News Nation Logo

वैश्विक स्तर पर रैंसमवेयर हमले या उल्लंघन का 1/3 से अधिक फर्मो ने अनुभव किया

वैश्विक स्तर पर रैंसमवेयर हमले या उल्लंघन का 1/3 से अधिक फर्मो ने अनुभव किया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 14 Aug 2021, 08:10:01 PM
Over 13rd

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   एक नए सर्वेक्षण के अनुसार, दुनियाभर में लगभग एक तिहाई संगठनों ने पिछले 12 महीनों में रैंसमवेयर हमले या उल्लंघन का अनुभव किया है, जिसने सिस्टम या डेटा तक पहुंच को अवरुद्ध कर दिया है।

इंटरनेशनल डेटा कॉरपोरेशन (आईडीसी) के एक सर्वेक्षण में कहा गया है कि जो लोग रैंसमवेयर के शिकार हुए हैं, उनके लिए कई रैंसमवेयर घटनाओं का अनुभव होना असामान्य नहीं है।

आईडीसी में साइबर सिक्योरिटी प्रोडक्ट्स के प्रोग्राम वाइस प्रेसिडेंट फ्रैंक डिक्सन ने कहा, रैनसमवेयर आज का दुश्मन बन गया है। जिस खतरे की आशंका पहले पेन्सिलवेनिया एवेन्यू पर थी और बाद में वॉल स्ट्रीट पर उससे घृणा की गई थी, अब यह मेन स्ट्रीट पर बातचीत का विषय है।

उन्होंने कहा, जैसा कि साइबर-अपराधियों का लालच बढ़ गया है, रैंसमवेयर में भी परिष्कार आया है, यह आगे बढ़ रहा है, विशेषाधिकारों को ऊंचा कर रहा है, सक्रिय रूप से पता लगाने से बच रहा है, डेटा को बाहर निकाल रहा है, और बहुआयामी जबरन वसूली का लाभ उठा रहा है। डिजिटल परिवर्तन के अंधेरे पक्ष में आपका स्वागत है।

विश्वव्यापी दर (37 प्रतिशत) की तुलना में अमेरिका में स्थित कंपनियों (7 प्रतिशत) के लिए घटना दर उल्लेखनीय रूप से कम थी।

विनिर्माण और वित्त उद्योगों ने उच्चतम रैंसमवेयर घटना दर की सूचना दी, जबकि परिवहन, संचार और उपयोगिताओं/मीडिया उद्योगों ने सबसे कम दरों की सूचना दी।

निष्कर्षो से पता चला, केवल 13 प्रतिशत संगठनों ने रैंसमवेयर हमले/उल्लंघन का अनुभव करने और फिरौती न देने की सूचना दी।

जबकि औसत फिरौती भुगतान लगभग एक चौथाई मिलियन डॉलर था, कुछ बड़े फिरौती भुगतान (1 मिलियन डॉलर से अधिक) ने औसत को तिरछा कर दिया।

परिणामों ने यह भी दिखाया कि जो संगठन अपने डिजिटल परिवर्तन (डीएक्स) प्रयासों में आगे हैं, उनमें रैंसमवेयर घटना का अनुभव होने की संभावना कम थी।

सर्वेक्षण में दिखाया गया है, ये ऐसे संगठन हैं, जिन्होंने उद्यम रणनीति से जुड़े बहु-वर्षीय दृष्टिकोण के साथ दीर्घकालिक डीएक्स निवेश योजना के लिए प्रतिबद्ध है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 14 Aug 2021, 08:10:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.