News Nation Logo

विश्व स्वास्थ्य नेटवर्क ने मंकीपॉक्स के प्रकोप को महामारी घोषित किया

विश्व स्वास्थ्य नेटवर्क ने मंकीपॉक्स के प्रकोप को महामारी घोषित किया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Jun 2022, 03:20:01 PM
World Health

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

वाशिंगटन:   इस समय मंकीपॉक्स का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है। इस वायरस ने 42 देशों में 3,417 लोगों को संक्रमित किया है। इसको देखते हुए वैज्ञानिक और नागरिक टीमों के वैश्विक सहयोग विश्व स्वास्थ्य नेटवर्क (डब्ल्यूएचएन) ने गुरुवार को मंकीपॉक्स को महामारी घोषित किया।

यह घोषणा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की गुरुवार को होने वाली बैठक से पहले की गई है।

डब्ल्यूएचएन ने संक्रमण के मामलों को ट्रैक करने वाली वेबसाइट मंकीपॉक्समीटर का हवाला देते हुए कहा कि अब 58 देशों में 3,417 पुष्ट मंकीपॉक्स के मामले सामने आए हैं, और इसका प्रकोप तेजी से कई महाद्वीपों में फैल रहा है।

डब्ल्यूएचएन ने मंकीपॉक्स को आपदा बनने से रोकने के लिए डब्ल्यूएचओ और राष्ट्रीय रोग नियंत्रण और रोकथाम संगठनों द्वारा तत्काल कार्रवाई करने का आग्रह किया है।

इसने कहा कि भले ही मृत्युदर चेचक की तुलना में बहुत कम है, लेकिन इसके फैलाव को रोकने के लिए अगर ठोस वैश्विक कार्रवाई नहीं की जाएगी, तो संक्रमण से लाखों लोगों की मौत हो जाएगी और कई संक्रमित लोग अंधे और विकलांग हो जाएंगे।

महामारी विज्ञानी, स्वास्थ्य अर्थशास्त्री और डब्ल्यूएचएन के सह-संस्थापक एरिक फीगल-डिंग ने एक बयान में कहा, डब्ल्यूएचओ को तत्काल अपने स्वयं के सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल को अंतर्राष्ट्रीय चिंता (पीएचईआईसी) घोषित करने की जरूरत है - जनवरी 2020 की शुरुआत में तुरंत (कोविड-19) को पीएचईआईसी घोषित नहीं करने के सबक को इतिहास के सबक के रूप में याद किया जाना चाहिए। यह समझना चाहिए कि महामारी का मतलब दुनिया के लिए हो सकता है।

न्यू इंग्लैंड कॉम्प्लेक्स सिस्टम इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष और डब्ल्यूएचएन के सह-संस्थापक यानीर बार-यम ने कहा, मंकीपॉक्स महामारी के और बढ़ने की प्रतीक्षा करने का कोई औचित्य नहीं है। अब आवश्यक कार्यो के लिए केवल लक्षणों के बारे में स्पष्ट सार्वजनिक संचार, व्यापक रूप से उपलब्ध टेस्ट और बहुत कम आइसोलेशन के साथ कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की जरूरत है। इसमें देरी किसी भी प्रयास को मुश्किल बनाती है और उसका अधिक गंभीर परिणाम सामने आता है।

अब तक ज्यादातर मामले वयस्कों में हुए हैं, लेकिन बच्चों में किसी भी तरह के फैलाव से मामले गंभीर हो सकते हैं और अधिक मौतें हो सकती हैं। जानवरों, विशेष रूप से चूहों और अन्य छोटे जंतुओं, बल्कि पालतू जानवरों में संक्रमण होने पर प्रकोप को फैलने से रोकना और भी मुश्किल हो जाएगा। निष्क्रिय रूप से प्रतीक्षा करने से बिना किसी क्षतिपूर्ति लाभ के ये नुकसान होंगे।

मंकीपॉक्स एक ऐसा वायरस है, जिसमें गंभीर दर्दनाक बीमारी सहित जनता को महत्वपूर्ण नुकसान पहुंचाने की क्षमता है, जिसके लिए अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत हो सकती है और इसके परिणामस्वरूप मृत्यु, त्वचा पर निशान, अंधापन और अन्य दीर्घकालिक विकलांगता हो सकती है। गंभीर बीमारी की चपेट में सबसे अधिक बच्चे, गर्भवती और वे लोग शामिल हैं जो प्रतिरक्षा से समझौता करते हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Jun 2022, 03:20:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.