वायरस के लिए तेजी से परीक्षण किया जा सके।

जिका वायरस के संक्रमण का पता वर्तमान में एक प्रयोगशाला में किए गए पोलीमरेज चेन रिएक्शन परीक्षणों के माध्यम से लगाया जाता है, जो वायरस की आनुवंशिक सामग्री को बढ़ा सकता है, जिससे वैज्ञानिकों को इसका पता लगाने की अनुमति मिलती है।

अमेरिका में अर्बाना-शैंपेन में इलिनोइस विश्वविद्यालय के ब्रायन कनिंघम ने कहा, हमने एक क्लिप-ऑन डिवाइस डिजाइन किया है ताकि स्मार्टफोन का रियर कैमरा काटिर्र्ज को देख सके।

कनिंघम ने कहा कि जब सकारात्मक प्रतिक्रिया होती है, तो आप फ्लोरोसेंस के छोटे हरे रंग के फूल देखते हैं जो अंतत: पूरे कारतूस को हरी रोशनी से भर देते हैं।

नए अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पॉइंट-ऑफ-केयर क्लीनिक के लिए उपयुक्त दृष्टिकोण का उपयोग करके रक्त के नमूनों में वायरस का पता लगाने के लिए लूप-मेडियेटेड इजोथर्मल एम्प्लीफिकेशन का उपयोग किया। जबकि पीसीआर को आनुवंशिक सामग्री को बढ़ाने के लिए 20 से 40 बार-बार तापमान परिवर्तन की आवश्यकता होती है, एलएएमपी को केवल एक तापमान 65 डिग्री सेल्सियस की आवश्यकता होती है, जिससे इसे नियंत्रित करना आसान हो जाता है।

इसके अतिरिक्त, पीसीआर परीक्षण दूषित पदार्थो, विशेष रूप से रक्त के नमूने के अन्य पुर्जो के प्रति बहुत संवेदनशील होते हैं। नतीजतन, नमूने को इस्तेमाल करने से पहले इसे शुद्ध किया जाता है। दूसरी ओर, एलएएमपी को ऐसे किसी शुद्धिकरण चरण की आवश्यकता नहीं होती है।

एक काटिर्र्ज, जिसमें वायरस का पता लगाने के लिए आवश्यक अभिकर्मक होते हैं, परीक्षण करने के लिए उपकरण में डाला जाता है, जबकि उपकरण को स्मार्टफोन पर क्लिप किया जाता है।

एक बार जब रोगी रक्त की एक बूंद डालता है, तो रसायनों का एक सेट पांच मिनट के भीतर वायरस और रक्त कोशिकाओं को तोड़ देता है। काटिर्र्ज के नीचे एक हीटर इसे 65 डिग्री सेल्सियस तक गर्म करता है।

रसायनों का दूसरा सेट तब वायरल आनुवंशिक सामग्री को बढ़ाता है और यदि रक्त के नमूने में जीका वायरस होता है, तो काटिर्र्ज के अंदर का तरल चमकीले हरे रंग का हो जाता है। पूरी प्रक्रिया में 25 मिनट लगते हैं।

शोधकर्ता अब एक साथ अन्य मच्छर जनित वायरस का पता लगाने के लिए समान उपकरण विकसित कर रहे हैं और उपकरणों को और भी छोटा बनाने पर काम कर रहे हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 31 Jul 2022, 01:00:02 AM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.