News Nation Logo
Banner

गैर-कोविड रोगियों के लिए ट्रॉमा सेवा के लिए चरणबद्ध तरीके के योजना के खिलाफ आरडीए एम्स

गैर-कोविड रोगियों के लिए ट्रॉमा सेवा के लिए चरणबद्ध तरीके के योजना के खिलाफ आरडीए एम्स

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 20 Aug 2021, 10:40:01 PM
RDA AIIMS

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) प्रशासन गैर-कोविड रोगियों के लिए चरणबद्ध तरीके से एम्स ट्रॉमा सेंटर शुरू करने पर विचार कर रहा है क्योंकि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना मामलों में काफी कमी आई है। मार्च 2020 में केंद्र को कोविड-19 उपचार के लिए समर्पित घोषित करते हुए ट्रॉमा सुविधाओं को मुख्य एम्स भवन में शिफ्ट कर दिया गया है।

रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (आरडीए) ने एम्स प्रशासन को ट्रॉमा सेवा शुरू करने के लिए कई बार लिखा था क्योंकि अब कोविड के केस कम हो गये हैं। हाल ही में आरडीए के साथ हुई बैठक में गैर-कोविड मरीजों के लिए चरणबद्ध तरीके से ट्रॉमा सेंटर शुरू करने का प्रस्ताव किया गया है।

हालांकि, एम्स आरडीए ने ट्रॉमा सेंटर के लिए चरणबद्ध तरीके से योजना पर आपत्ति जताई है। आरडीए के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि उन्हें उतने ही दर्दनाक मरीज मिल रहे हैं जितने कोविड से पहले मिलते थे। आरडीए अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने हमें सेवा शुरू करने के लिए सिर्फ दो से तीन वार्ड उपलब्ध कराए हैं जो सभी मरीजों को संभालने के लिए पर्याप्त नहीं है।

आरडीए अधिकारी ने कहा, एम्स प्रशासन द्वारा हाल ही में आयोजित एक आम सभा में, आघात रोगियों को पूरा करने के लिए जय प्रकाश नारायण एपेक्स ट्रॉमा सेंटर (जेपीएनएटीसी) में कुछ सामान्य वार्ड आवंटित करने का निर्णय लिया गया था। आपातकालीन, ऑपरेटिव और आईसीयू आघात देखभाल के तीन स्तंभ हैं। एम्स प्रशासन ने हाल के एक फैसले में, इनकी अनुपलब्धता इनके परिणामस्वरूप रोकी जा सकने वाली मौतों में वृद्धि होगी। हालांकि, जेपीएनएटीसी में पीड़ितों के लिए आपातकालीन, आईसीयू और ऑपरेटिव देखभाल सेवाओं की उपलब्धता से इनकार किया है।

आरडीए का कहना है कि मुख्य एम्स में प्रचलित ट्रॉमा केयर से संबंधित मुद्दे जैसे कि आपातकालीन परिचालन हस्तक्षेप में देरी, मध्यम से गंभीर चोट वाले रोगियों का ट्रांसफर आदि समान रहेंगे।

अधिकारी ने कहा कि कोविड से पहले जय प्रकाश नारायण ट्रॉमा सेंटर में 38 आईसीयू बेड सहित कुल 264 बेड थे, कोविड के बाद इसे घटाकर 95 बेड कर दिया गया है, जिसमें 18 आईसीयू बेड शामिल हैं। आरडीए के अधिकारियों ने कहा, महामारी के समय में एआईएमएमएस की कई इमारतें पूरी तरह खाली हैं, जहां कोविड सेवाएं शुरू की जा सकती हैं।

आरडीए अधिकारी ने कहा कि आरडीए ने एम्स प्रशासन से जेपीएनएटीसी में कुल ट्रॉमा सुविधाओं को बहाल करने का अनुरोध किया है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 20 Aug 2021, 10:40:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो