News Nation Logo
29 अक्टूबर से पीएम मोदी का इटली दौरा जेल में डालने वाला आज जेल में जाने से डरने लगा: नवाब मलिक जो फर्जीवाड़ा किया गया है, वो खुल खुलकर सामने आने लगा है: नवाब मलिक पंजाब में AAP की सरकार बनी, तो प्रदेश में किसी किसान को नहीं करने देंगे खुदकुशी: अरविंद केजरीवाल शाहरुख खान की 'मन्नत' पूरी, आर्यन को बेल; अब मन्नत में मनेगी दीपावली आर्यन खान समेत तीनों आरोपियों के विदेश जाने पर रोक भारत हमेशा से एक शांतिप्रिय देश रहा है और आज भी है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह हमारा देश किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह किसी भी विवाद को अपनी तरफ़ से शुरू करना हमारे मूल्यों के ख़िलाफ़ है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों को वैक्सीन की 108 करोड़ डोज़ उपलब्ध कराई गईं: स्वास्थ्य मंत्रालय कर्नाटकः कोडागू जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय में 32 बच्चे कोरोना पॉजिटिव महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वासले हुए कोरोना पॉजिटिव कोरोना अपडेटः पिछले 24 घंटे में देश में 16,156 केस आए, 733 मरीजों की मौत हुई जम्मू-कश्मीरः डोडा में खाई में गिरी मिनी बस, 8 लोगों की मौत आर्य़न खान ड्रग्स केस में गवाह किरण गोसावी पुणे से गिरफ्तार पेट्रोल और डीजल के दामों में 35 पैसे की बढ़ोतरी कैप्टन अमरिंदर सिंह आज फिर मुलाकात करेंगे गृह मंत्री अमित शाह से क्रूज ड्रग्स मामले में आर्यन खान की जमानत पर आज फिर दोपहर में सुनवाई पीएम नरेंद्र मोदी आज आसियान-भारत शिखर वार्ता को करेंगे संबोधित दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पंजाब के दो दिवसीय दौरे पर आज जाएंगे

अफगानिस्तान में पोलियो, कोविड के पनपने का खतरा

अफगानिस्तान में पोलियो, कोविड के पनपने का खतरा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 29 Sep 2021, 12:15:01 AM
People line

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

लंदन: पिछले महीने अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होने और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों द्वारा धन की निकासी किए जाने बाद से वहां पोलियो, कोविड-19 और अन्य बीमारियों के फिर से पनपने का खतरा बढ़ गया है, जिसके वैश्विक प्रभाव हो सकते हैं। यह बात नेचर की रिपोर्ट में कही गई है।

सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन वूमेन एंड चाइल्ड हेल्थ और इंस्टीट्यूट फॉर ग्लोबल हेल्थ एंड डेवलपमेंट के संस्थापक निदेशक जुल्फिकार ए. भुट्टा ने पाकिस्तान के आगा खान विश्वविद्यालय की पत्रिका में लिखा है कि पिछले 20 वर्षो में देश की उपलब्धियों के बावजूद, बच्चों और महिलाओं का स्वास्थ्य अनिश्चित बना हुआ है।

साल 2001 में अमेरिका के नेतृत्व वाले गठबंधन द्वारा तालिबान को उखाड़ फेंके जाने के तुरंत बाद, संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों ने देशभर में खसरा-प्रतिरक्षण अभियान शुरू किया, जिसमें 1.7 करोड़ बच्चों को लक्षित किया गया था। उस समय तक तीन में से एक अफगान बच्चे का कोई टीकाकरण नहीं हुआ था।

अभियानों ने 2002 और 2003 में लक्षित आबादी के 96 प्रतिशत का टीकाकरण किया और 2014 तक इसमें और प्रगति की। लेकिन जैसे ही तालिबान ने फिर से घुसपैठ की, पोलियो कार्यकर्ताओं के घर-घर जाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

भुट्टा ने कहा, अफगानिस्तान में 2018 और 2020 के बीच पोलियो के मामले तीन गुना हो गए हैं। लगभग 30 लाख बच्चे, जिनमें से एक तिहाई पात्र हैं, टीकाकरण अभियान से बाहर हो गए।

लेकिन अब, तालिबान के पूर्ण अधिग्रहण के साथ, अफगानिस्तान ने विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष से विकास निधि खो दी है, और अमेरिका ने लगभग 7 अरब डॉलर अफगान सरकार के फंड को फ्रीज कर दिया है।

इसका अर्थ है बुनियादी स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने वाले गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) और स्वास्थ्य देखभाल श्रमिकों को भुगतान करने के लिए पैसा नहीं है।

देश में कोविड-19 टीकों की लगभग 30 लाख खुराक का भंडार है और जल्द ही इसके खत्म होने की संभावना है।

यह सब वैश्विक प्रभाव के साथ एक स्थानीय मानवीय आपदा में बदल सकता है।

भुट्टा ने लिखा, मुझे डर है कि यह अब और भी बदतर हो जाएगा। अफगानिस्तान में पोलियो और कोविड-19 दोनों संक्रमण पड़ोसी देशों में फैल सकते हैं। जब तक प्रसारण बाधित नहीं होता, पूरी दुनिया खतरे में है।

भुट्टा ने दुनिया के देशों से पोलियो और अन्य बीमारियों को नियंत्रण में लाने के लिए काबुल के नए शासकों के साथ काम करने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा, अब देश को चलाने वाले तालिबान के पास दुनिया और अफगानिस्तान के लोगों के लिए एक व्यावहारिक, सुधारवादी चेहरा दिखाने का अवसर है। उसे स्वास्थ्य प्रणाली चलाने की जरूरत है, जासूसों और राजनीतिक विरोधियों के बारे में जुनूनी होने के बजाय महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा के बारे में अधिक देखभाल करने की जरूरत है।

तीन में से एक अफगान इस समय भी भूख से जूझ रहा है।

भुट्टा ने कहा, सर्दियों के दौरान सुरक्षित खाद्य आपूर्ति में मदद करने, बैंकों जैसी वित्तीय सेवाओं को फिर से खोलने और इस साल विस्थापित हुए अनुमानित 500,000 लोगों को उनके घरों में लौटने के लिए धन की तत्काल आवश्यकता है।

उन्होंने कहा, देशों को अपने समर्थन को औपचारिक रूप देना चाहिए, और समझौतों में स्वास्थ्य देखभाल के प्रावधानों को शामिल करना चाहिए। वे जरूरत की इस घड़ी में निरंकुश समर्थन के पात्र हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 29 Sep 2021, 12:15:01 AM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.