logo-image
लोकसभा चुनाव

आपका जीवन खतरे में, तबाह होने से बच गई पृथ्‍वी, 3 क्षुद्रग्रह (Asteroid) टकराते-टकराते से रह गए

इनके टकराने से सुनामी, समुद्र लहरें और तेज हो सकती थीं और हवाएं विनाश का कारण बन सकती थीं.

Updated on: 25 Jul 2019, 10:30 AM

नई दिल्‍ली:

हम बाल-बाल बच गए. खतरनाक तरीके से पृथ्‍वी की ओर आ रहे तीन विशाल क्षुद्रग्रह (Asteroid) 2019 OD', '2015 HM10' और '2019 OE' पृथ्‍वी से टकराने से बच गए. क्षुद्रग्रह (Asteroid) पृथ्वी से टकराते तो हमारे ग्रह और मानव जीवन के लिए भयंकर विनाश का कारण बन सकते थे. इनके टकराने से सुनामी, समुद्र लहरें और तेज हो सकती थीं और हवाएं विनाश का कारण बन सकती थीं.

यह भी पढ़ें : कर्नाटक के बाद मध्य प्रदेश पर थी नजर, लेकिन कमलनाथ के इस 'मास्टर स्ट्रोक' से हिल गई बीजेपी

Express.co.uk द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, तीन विशाल क्षुद्रग्रहों में से एक 2019 OD 42,926mph की गति से पृथ्‍वी की ओर आ रहा था. हालांकि सतह से 222,164 मील दूर से ही वह पृथ्वी की कक्षाओं को पार कर गया. यह चंद्रमा की तुलना में पृथ्‍वी से 16,726 मील नजदीक आ गया था. Asteroid 2019 OD चौड़ाई में 393 फीट था. Asteroid 2019 OD को केवल तीन सप्ताह पहले देखा गया था.

इस बीच, 7:01 बजे (आईएसटी) 2015 एचएम 10 पृथ्वी से लगभग 2.9 मिलियन मील की दूरी पर पहुंच गया था. दूसरी ओर, लगभग 8:05 बजे (IST) 2019 OE पृथ्वी से 600,494 मील दूर था. यहां यह उल्लेखनीय है कि इन दो अन्य क्षुद्रग्रहों ने भी ब्रेकनेक गति से यात्रा की थी. 2015 HM10 361 फीट चौड़ा था, 21,273mph की रफ्तार से चल रहा था.

यह भी पढ़ें : दिल्ली के तीनों लैंडफिल साइट बदले जाएंगे बायोडायवर्सिटी पार्क में, पढ़ें योजना की पूरी detail

हवाई विश्वविद्यालय की एक टीम ने MO 2019 एमओ ’नाम के क्षुद्रग्रह का पता लगाया, जो पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करने से पहले सिर्फ 13 फीट व्यास का था. यह चट्टान पृथ्वी से 310,685 मील दूर था. क्षुद्रग्रह छोटे, चट्टानी पदार्थ हैं जो सूर्य की परिक्रमा करते हैं. हालांकि क्षुद्रग्रह सूर्य की तरह ग्रहों की परिक्रमा करते हैं, वे ग्रहों की तुलना में बहुत छोटे होते हैं. क्षुद्रग्रह पृथ्वी के लिए और मानव प्रकार के लिए भी बेहद खतरनाक हो सकते हैं. क्षुद्रग्रह गुरुत्वाकर्षण बल के कारण पृथ्वी की ओर जाते हैं.

Spacetelescope.org की एक रिपोर्ट के अनुसार, अंतरिक्ष में 7 लाख से अधिक क्षुद्रग्रह पाए गए हैं. इसमें आगे कहा गया है कि क्षुद्रग्रह मुख्य रूप से मंगल और बृहस्पति की कक्षाओं के बीच 'मुख्य बेल्ट' नामक क्षेत्र में पाए जाते हैं.